हंगरी में नाव डूबने से सात दक्षिण कोरियाई नागरिकों की मौत और 19 लापता

Updated Date: Thu, 30 May 2019 01:02 PM (IST)

हंगरी के बुडापेस्ट में एक रिवर क्रूज नाव के डूबने से सात दक्षिण कोरियाई नागरिकों की मौत हो गई है जबकि 19 अन्य लापता हैं। दक्षिण कोरिया और हंगरी के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है।


बुडापेस्ट (एएफपी)। हंगरी के बुडापेस्ट में एक रिवर क्रूज नाव नदी में पलटकर डूब गई। हंगरी और दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि इस हादसे में सात दक्षिण कोरियाई नागरिकों की मौत हो गई है, जबकि 19 अन्य लापता हैं। स्थानीय मीडिया के अनुसार, यह दुर्घटना बुडापेस्ट में संसद भवन के पास बुधवार की रात लगभग 10:00 बजे हुई, बताया जा रहा है कि यह रिवर क्रूज नाव नदी में एक अन्य नाव से टकराने के बाद पलटी। दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्रालय ने बताया कि नाव पर कुल 33 दक्षिण कोरियाई नागरिक सवार थे, जिनमें सात लोगों के मौत की पुष्टि हो चुकी है। इसके अलावा 26 मीटर की इस पर्यटक नाव में हंगरी के दो क्रू सदस्य भी सवार थे।कई घंटों बाद मिली नाव
हंगरी में आपातकालीन सेवाओं के प्रवक्ता पाल ग्योरफी ने गुरुवार की सुबह बताया, 'इस वक्त सात लोगों को स्थिर हालत में अस्पताल ले जाया गया है और अभी तक सात अन्य लोगों की मौत की जानकारी मिली है। नदी में लापता लोगों की तलाश जारी है।' बता दें कि मई की शुरुआत से होने वाली भारी वर्षा के चलते नदी में पानी का स्तर काफी बढ़ गया है, जिसके चलते बचाव अभियान में कई तरह की दिक्कतें महसूस की जा रही हैं। यह दुर्घटना हंगरी के डेन्यूब नदी में हुई है, जो वहां टूरिस्टों के बीच काफी पॉपुलर है। यहां से यात्री रात में शहर और उसके संसद भवन को देख सकते हैं। कई घंटों की खोज के बाद नाव को मार्गुएराइट ब्रिज के पास पाया गया, जो बूडा शहर और पेस्ट जिले को जोड़ता है।BIMSTEC से जुड़े 8 सवालों का जवाब, मोदी सरकार के शपथग्रहण में शामिल होंगे सदस्य देशनदी को किया गया ब्लॉक स्थानीय मीडिया के अनुसार, अधिकारियों ने यात्रियों के लिए फिलहाल इस नदी को ब्लॉक कर दिया है। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने बचाव के लिए अधिकारियों को सभी उपलब्ध संसाधनों को तैनात करने का निर्देश दिया है। हंगरी के स्वास्थ्य मंत्री इल्डिको होरवाथ ने घटनास्थल का दौरा किया है और पीड़ितों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना जाहिर की है। दक्षिण कोरियाई दूतावास के अधिकारी भी आपातकालीन सेवाओं की सहायता कर रहे हैं।

Posted By: Mukul Kumar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.