सूर सदन में हुआ कवि सम्‍मेलन

2012-01-04T12:49:42Z

Agra मोहब्बत के शहर में नामचीन शायरों और कवियों की महफिल ने आगराइट्स का दिल जीत लिया सर्द हवाओं के बीच पेश की कविताओं और शेरोशायरी ने शहर का मिजाज गुलाबी कर दिया

देर रात तक चले इस कवि सम्मेलन में लोग डटे रहे. सूरसदन में ऑर्गनाइज कवि सम्मेलन और मुशायरे में देश के नामचीन शायरों और कवियों ने शिरकत की. मशहूर शायर नवाज देवबंदी ने 'बातों में तस्वीर बनाती आंखों में और हो कोई चीज तो रोटी लगती है, से लोगों का दिल जीत लिया.
उन्होंने 'जलते हुए दियों पे हवा ने असर किया, मां ने दुआ दी तो दवा ने असर कियाÓ से समां बांध दिया. अलवर से आए विनीत चौहान की देशभक्ति की कविताओं ने ऐसा जोश भरा कि श्रोता झूमने को मजबूर हो गए.
हर कविता एक संदेश देती हुई नजर आई. सुरेंद्र शर्मा ने हास्य की कविताओं के साथ श्रोताओं का दिल जीत लिया. इनके अलावा पूनम वर्मा, संजय झाला, सुरेंद्र शर्मा, मुमताज, नसीम की कविताएं भी लोगों को झकझोर गईं. मंच से संचालन विनीत चौहान ने किया.



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.