सेंसेक्स में 1030 अंकों का उछाल, NSE निफ्टी 14950 के स्तर पर

शेयर बाजार का प्रमुख सूचकांक बुधवार को सेंसेक्स 1030.28 अंक और निफ्टी 270 अंक उछल कर बंद हुआ। इंडेक्स में यह तेजी एनएसई में तकनीकी गड़बड़ी की वजह से शाम 3.45 बजे दोबारा कारोबार शुरू होने के कारण वित्तीय शेयरों में जबरदस्त खरीदारी से आई।

Updated Date: Wed, 24 Feb 2021 08:57 PM (IST)

मुंबई (पीटीआई)। एनएसई निफ्टी 274.20 अंक या 1.86 प्रतिशत तेजी के साथ 14,982 अंक के स्तर पर पहुंच गया। इसी तरह 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 1,030.28 अंक या 2.07 प्रतिशत तेजी के साथ 50,781.69 अंक के स्तर पर पहुंच कर बंद हुआ। सेंसेक्स पैक में एक्सिस बैंक टाॅप गेनर रहा। इसके शेयरों में तकरीबन 5 प्रतिशत की तेजी देखने को मिली।सेंसेक्स पैक में पावरग्रिड टाॅप लूजरसेंसेक्स में शामिल एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, बजाज फाइनेंस और एसबीआई के शेयर लाभ के साथ बंद हुए। दूसरी ओर पावरग्रिड, डाॅ. रेड्डीज, टीसीएस और एशियन पेंट्स के शेयर बिकवाली के दबाव में टूट कर नुकसान के साथ बंद हुए।शाम 5 बजे तक हुआ कारोबार
शाम 3.30 बजे कारोबार बंद होने से मिनट भर पहले बीएसई और एनएसई ने कहा कि उनके शेयर बाजार शाम 5 बजे तक खुले रहेंगे। सुबह 1140 बजे एनएसई में तकनीकी गड़बड़ी के कारण कारोबार बंद हो गया था, जिसकी वजह से दोनों एक्सचेंज ने यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया। एनएसई में तकनीकी गड़बड़ी कनेक्टिविटी की वजह से आई थी।वित्तीय शेयरों में खरीद से तेजी


हालांकि एनएसई की तकनीकी गड़बड़ी का बीएसई पर असर नहीं पड़ा और वहां कारोबार चालू था। एलकेपी सिक्योरिटीज के रिसर्च हेड एस रंगनाथन ने कहा, 'कारोबार का समय शाम 5 बजे तक बढ़ा देने से वित्तीय शेयरों में जमकर खरीदारी हुई और इंडेक्स 2 प्रतिशत तक तेज होकर बंद हुए। वित्तीय शेयरों में यह तेजी सरकार के एक फैसले के बाद आई जिसमें निजी बैंकों के साथ सरकारी कारोबार पर प्रतिबंध हटा लिया गया।'कच्चा तेल 65.10 डाॅलर प्रति बैरलएशियाई बाजारों में शंघाई, हांगकांग, सियोल और टोक्यो के शेयर बाजार निगेटिव नोट के साथ बंद हुए। यूरोपीय शेयर बाजार में मिड सेशन कारोबार लाभ के साथ हुए। ग्लोबल मार्केट में कच्चा तेल ब्रेंट क्रूड का सौदा 0.96 प्रतिशत तेजी के साथ 65.10 डाॅलर प्रति बैरल के भाव पर हुआ। अमेरिकी डाॅलर के मुकाबले रुपया 11 पैसे मजबूत रहा। एक डाॅलर की कीमत 72.35 रुपये रही।

Posted By: Satyendra Kumar Singh
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.