योगी आदित्यनाथ बोले केसरिया सिख परंपरा का झंडा बीजेपी छोड़ कोर्इ नहीं फहरा सकता

2018-10-30T12:38:45Z

सोमवार को आयोजित सिख सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी भाग लिया। इस दौरान सीएम ने कहा कि केसरिया सिख परंपरा का ध्वज है और यह ध्वज कोई कांग्रेसी बसपाई और सपाई नहीं फहरा सकता।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को आयोजित सिख सम्मेलन में कहा कि हिंदू और सिख के बीच भेद डालने की कोशिश हो रही है लेकिन जब भी कोई भेद डालने वाले सफल होंगे तो सिख अफगानिस्तान की तरह असुरक्षित हो जाएंगे। आज तो अफगानिस्तान में सिर्फ  सौ सिख बचे हैं और उनकी स्थिति दयनीय है। हमें इतिहास से सीखना होगा। कश्मीर में जब तक हिंदू राज्य था तो हिंदू और सिख दोनों सुरक्षित थे। कहा कि केसरिया सिख परंपरा का ध्वज है और यह ध्वज कोई कांग्रेसी, बसपाई और सपाई नहीं फहरा सकता। इसे हम जैसे लोग ही लगा सकते हैं। कार्यक्रम में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉक्टरदिनेश शर्मा भी मौजूद थे।

गुरुद्वारे में जाना हमारा अधिकार

सीएम ने कि भारत और हमारे महापुरुषों का अपमान करने वाले हमारे कैसे हो सकते हैं। सिख समुदाय को आश्वासन दिया कि आपको कोई दिक्कत नहीं होगी, किसी के आगे हाथ नहीं फैलाना पड़ेगा। पीएम मोदी पटना में प्रकाश पर्व कार्यक्रम में गए थे। हम भी गुरुद्वारों में जाते रहते हैं और इसे अपना कर्तव्य और अधिकार समझते हैं। वहीं 1984 के दंगों का जिक्र करते हुए बोले कि यूपी के पीडि़तों को न्याय दिलाने के लिए पहले ही एसआईटी गठित हो चुकी है। हर कदम पर सरकार आपके साथ है। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में एक सरदार जीते, हमने उन्हें भी मंत्री बनाया। आप कह सकते हैं कि सरदार ने सौ फीसद रिजल्ट दिया। बोले कि आपकी कोई भी समस्या सरकार की समस्या है। गुरुनानक जी का 550वां प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है। उनके नाम पर कोई न कोई संस्था शुरू करेंगे। जिन महापुरुषों की वजह से आज हम खुली सांस ले रहे हैं, उन्हें हम याद रखेंगे। सिखों का आह्वान करते हुए कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है। मोदी को दोबारा पीएम बनाने को हमें पूरी ताकत से जुटना होगा। इतिहास बार-बार मौका नहीं देता। एक छोटी चूक हमें पछाड़ सकती है।

विपक्ष अभी कोमा में

वहीं डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि अभी तो यह कोमा में है। उन्होंने सिख समाज के त्याग और बलिदान को भी याद दिलाया। वहीं डॉ। दिनेश शर्मा ने कहा सिख समाज 1984 के दंगों का बदला बुलेट से नहीं, बैलट से ले। आगामी चुनाव में कांग्रेस समेत समूचे विपक्ष को हराए और मोदी को फिर प्रधानमंत्री बनवाए। इस मौके पर मंत्री सरदार बलदेव सिंह औलख, डॉ। महेंद्र सिंह, सरदार हरविंदर सिंह समेत अन्य लोग उपस्थित थे।

यूपी-उत्तराखंड के बीच हुआ बस समझौता, कुंभ के लिए चलेंगी 500 स्पेशल बसें

भाजपा की कमल संदेश यात्रा 17 नवंबर को, हेलमेट पहन बाइक रैली में हो सकेंगे शामिल

Posted By: Shweta Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.