Tandav review: राजनीति का वही पुराना खेल, नया ढूंढने में हुए फेल

सही और गलत के बीच जो होती है वो राजनीति होती है। अमेजॉन प्राइम वीडियो की नयी पेशकश तांडव का यही सार है। राजनीति के ब्रांड अम्बेस्डर माने जाने वाले चाणक्य और उनकी नीति को ही तांडव का भी आधार माना गया है। लेकिन अफ़सोस है कि देश की राजनीति से जुड़े हर संदर्भ को शामिल करने के बावजूद शो में जबरदस्त कास्ट होने के बावजूद कहानी अबतक राजनीति पर बनी फिल्मों का ही मिश्रण नजर आता है। यह एक औसत पोलिटिकल ड्रामा बन कर ही रह गई है। पढ़ें पूरा रिव्यु

Updated Date: Sat, 16 Jan 2021 04:15 PM (IST)

वेब सीरीज : तांडव
कलाकार : सैफ अली खान, तिग्मांशु धूलिया, डिंपल कपाड़िया, सुनील ग्रोवर, कृतिका कामरा, साराह, मोहम्मद जीशान अयूब, कुमुद मिश्रा
निर्देशक : अली अब्बास जफर
लेखन : गौरव सोलंकी
ओ टी टी : अमेजॉन प्राइम वीडियो
रेटिंग : 2 स्टार

क्या है कहानी
कहानी समर प्रताप सिंह (सैफ अली खान) और अनुराधा (डिम्पल ) के प्रधानमंत्री की कुर्सी हथियाने को लेकर है। समर अपने पिता देवकी (तिग्मांशु ) को रास्ते से हटाता है, लेकिन क्या वह प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुँच पाता है। परिवार की राजनीति कैसे पूरे देश की राजनीति को प्रभावित करती है। शो में यह मुख्य प्लॉट है और इसी के इर्द-गिर्द सत्य घटनाएं, जैसे जेएन यू वाली घटना और कई घटनाओं को नाटकीय रूपांतर में बदला गया है। इन सबके बीच मोहरे शिवा (मोहम्मद जीशान अयूब), गोपाल दास (कुमुद ), गुरपाल (सुनील ग्रोवर ) बनते हैं। छात्र राजनीति और उसमें होने वाले घपले, कैसे षड्यंत्र रचे जाते हैं, उसे निर्देशक ने सतही तौर पर दर्शाने की कोशिश की है।

क्या है अच्छा
कहानी का क्लाइमेक्स अच्छा है। शो में सिनेमेटोग्राफी खूबसूरती से की गई है।

क्या है बुरा
शो में संवाद, प्लॉट बेहद सामान्य, पहले भी कई राजनीति पर आधारित फिल्मों में देखे जा चुके, दृश्य प्रिडिक्टेबल हैं, कुछ नयापन नहीं है। अफ़सोस कि यह गौरव जिन्होंने आर्टिकल 15 लिखा था, उनसे और बेस्ट की उम्मीद थी। बेवजह के कई किरदार ठूंसे गए हैं, जिनके चित्रण पर खास काम नहीं किया गया है। उलझी हुई है कहानी।

अदाकारी
सैफ अली खान, कुमुद मिश्रा और कृतिका कामरा ने शो में बहुत अच्छा अभिनय किया है। शेष कलाकारों में सुनील ग्रोवर का अभिनय बनावटी है, डिंपल कपाड़िया ने औसत अभिनय किया है। जीशान अयूब भी निराश करते हैं। उन्होंने बहुत लाउड अभिनय किया है। बाकी कलाकारों को सिर्फ यूं ही रखा गया है।

वर्डिक्ट
उम्मीद पर खरी नहीं उतरता है ये शो

Review By: अनु वर्मा

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.