मंदसौर में आठ साल की बच्‍ची संग निर्भया जैसा केस सीएम बोले 'दरिंदे धरती पर बोझ नहीं है जीने का हक'

2018-06-30T12:18:28Z

मध्य प्रदेश के मंदसौर में आठ साल की माूसम बच्‍ची के साथ दुष्‍कर्म और के बाद हत्‍या की कोशिश का दर्दनाक मामला सामने आया है। न्याय के लिए लोग सड़कों पर उतरे हैं। बच्ची की हालत को देखकर आमजनों के साथ खुद सीएम का भी गुस्सा फूट फड़ा है।

दुष्कर्म के बाद हत्या की कोशिश
भोपाल (पीटीआर्इ)।
मध्य प्रदेश के मंदसौर में आठ साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या की कोशिश की गर्इ है। यह घटना बहुत ही दर्दनाक है। यह मामला दिल्ली के निर्भया कांड आैर जम्मू-कश्मीर के कठुआ कांड से किसी मायने में कम नहीं है। मासूम पीड़िता के प्राइवेट पार्ट में गहरी चोट आर्इ हैं। इतना ही नहीं सिर, चेहरे और गर्दन पर धारदार हथियारों से हमले किए गए हैं। उसकी हालत देखकर खुद डाॅक्टर हैरान हो गए हैं। एेसे में आम लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है आैर वे आरोपी की फांसी की मांग कर रहे हैं।
सीएम बोले दरिंदे धरती पर बोझ
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी इस घटना को लेकर अपने गुस्से पर कंट्रोल नहीं कर पाए हैं। उन्होंने इस मामले पर नाराजगी जताते हुए कहा है कि यह मामला बेहद ही दर्दनाक है। दरिंदे धरती पर बोझ हैं उन्हें जीने का हक बिल्कुल भी नहीं है। इन मामलों की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होनी चाहिए। इसके अलावा वह सुप्रीम कोर्ट से भी इस प्रकार के प्रावधान करने का अनुरोध करेंगे कि अपराधियों के खिलाफ जल्द से जल्द अदालती कार्यवाही हो, जिससे उनको कम से कम समय में फांसी की सजा दी जा सके।  
छु्ट्टी के बाद से वह लापता थी
बता दें कि यह मामला बीते मंगलवार की शाम का है। बच्ची के परिजन उसके स्कूल से लौटने का इंतजार कर रहे थे लेकिन छु्ट्टी के बाद से वह लापता हो गर्इ थी। बुधवार को बच्ची घायलावस्था में मिली थी। मंदसौर पुलिस के मुताबिक इस मामले में इरफान उर्फ भय्यू (20) को गिरफ्तार कर लिया गया है। इरफान ने बच्ची को मंदसौर बस स्टैंड के पीछे स्थित लक्ष्मण दरवाजे के पास ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। इतना ही नहीं उसने धारदार हथियार से गला रेतकर उसकी हत्या की कोशिश भी की थी।

स्कूटी सवार युवती ने युवकों द्वारा स्कर्ट खींचे जाने का दर्द ट्वीट से किया बयां, CM बोले शर्मनाक दर्ज हुआ केस

CM ने किया 1 लाख नौकरियों का ऐलान, रिटायरमेंट की उम्र भी 60 से बढ़कर हुई 62 साल


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.