शीला दीक्षित को पसंद थे रंगबिरंगे फुटवेयर पढें उनके म्यूजिक शाैक व 5 रुपये की पॉकेट मनी की कहानी

2019-07-21T13:15:40Z

शीला दीक्षित का आज निगमबोध घाट पर सीएनजी विधि से अंतिम संस्कार किया जाएगा। तीन बार दिल्‍ली की मुख्‍यमंत्री रहीं शीला दीक्षित को वेस्टर्न म्यूजिक का बेहद शाैक था। जानें उनके कुछ ऐसे शाैक के बारे में

नई दिल्ली (एजेंसियां)।  कांग्रेस की कद्दावर नेता व लगातार तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया है।  81 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाली दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को कोई आधुनिक दिल्ली का वास्तुकार कह रहा है तो कोई उन्हें कांग्रेस की बेटी कह रहा है।
शुरुआत से ही संगीत का बेहद शौक था

कांग्रेस नेता शीला दीक्षित जिस तरह राजनीतिक जीवन में अपने कर्तव्यों के प्रति जुझारू और कर्मठ दिखीं उसी तरह से अपनी निजी जीवन में भी जिम्मेदारियों का निर्वहन किया। शीला दीक्षित निजी जीवन में एक आम महिला की तरह ही जीती थीं। शीला दीक्षित को शुरुआत से ही संगीत का बेहद शौक था।
अपनी आत्मकथा में शीला ने किए खुलासे
खुद पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने अपने जीवन के इन किस्सों का खुलासा अपनी आत्मकथा, सिटीजन दिल्ली:माई टाइम्स,माई लाइफ में किया था। न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक शीला दीक्षित की यह किताब पिछले साल प्रकाशित हुई थी। शीला अपनी पसंद के गाने सुनने के लिए रेडियो से पास बैठी रहती थीं।
शीला ने 5 रुपये पॉकेट मनी से पैसे इकट्ठा किए थे
शीला को रंग बिरंगे जूते-चप्पल का भी खूब शौक था। वह खूब सारी फुटवेयर रखती थीं। शीला को उस समय 5 रुपये पॉकेट मनी के तौर पर मिलते थे। ऐसे में उन्होंने पैसे जोड़ने शुरू कर लिए थे। कुछ ही दिनों में शीला दीक्षित ने सिंपिल डिजाइन वाले रंग बिरंगे फुटवेयर खरीदने के लिए ठीक-ठाक बचा लिया था।
फिल्मों और संगीत के इर्द-गिर्द घूमी जिंदगी
शीला दीक्षित ने अपनी आत्मकथा में यह भी बताया कि उनके बचपन में टेलीविजन तो नहीं था। वहीं रेडियो सुनने के लिए भी दिन में कुछ घंटे निर्धारित थे। ऐसे में जिंदगी स्कूल की पढ़ाई करने और वक्त बिताने के लिए किताबे पढ़ने, कभी कभी फिल्में देखने और संगीत सुनने के इर्द-गिर्द ही घूमती रहती थी।
शीला दीक्षित की इच्छा का सम्मान, 2.30 बजे सीएनजी विधि से होगा अंतिम संस्कार
शीला दीक्षित के निधन पर शोक संवेदनाओं की बाढ़, ममता बनर्जी ने कहा, हमेशा मिस करूंगी
शीला दीक्षित ने पहली फिल्म हैमलेट देखी थी
शीला दीक्षित को सांस्कृतिक कार्यक्रम भी बहुत पंसद होते थे। इसके अलावा उन्होंने थिएटर में जो पहली फिल्म देखी थी वह हैमलेट थी। यह ब्लैक एंड व्हाइट में थी। इसके अलावा शीला की पसंदीदा किताबाें में लेविस कैरल की एलिस इन वंडरलैंड और थ्रू द लुकिंग ग्लास,व्हाट एलिस फाउंड देयर शामिल थीं।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.