साउथ अफ्रीकन एयरवेज के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर सैकड़ों उड़ानें रद्द

2019-11-15T15:01:16Z

साउथ अफ्रीकन एयरवेज के कर्मचारी शुक्रवार से वेतन वृद्धि व छंटनी रोकने की मांग को लेकर अनिश्‍चितकालीन हड़ताल पर चले गए। जिसके चलते वित्‍तीय संकट का सामना कर रही एयरलाइंस को सैकड़ों उड़ानें रद्द करनी पड़ी।

जोहान्सबर्ग (एएफपी)। एयरलाइंस के कर्मचारियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाने से शुक्रवार और शनिवार के बीच 200 से अधिक घरेलू, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों को रद्द करना पड़ा। कंपनी ने उन सभी यात्रियों जिन्होंने शुक्रवार व शनिवार के लिए फ्लाइट बुक थी से एयरपोर्ट न आने व फ्री में रिबुकिंग या सहयोगी एयरलाइंस के विमानों में यात्रा करने का विकल्प दिया है। यूनियनों के अनुसार, केबिन क्रू, चेक-इन, टिकटों की बिक्री, तकनीकी और ग्राउंड स्टाफ सहित 3,000 से अधिक कर्मचारी हड़ताल में शामिल हैं। हाथों में प्लेकार्ड लिए सैकड़ों कर्मचारियों ने जोहान्सबर्ग स्थित टैम्बो अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। यह देश के सबसे व्यस्त हवाई अड्डों में से एक है।
यूनियन बातचीत के लिए तैयार

दक्षिण अफ्रीकी केबिन क्रू एसोसिएशन (SACCA) के अध्यक्ष मुगांबी ने कहा है कि हड़ताल खत्म करने को लेकर शनिवार को बातचीत शुरू होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि वे प्रबंधन से बात करने के लिए हमेशा से तैयार रहे हैं।

घाटे में है एयरलाइन

एयरलाइन, जिसमें 5000 से अधिक कर्मचारी काम करते हैं, अफ्रीका की सबसे बड़ी एयरलाइंस में से एक है, जो प्रत्येक दिन दर्जनों घरेलू, क्षेत्रीय और यूरोपीय उड़ानें संचालित करती है। एयरलाइन के पास सेवा प्रदान करने के लिए 50 से अधिक विमानों का एक बेड़ा है। लेकिन कंपनी सिर से पांव तक कर्ज में डूबी हुई है और कई सरकारी बेलआउट पैकेज के बावजूद अपने पैरों पर खड़ी नहीं हो पा रही है। उसने 2011 के बाद से मुनाफा नहीं कमाया है। यूनियनें तीन साल के लिए नौकरी की सुरक्षा की गारंटी और आठ प्रतिशत वेतन बढ़ोतरी का दबाव बना रही हैं। जबकि एयरलाइन ने 5.9 प्रतिशत की वृद्धि की पेशकश की है।


Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.