सौम्या ने बढ़ाया इलाहाबाद का गौरव

2018-05-01T07:01:31Z

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की पीजी एडमिशन मेरिट में सिक्योर की सेकंड पोजीशन

इलाहाबाद की निवासिनी सौम्या तिवारी ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंजेस की आल इंडिया लेवल पर होने वाली परीक्षा में सेकंड पोजीशन गेन करके शहर का मान बढ़ाया है। बता दें कि पीजी लेवल के इस कोर्स के लिए कुल 20 छात्रों का चयन होता है।

पिता का सहयोग मां से प्रेरणा

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट से एक्सक्लूसिव बातचीत में सौम्या ने कहा कि सफलता का कोई शार्ट कट नहीं होता। इसके लिए रेग्युलर राइट डायरेक्शन में पढ़ाई करनी होती है। मैं ऐसा कर पायी तो इसलिए क्योंकि मेरे पिता डॉ कमलेश तिवारी ने सहयोग किया। मां सुषमा तिवारी हमेशा से मेरी प्रेरणा रहीं। साइंस स्ट्रीम की स्टूडेंट ने सोशल फील्ड क्यों चुनी के जवाब में सौम्या का कहना था कि मेरी मां ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से संस्कृत में पीजी किया है। पिता जी को मैने तमाम लोगों की मदद करते हुए देखा है। इसी से मन में आया कि मैं भी क्यूं न सोशल फील्ड में जाऊं। इसीलिए साइंस स्ट्रीम के किसी कोर्स के स्थान पर मैने इस फील्ड में जाने को तवज्जो दी।

एक सीट के 20 थे दावेदार

यूजीसी मान्यता प्राप्त टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज इस फील्ड में सबसे रिनाउंड माना जाता है। जनवरी में हुए प्री टेस्ट में देशभर से हजारों छात्र इसमें शामिल हुए थे। सेकंड फेज रिटेन कम इंटरव्यू के लिए 400 छात्रों का चयन किया गया था। बताते चलें कि सेकंड फेज में एक घंटे का रिटेन एग्जाम और फिर इंटरव्यू होता है। इसके आधार पर 20 लोगों का सेलेक्शन होता है। सौम्या इन इस साल दिल्ली यूनिवर्सिटी से अंग्रेजी ऑनर्स के साथ ग्रेजुएशन का एग्जाम दिया है। उन्हें 18 मई को रिपोर्ट करना है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.