विश्‍वनाथ आनंद, सचिन तेंदुलकर और लिएंडर पेस में कौन है सबसे बड़ा स्‍पोर्ट एंबेसडर?

Updated Date: Wed, 17 Jun 2015 10:58 AM (IST)

आज विश्‍वनाथ आनंद सचिन तेंदुलकर और लिएंडर पेस स्‍पोर्ट की दुनिया के बड़े नामों में गिने जाते हैं। आज इनका नाम सिर्फ देश ही नहीं दुनिया में छाया है। हालांकि यह तीनों ही स्‍पोर्ट में अलग अलग क्षेत्र से जुड़ें है लेकिन अपनी अपनी खेल की दुनिया तीनों को एक बड़ी बादशाहत हासिल हैं। इतना ही नहीं विश्‍व स्‍तर पर देश को एक बड़ी पहचान दिलाई। ऐसे में अक्‍सर लोगों के जेहन में यह सवाल उठते हैं कि तीनों ही स्‍पोर्ट की दुनिया से जुड़े हैं तो इनमें सबसे बड़ा कौन है। शायद यह सवाल ही अपने आप में काफी बड़ा है। विश्‍वनाथ आनंद हो या सचिन तेंदुलकर या फिर लिएंडर पेस हर कोई कहीं न कहीं एक दूसरे पर भारी पड़ते दिखते हैं। ऐसे में आइए जानें इन तीन स्‍पोर्टस मैन की कुछ उपलब्‍िधयों के बारे में...


विश्वनाथ आनंद
शतरंज की दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले शतरंज के खिलाड़ी विश्वनाथ आनंद का कोई जोड़ नहीं है। वह शतरंज चैपियनशिप में 5 बार के विश्वविजेता हैं। इस दिमागी खेल यानी कि शतरंज की दुनिया में विश्वनाथ  आनंद का सामना करने में बड़े से बड़े खिलाड़ी कांपते हैं। विश्वनाथन आनंद 1988 में भारत के ग्रांडमास्टर बने। इसके बाद फीडे विश्व शतरंज चैंपियनशिप सन 2000 में वह विश्वविजेता बन गए. इस प्रतियोगिता में अलेक्सई शिरोव हराकर आनंद भारत के पहले विजेता के रूप में उभरे. आनंद ने ऐसे एक नहीं कई प्रतियोगिता जीती हैं.जिससे देश की ओर से इन्हें कई सम्मान दिए गए. वह भारत के द्वितीय सबसे श्रेष्ठ नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण से सम्मानित किए जा चुके हैं। इस पुरस्कार को पाने वाले वह देश के पहले खिलाड़ी रहें। बेहतर खेल प्रदर्शन और देश को एक बड़ी पहचान दिलाने के लिए इन्हें राजीव गांधी खेल रत्न से भी सम्मानित किया जा चुका हैं।सचिन तेंदुलकर


सचिन तेंदुलकर क्रिकेट की दुनिया में एक जाने माने खिलाड़ी हैं। कपिल देव के बाद सचिन तेंदुलकर का नाम काफी मशहूर हुआ। 1989 में क्रिकेट की दुनिया में कदम रखने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने बल्ले के कमाल से देश को विश्वस्तर पर बड़ी पहचान दिलाई। 24 अप्रैल, 1998 को कोका कोला कप के फाइनल मुकाबले में सचिन ने बेहतर प्रदर्शन किया. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सचिन तेंदुलकर ने कुल 134 रन बनाए थे. जिससे सचिन की इस शानदार पारी से भारत ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हराने में कामयाब हो गया था. सचिन को अब तक कई सारे सम्मान मिल चुके हैं. सबसे खास बात तो यह है कि भारत के पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जो सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किए गए हैं। इसके  अलावा सचिन को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार और पद्म विभूषण से भी पुरस्कृत किया जा चुका है.लिएंडर पेस

टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस आज भारत के चमकते सितारों में एक कहे जाते हैं। 3 अगस्त 1996 महज  23 साल की उम्र में लिएंडर पेस ने अटलांटा ओलंपिक में भारत की ओर से शामिल 49 एथलीटों में एक रहे हैं। उनकी रैंक एकल सर्किट में 126 अंकों पर रही। इस दौरान पेस इसमें कांस्य पदक जीत गए। जिससे वह इस जीत के बाद भारत के लिए ओलम्पिक पदक जीतने वाले वे दूसरे खिलाड़ी बन गए। इसके अलावा पेस लिएंडर ने काफी मेहनत से इस खेल को विश्वस्तर पर एक बड़ी पहचान दिलाई। लिएंडर पेस को टेनिस में एक सफल योगदान के लिए 1996 में भारत के गौरवपूर्ण राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड से सम्मानित किया। इसके बाद 2001 में पद्मश्री अवॉर्ड से नवाजे जा चुके हैं।

Hindi News from Sports News Desk

Posted By: Shweta Mishra
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.