क्रिकेेट में वापसी को बेताब हैं श्रीसंत, बोले- मुझे बुलाओ, मैं कही भी क्रिकेट खेलूंगा

Updated Date: Tue, 15 Sep 2020 02:35 PM (IST)

सात साल का प्रतिबंध झेलने के बाद तेज गेंदबाज एस श्रीसंत फिर से मैदान में लौटने को बेताब हैं। श्रीसंत कहते हैं वह उन्हें कहीं भी बुला लो वह क्रिकेट खेलने को तैयार हैं। श्रीसंत का लक्ष्य 2023 वर्ल्डकप खेलना है।

कोच्चि (आईएएनएस)। तेज गेंदबाज एस श्रीसंत क्रिकेट के मैदान पर वापसी को बेताब हैं। श्रीसंत कहते हैं, "मुझे बुलाओ और मैं कहीं भी आकर क्रिकेट खेलूंगा।" श्रीसंत, जो 2007 विश्व टी 20 और 2011 विश्व कप विजेता भारतीय टीमों का हिस्सा थे, ने हाल ही में अपने सात साल के प्रतिबंध को समाप्त करने के बाद यह बयान दिया। वह कहते हैं, 'मैं ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और श्रीलंका के एजेंटों से बात कर रहा हूं क्योंकि मैं खेलना चाहता हूं। इन देशों में मैं क्लब स्तर पर क्रिकेट खेलने का तैयार हूं। मेरा उद्देश्य 2023 विश्व कप में अपने देश का प्रतिनिधित्व करना है। एक और इच्छा है कि मैं लॉर्ड्स में एक मैच खेलना चाहता हूं।'

2013 में लगा था आजीवन प्रतिबंध
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने 2013 के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में स्पॉट फिक्सिंग कांड में कथित संलिप्तता के लिए श्रीसंत पर अगस्त 2013 में आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। 2015 में, हालांकि, दिल्ली की एक विशेष अदालत ने उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया था। 2018 में, केरल उच्च न्यायालय ने बीसीसीआई द्वारा क्रिकेटर पर लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को हटा दिया था और उसके खिलाफ सभी कार्यवाही को भी रद कर दिया था।

कम हुई सजा
हालांकि, उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने प्रतिबंध को बहाल कर दिया। श्रीसंत ने तब आदेश के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का रुख किया और पिछले साल मार्च में, शीर्ष अदालत ने उनके अपराध को बरकरार रखा, लेकिन बीसीसीआई को उसकी सजा की मात्रा कम करने के लिए कहा। क्रिकेट बोर्ड ने उसके जीवन काल को सात साल तक कम कर दिया जो इस महीने 12 सितंबर को समाप्त हो गया।

ऐसा रहा है करियर
37 वर्षीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंत ने अब तक 27 टेस्ट, 53 वनडे और 10 T20I खेले हैं जिसमें उन्होंने क्रमशः 87, 75 और 7 विकेट लिए। क्रिकेट से बाहर होने के बाद श्रीसंत ने फिल्मी दुनिया में भी हाथ आजमाया, मगर वह ज्यादा हिट नहीं हो पाए। जिसके चलते वह अपने पहले प्यार क्रिकेट के पास दोबारा लौटना चाहते हैं।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.