आधार ने घटा दिए स्कॉलरशिप के आवेदक

2018-08-26T06:00:43Z

-माता-पिता का आधार जरूरी होने से इस बार घट गई स्टूडेंट्स की संख्या

- लास्ट डेट करीब होने से समाज कल्याण विभाग संख्या बढ़ाने की कवायद में जुटा

VARANASI

इस बार स्कॉलरशिप और शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए माता-पिता का आधार जरूरी होने से आवेदकों की संख्या काफी घट गई है। लास्ट डेट करीब है, लेकिन अभी तक सिर्फ दस फीसदी स्टूडेंट्स ही आवेदन कर सके हैं। वहीं स्टूडेंट्स के आवेदन की हार्डकॉपी लखनऊ नहीं भेजी जा सकी है। इससे वेबसाइट पर इनकी संख्या उपलब्ध नहीं है। अब समाज कल्याण विभाग परेशान है। वह आवेदकों की संख्या बढ़ाने की कवायद में जुट गया है। प्रिंसिपल्स और शिक्षा विभाग के अफसरों के साथ बैठक कर छात्र-छात्राओं को मोटीवेट करने की अपील की गई है।

नई व्यवस्था अपात्रों पर भारी

दरअसल, पिछले साल तक स्टूडेंट्स का आधार और आय प्रमाणपत्र के आधार पर स्कॉलरशिप और शुल्क प्रतिपूर्ति दे दी जाती थी, लेकिन कई जगहों पर इनकम सर्टिफिकेट्स की जांच में गड़बड़ी पकड़ में आई। जिसके बाद शासन ने इस बार आवेदकों को माता-पिता का आधार कार्ड लगाना अनिवार्य कर दिया। इससे निर्धारित आय सीमा से ज्यादा वाले पेरेंट्स के बच्चे आवेदन करने से पीछे हट गए।

सर्वर स्लो, स्टूडेंट्स परेशान

समाज कल्याण विभाग की वेबसाइट पर स्टूडेंट्स को आवेदन करना है। एक जुलाई से यह प्रॉसेस चल रहा है। पिछले कई दिनों से स्थिति यह है कि दिन में आवेदन करते समय वेबसाइट हैंग कर जा रही है। स्टूडेंट हिमांशु यादव, चित्रेश तिवारी, पूजा सिंह, आर्यन दूबे आदि ने बताया कि साइबर कैफे में ऑनलाइन आवेदन करते समय सर्वर की धीमी गति होने से आधार, फोटो आदि अपलोड करने में काफी समय लग गया। इस बार यूपी एनआईसी की जगह वेबसाइट संचालन की जिम्मेदारी यूपी डेस्को को दी गई है।

सिस्टम ऑनलाइन, पर प्रॉसेस लंबा

छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए पहले मैनुअल आवेदन करने पर समाज कल्याण विभाग स्टूडेंट्स की संख्या के हिसाब से स्कूल के एकाउंट में पैसा भेज देता था। फिर स्कूल निर्धारित धनराशि का चेक काटकर स्टूडेंट्स को दे देते थे, लेकिन ऑनलाइन सिस्टम होने से पैसा सीधे उनके खाते में जाने लगा है। यह प्रॉसेस थोड़ी लम्बा है। आवेदन करने के बाद स्टूडेंट्स, उनके पेरेंट्स का कई बिन्दुओं पर वेरीफिकेशन कराना होता है। ऑनलाइन आवेदन करने के बाद उसकी हार्डकॉपी लखनऊ भेजी जाती है।

एक नजर

31

अगस्त तक है आवेदन की लास्ट डेट

20

हजार स्टूडेंट्स ने किया है अब तक आवेदन

15

हजार आवेदकों की हार्डकॉपी नहीं भेजी गई है लखनऊ

2.5

लाख स्टूडेंट्स ने पिछले साल किया था आवेदन

2.5

लाख है अधिकतम आय सीमा

1500 से 40

हजार तक मिलती है स्कॉलरशिप व शुल्क प्रतिपूर्ति

प्रिंसिपल्स को स्टूडेंट्स को मोटीवेट करने के लिए कहा गया है। वेबसाइट सम्बंधी तकनीकी दिक्कत को दूर करने के लिए यूपी डेस्को को लेटर भेजा गया है। प्रयास है कि तय समय सीमा में ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स का आवेदन हो जाए।

पीके सिंह, जिला समाज कल्याण अधिकारी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.