चल रहा है तीसरा विश्‍वयुद्ध तस्‍वीरों में देखिए सबूत

2016-10-19T17:04:03Z

धर्मगुरु पोप फ्रांसिस ने हाल ही मे जारी हुए एक बयान में कहा कि दुनिया मे तृतीय विश्‍वयुद्ध शुरु हो गया है। पिछले कुछ म‍हीनो मे यूरोप में हुये आतंकवादी हमलों के बाद उनका यह बयान जारी हुआ था। पूरी दुनिया मे अशांति का माहौल है। जहां एक ओर भारत मे हुए उरी अटैक के बाद भारत द्वारा की गई सर्जिकल स्‍ट्राइक है वहीं नार्थ कोरिया साउथ कोरिया और अमेरिका पर कहर बरपाने का एक भी मौका नहीं छोड़ता है। इराकी सेनाएं इस्‍लामिक स्‍टेट के खिलाफ लड़ रही हैं। सीरिया लीबिया जैसे देशों मे तनाव बड़ता जा रहा है। इन सब को देख कर तो यही कहा जा रहा है कि तीसरा विश्‍व युद्ध शुरु हो गया है।


1- ताकतवर लोग आमने सामने
तृतीय विश्व युद्ध से ठीक पहले वैसी ही परिस्थितियां बन रही हैं जैसी प्रथम और द्वतीय विश्व युद्ध से पहले बनी थीं। यूनाइटेड स्टेटस, रशिया और चीन एक दूसरे के सैन्य क्षेत्र मे चैलेंज कर रहे हैं। सीरिया मे बशर अल असद को रशिया सपोर्ट कर रहा है। सीरिया की आर्मी को चीन ट्रेंड कर रहा है। वहीं सीरिया के विद्रोहियों की अमेरिका मदद कर रहा है। सीरिया और इराक के युद्ध ने इस्लाम को शिया और सुन्नी गुटों मे बट गया है। शिया को ईरान सपोर्ट कर रहा है तो सुन्नी को साऊदी अरब का सहयोग है। वहीं इरान को रशिया का सपोर्ट है तो सऊदी को अमेरिका का सपोर्ट है। दोनों ही सेनाएं विश्व की सबसे बड़ी न्यूक्लियर सेनाएं हैं।
2- चीन का सागर क्षेत्र मे तनाव
एशिया मे चीन भी युद्ध की ओर बढ़ रहा है। चीन सागर के उन क्षेत्रों मे अपना अधिकार जमा रहा है जहां अमेरिका का कब्जा है। उन जगहों पर तेल के भंड़ार और ट्रांसपोटेशन पर ताकतें अपना कब्जा जमाना चाहती हैं। चीन एनर्जी सिक्योरिटी मे अमेरिका की खिलाफत कर रहा है। वहीं अमेरिका फिलिपिंस, ताईवान, मलेशिया, वियेतनाम, ब्रुनोई के साथ है। जार्ज डब्लू बुश ने खुद कहा था कि अमेरिकी सेना ने इराक मे हमला कर के तीसरे विश्व युद्ध की शुरुआत कर दी है। बुश ने कहा था कि गल्फ वॉर उनके पिता ने 1990 मे शुरु किया था।
3- महाद्वीपों के बीच संघर्ष
पहले दो विश्व युद्धों की तरह इस बार भी आईएसआईएस के खिलाफ सभी महाद्वीपों में जंग छिड़ी हुई है। आतंकी संगठन घूम-घूम कर पूरे विश्व मे हमला कर रहे हैं। कुछ आर्मी संगठन इन आतंकवादी संगठनों को मुंहतोड़ जबाव भी दे रहे हैं। कई देश आईएसआईएस के खिलाफ लड़ने के लिए एक साथ हो गए हैं। सीरिया और इराक की लड़ाई ने ग्लोबल रूप धारण कर लिया है। आईएसआईएस और मित्र राष्ट्रो का एक ही गोल है अपने शत्रु का खत्म करना। युद्ध के दौरान भी यह गोल कभी साफ नहीं हुआ की असल मे होना क्या चाहिए लेकिन पिछले दो विश्व युद्ध मे यही मुख्य वजह रही। नाजी लोग मानव सभ्यता के एक हिस्से को ही खत्म कर देना चाहते हैं। मित्र राष्ट्र नाजियों को खत्म करना चाहते थे।
4- क्रीमिया का मुद्दा अटका
रशिया और यूक्रेन के बीच अभी भी तनाव बरकरार है। क्योंकि रशिया ने क्रीमिया पर कब्जा कर रखा है। क्रीमिया को छोड़ने के लिए रशिया तैयार नही है। रशियन आर्मी लगातार वहां अपनी मौजूदगी बनाए हुए है। प्रथम विश्व युद्ध से पहले भी दो देशों के बीच एक ही चीज पर कब्जा करने को लेकर जंग छिड़ी थी। विश्व के सभी महाद्वीपों और देशों मे ऐसे लीडर्स प्रभावी हैं जो बहुत ही गुस्सैल माने जाते हैं। उन्हें अपने पड़ोसी पर रहम नहीं आता है। फिर चाहे वो रशियन राष्ट्रपति व्लादमीर पुतिन हो या नार्थ कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन हो।
5- अमेरिकन डायनेमिक
जार्ज डब्लू बुश के व्हाइट हाउस छोड़ने के 8 सालों बाद एक बार फिर अमेरिकी मतदाता तेज तर्रार नेता चुनने के लिए वोट देंगे। अमेरिका मे डोनाल्ड ट्रंप का उदय और उनकी जीत रिपब्लिकन प्राइमरी मे अमेरिकी मतददाताओं की एक कट्टरता का प्रमाण होगा। जो तीसरे विश्व युद्ध का कारण बनेगा। अरब स्प्रिंग कुछ देशों मे डेमोक्रेसी लेकर आया जैसे ट्यूनीशिया और इजिप्ट मे सैन्य शासन लाया। वहीं लीबिया और सीरिया पूरी तरह से बबार्द हो गए। सीरिया और लीबिया में हर रोज कई जाने जाती हैं। किसी को नहीं पता ये कब और कैसे बंद होगा।
6-  जगह की भूख
पहले दो विश्व युद्ध जमीन पर कब्जे को लेकर हुए। अब अपनी सैन्य ताकत के जरिए सेनाएं कब्जा कर रहीं है। रशिया यूक्रेन मे हावी है तो चीन ताईवान और चीनी सागर मे अपनी धाक जमाने के लिए युद्ध के लिए तैयार है। वहीं प्रथम विश्व युद्ध के बाद लीग ऑफ नेशन्स को इस तर्ज पर बनाया गया था कि यह सबसे ज्यादा प्रभावी होगा। सेंकेड वर्ल्ड वॉर के बाद यूनाइटेड नेशन्स की स्थापना की गई। अफ्रीका और मिडिल ईस्ट मे बढ़ रहे तनाव मे यूएन रोक लगाने में नाकाम है। चीन, रशिया और साऊदी अरब के लिए ह्यूमन राइट्स कमीशन कुछ भी करने से अपने हाथ पीछे खींच रहा है।
7- टकराव की स्थिती
रोनाल्ड रीगन की स्टार वार्स पहल और सोवियत संघ की महत्वाकांक्षा ने अमेरिकी सैन्य कार्यक्रम के साथ रखने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के उस मोर्चे पर कोई अधिक प्रतिद्वंद्वी नही था। चीन में ही अंकल सैम अपनी बढ़ती अर्थव्यवस्था और प्रौद्योगिकी जो पिछले कुछ वर्षों में हासिल हुइ है। उसके लिए धन्यवाद देना सीधी प्रतिस्पर्धा में शामिल है। अगर शीत युद्ध को तीसरा विश्व युद्ध कहा जाए तो यह चौथा विश्व युद्ध होगा। जहां एक चीन और अमेरिका के बीच हेराल्ड तकनीकी और सैन्य टकराव होगा।
8- तेल के लिए जंग
प्रथम विश्व युद्ध और द्वतीय विश्व युद्ध दोनों ही ऊर्जा यनी तेल के भंडार के लिए हुए। जिन देशों मे भी युद्ध मे हिस्सा लिया उन्हें ऊर्जा की जरूरत थी। 1990 मे जग गल्फ वॉर शुरु हुआ तब बहुत सारे देशों ने यह साफ कर दिया कि उनकी लड़ाई तेल के लिए है। अमेरिका ने तेल पर कब्जा करने के लिए अपनी सैन्य शक्ति भी झौंक दी। तीसरे विश्व युद्ध की शुरुआत का सबसे बड़ा कारण हैं 2016 मे हथियारों की खरीद फरोख्त। इस साल 100 बिलियन सिर्फ हथियारों की खरीद मे लगा दिए गए। यह पहली बार है जब हथियारों का सौदा इतने बड़े स्तर पर पहुंच गया है।
9- अंतरिक्ष मे जगह के लिए जंग
द्वतीय विश्व युद्ध हवा मे लड़ा गया। जिसमे सैन्य विमानों का प्रयोग हुआ। कोल्ड वॉर अंतरिक्ष में जगह के लिए लड़ा जाएगा। जहां बहुत सारे देश चंद्रमा और मंगल पर अपनी बस्तियां बसाना चाहते हैं। अब युद्ध मिलेट्री सेटेलाइट के जरिए लड़ा जाएगा। इसे चरम शाही का उदय माना जा रहा है। यूरोप सहित अन्य कई देशों मे ऐसी ताकतें सामने आईं है जो एकाधिकार चाहती हैं। कुछ ऐसी ही ताकतों का उदय द्वतीय विश्व युद्ध का कारण बना था।
10- अदृश्य युद्ध या साइबर वॉर
तृतीय विश्व युद्ध बिना किसी की जानकारी के लड़ा जा रहा है। जो इंटरनेट की सहायता से हो रहा है। अब देश एक दूसरे पर ऑनलाइन हमला कर रहे हैं। कभी कोई किसी की सैन्य जानकारी चुराता है तो कहीं से सैन्य प्रोग्रामों की सूचनाएं लीक हो रही हैं। डिजिटल वार मे कोई विक्टम नहीं है। सैन्य सूचनाओं को चुरा कर एक बड़े युद्ध क्षेत्र का आगाज हो गया है। म्यूनिख समझौते के बाद यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस, इटली और जर्मनी के बीच 1938 में हस्ताक्षर किए गए उनकी परियोजना यूरोप मे नाजियों को लाने की थी। हिटलर और यूरोपीय लोकतंत्रों की तरह वर्तमान लोकतांत्रिक देशों के नेताओं भी जंग के लिए अपनी जमीनें देनों को तैयार बैठे हैं।

Interesting News inextlive from Interesting News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.