सड़कों पर जल्द उतरेंगी 30 स्मार्ट बसें

2019-06-28T06:00:49Z

- हाईटेक बसों के लिए बनेंगी हाईटेक सड़कें

- बस के संचालित होने का समय भी हुआ तय

देहरादून, जल्द ही देहरादून स्मार्ट सिटी के अंतर्गत स्मार्ट सड़कों पर स्मार्ट इलेक्ट्रिक बसें रफ्तार भरेंगी। बसों की खरीद की डीपीआर तैयार हो चुकी है। पहले फेज में 30 बसें चलाई जाएंगी। बसें हर तरह की सुविधाओं से लैस होने के साथ ही प्रदूषण मुक्त होंगी। बसों के संचालित होने से शहरवासियों को एक स्थान से दूसरे स्थान जाने के लिए लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। बसों को खरीदने के लिए सरकार ने 41.56 करोड़ का बजट रखा है। इसके लिए रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल प्रकाशित किया जा चुका है।

दो साइज की होंगी बसें

देहरादून स्मार्ट सिटी की ओर से 30 बसें खरीदी जानी है। बसें दो साइज की खरीदी जाएगी। 22 बसें 40 की और 8 बसें 26 सीटर होंगी। शहर में इन बसों के किराया अब तक चल रही बसों से कम होगा। पब्लिक को बस में सभी प्रकार की सुविधा मुहैया कराई जाएंगी।

पहले बनेंगी हाईटेक सड़कें

इन हाईटेक बसों को चलाने से पहले सड़कें हाईटेक बनाई जाएंगी। बसों को चलाने के लिए स्पेशल ड्राइवर हायर किए जाएंगे। इससे पहले सरकार एक इलेक्ट्रिक बस का ट्रायल भी देहरादून मसूरी ले चुकी है। हाईटेक रूट न होने के बाद भी बस सक्सेज हो गई थी।

पॉलुशन फ्री होंगी स्मार्ट बसें

ये बसें सभी सुविधाओं से लैस होंगी। खास बात है कि बसें बसें पॉलुशन फ्री होंगी। बसों में जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा। जिससे ड्राइवर बस को आउटर एरिया में न ले जा सके। कंट्रोल रूम से बस कनेक्ट रहेगी। बसों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। किसी भी प्रकार की वारदात होने पर उसका खुलासा आसानी से हो सकेगा।

15 और 30 मिनट की सर्विस

बसें सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक चलाई जाएंगी। शहर में हर 15 मिनट के भीतर बसें चलाई जाएंगी। जबकि हर 30 मिनट में एयरपोर्ट आने-जाने के लिए बसें चलाई जाएंगी।

इन रूटों पर चलेंगी बसें

- एयर पोर्ट, रेलवे स्टेशन, आईएसबीटी, घंटाघर

- आईएसबीटी, रेलवे स्टेशन, घंटाघर, जाखन, मसूरी डायवर्जन

- आईएसबीटी, रेलवे स्टेशन, घंटाघर, कैनाल रोड, आईटी पार्क

- सुद्धोवाला, प्रेमनगर, घंटाघर, रिंग रोड, रायपुर

प्रमुख बिन्दु

कुल बसें - 30

22 बसें - 40 सीटर

8 बसें - 26 सीटर

समय- सुबह 6 बसे से रात्रि 9 बजे तक

शहर में टाइमिंग - 15 मिनट के भीतर

एयर पोर्ट के लिए टाइमिंग - हर 15 मिनट के भीतर

किराया - अन्य बसों की तुलना में कम

---

इलेक्ट्रिक बसों की डीपीआर तैयार की जा चुकी है। इसके लिए 41.560 करोड़ की धनराशि रखी गई है। बसें सभी सुविधाओं से लैस होंगी।

प्रेरणा ध्यानी, पीआरओ, देहरादून स्मार्ट सिटी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.