34वें जन्मदिन से पहले सुरेश रैना ने 34 स्कूलों को लिया गोद, 10 हजार बच्चों के स्वास्थ्य का रखेंगे ख्याल

Updated Date: Tue, 24 Nov 2020 12:02 PM (IST)

भारत के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक रहे सुरेश रैना ने 34 स्कूलों को गोद लिया है। रैना इस शुक्रवार 34 साल के हो जाएंगे। ऐसे में उन्होनें समाज कल्याण के लिए 34 स्कूलों के 10 हजार बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य का जिम्मा उठाया है।

कानपुर (इंटरनेट डेस्क)। पूर्व भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना, जो इस शुक्रवार को 34 साल के हो जाएंगे। उन्होंने उत्तर प्रदेश, जम्मू और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में 34 सरकारी स्कूलों में स्वच्छता और पीने के पानी की सुविधा का निर्माण करने का संकल्प लिया है, जिसमें 10,000 बच्चों को स्वास्थ्य और स्वच्छता सुनिश्चित करना है। इस पहल को रैना गैर सरकारी संगठन, ग्रेसिया रैना फाउंडेशन (जीआरएफ) और अमिताभ शाह की 'युवा अनस्टाबेल&य के साथ शुरु करेंगे।

रैना की अच्छी पहल
स्वच्छता सुविधाओं के अलावा, रैना की एनजीओ राइट एजीई पर विशेष जोर देगी जिसमें किशोर प्रजनन और यौन स्वास्थ्य कार्यक्रम शामिल होगा। जो सभी 34 स्कूलों में रोल आउट किया जाएगा। इस पहल को लेकर सुरेश रैना ने कहा, 'इस पहल के साथ अपना 34 वां जन्मदिन मनाने के लिए मुझे बहुत खुशी मिली। हर बच्चा बेहतर शिक्षा का हकदार है और इसमें स्कूलों में सुरक्षित और स्वच्छ पेयजल और शौचालय की सुविधा का उपयोग करने का उनका अधिकार भी शामिल है। मुझे उम्मीद है कि हम युवा अनस्टॉपेबल के साथ सहयोग करते हुए ग्रेसिया रैना फाउंडेशन के साथ इसमें योगदान कर सकते हैं।'

View this post on Instagram A post shared by Suresh Raina (@sureshraina3)

इससे बेहतर नहीं होगा बर्थडे सेलीब्रेशन
बाएं हाथ के बल्लेबाज ने आगे कहा, 'हम भविष्य में कई और स्कूलों को बदलने के लिए तत्पर हैं। मेरे जन्मदिन का जश्न मनाने का इससे बेहतर तरीका कोई और नहीं हो सकता था, यह वास्तव में बहुत ही दिल छू लेने वाला है।' फाउंडेशन के माध्यम से, रैना और उनकी पत्नी राइट एज प्रोग्राम का प्रचार करेंगे जो किशोर लड़कियों पर आधारित है और प्रजनन स्वास्थ्य कार्यशालाओं के माध्यम से वैज्ञानिक ज्ञान भी प्रदान करेगा। यह दंपति अपने गृहनगर मुरादनगर में चार स्कूलों में छात्रों के साथ काम करेंगे, जिनमें खुद प्रियंका और सुरेश भी शामिल हैं। पूर्व भारतीय क्रिकेटर 'स्वच्छ भारत अभियान' से जुड़े रहे हैं और उन्हें 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश में स्वच्छ भारत राजदूत के रूप में नामित किया था।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.