सिम बंद कर खाते से निकाल लिए 725 लाख

2017-03-19T07:41:10Z

-पीएनबी पनकी इंडस्ट्रीयल एरिया ब्रांच में हुई ठगी, करंट अकाउंट से एक ही दिन में कई खातों से निकले लाखों रुपए

-गोविंद नगर पुलिस ने दर्ज की रिपोर्ट, अलग-अलग शहरों के खातों में गया पैसा, लेकिन केवाईसी में फोन नंबर एक

KANPUR : पनकी में ऑनलाइन ठगी का एक बेहद पेचीदा मामला सामने आया है, जिसमें खाताधारक के खाते से लिंक मोबाइल के बंद होने के बाद 7.25 लाख रुपए निकल गए। यह रुपए एक ही दिन आगरा, बागपत और फतेहपुर स्थित अलग-अलग बैंकों के खातों में निफ्ट और आरटीजीएस के जरिए ट्रांसफर हुए। खाताधारक का मोबाइल दो दिन पहले ठीक हुआ, जो मोबाइल मैसेज के जरिए उसे खाते से रुपए जाने की जानकारी मिली। उसने फौरन बैंक में शिकायत की, लेकिन वहां कोई सुनवाई नहीं हुई, जिसके बाद पीडि़त खाताधारक ने गोविंद नगर थाने में आईटी एक्ट और धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

सिम खराब कर दिया

पनकी सरायमीता निवासी श्रीकांत तिवारी का पीएनबी इंडस्ट्रीयल एरिया ब्रांच में तिवारी लेबर सप्लायर नाम से करंट अकाउंट है। उन्होंने बताया कि 6 मार्च को उनका सिम बंद हो गया जो उन्होंने सिम के लोकल डिस्ट्रीब्यूटर से आईडी देकर उसी नंबर पर दूसरा सिम इश्यू कराया। जोकि 11 मार्च को फिर बंद हुआ तो दोबारा 16 मार्च को उसी नंबर पर तीसरा सिम इश्यू कराया। उनका बैंक अकाउंट सिम से लिंक्ड था तो जैसे की मोबाइल ऑन किया तो बैंक के कई मैसेज आए, जिसे पढ़कर उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। उनके खाते से 13 मार्च यानी होली के दिन कई बार हुए ट्रांजेक्शन्स में 7.25 लाख रुपए निकल चुके थे। श्रीकांत तिवारी ने बताया कि उन्होंने कुछ दिन पहले ही खाते में इंटरनेट बैंकिंग सुविधा के लिए अप्लाई किया था। वह बैंक में इसकी लिखित शिकायत करने पहुंचे और नेट बैंकिंग इश्यू की तारीख जाननी चाही तो बैंक की तरफ से भी जानकारी देने से इंकार कर दिया गया। यहां तक कि उनकी कंप्लेन भी रिसीव नहीं की गई, जिसके बाद उन्होंने गोविंद नगर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई।

अलग-अलग शहरों में भेजा पैसा

पीडि़त के मुताबिक यह रुपया 13 मार्च को सुबह 10 से 2 बजे के बीच अलग अलग ट्रांजेक्शन में निकला। आरटीजीएस के जरिए खाते से 2 लाख रुपए बागपत स्थित सिंडिकेट बैंक में कल्लू नाम के खाताधारक के पास ट्रांसफर हुए। उसके बाद 1 और 2 लाख करके एनईएफटी के जरिए 3 लाख रुपए आगरा की बरारा स्थित सिंडिकेट बैंक में मोबीना नाम की खाताधारक के खाते में ट्रांसफर हुए। इसके बाद एनईएफटी के जरिए ही खागा फतेहपुर स्थित बीओबी ब्रांच में संतराम नाम के खाताधारक के खाते में 2 लाख व 50 हजार रुपए करके फंड ट्रांसफर हुआ।

---------------

पीडि़त की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर ली है। मामला ऑनलाइन ठगी का है, इसलिए क्राइम ब्रांच और सर्विलांस सेल की मदद ली जाएगी।

-फरमूद अली पुंडीर, इंस्पेक्टर, गोविंद नगर

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.