गिनीज बुक में दर्ज होंगी कुंभ की तैयारियां

2018-10-19T06:00:08Z

स्वास्थ्य मंत्री ने किया दावा, प्रयागराज कुंभ के नाम से कराया जाएगा पेटेंट

-सैनिटेशन और हेल्थ सेवाएं होगी बेंचमार्क, कराएंगे डाक्यूमेंट

ALLAHABAD: सैनिटेशन और हेल्थ सेक्टर की कुंभ की तैयारियां एक बेंचमार्क की तरह होंगी। इन्हें प्रयागराज कुंभ के नाम से पेटेंट कराया जाएगा। यह दावा उप्र के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह का है। उन्होंने गुरुवार को मेला एरिया में सौ बेड के सेंट्रल हॉस्पिटल का भूमि पूजन किया। कहा कि पहली बार प्री फैब्रिकेटेड हॉस्पिटल बनने जा रहा है, जिसमें दो दर्जन ओपीडी होंगी, जिनका क्षेत्रफल 12 हजार वर्ग मीटर होगा।

गिनते-गिनते थक जाओगे

उन्होंने कहा कि कुंभ में पहली बार 1 लाख 22 हजार 500 शौचालय बनाए जा रहे हैं। टैंक बनाए जा रहे हैं। इनकी गंदगी गंगा-यमुना में बहने के बजाय दूसरी जगह डिस्पोज की जाएगी। इतनी अधिक संख्या में हाइटेक शौचालय बनना ही गिनीज बुक में शामिल होने के लिए काफी है। उन्होंने कहा कि इस कुंभ में लोग बीमार नहीं होंगे क्योंकि सैनिटेशन पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है। 11 हजार सफाईकर्मी लगाए गए हैं और इन्हें मेले रहने और खान-पान की सुविधा भी दी जा रही है। गिनीज बुक के शासन ने आवेदन भी कर दिया है। कहा कि तैयारियों को प्रयागराज कुंभ के नाम से पेटेंट कराया जाएगा। यह अपने आप में एक नजीर बनेगा।

एक नजर में स्वास्थ्य सेवाएं

100 बेड का एक हॉस्पिटल

20 बेड के 11 सर्किल हॉस्पिटल

20 बेड का दो संक्रामक रोग हॉस्पिटल

30 प्राथमिक उपचार केंद्र

15 हेल्थ पोस्ट

250 चिकित्सा अधिकारियों की तैनाती

150 एंबुलेंस

04 एएलएस एंबुलेंस

04 रिवर एंबुलेंस

01 एयर एंबुलेंस

एक नजर में सफाई व्यवस्था

-122500 शौचालय मेले में बनेंगे

-20000 डस्टबिन लाइनर सहित

-40 कॉम्पैक्टर

-11000 सफाई कर्मी

लगभग दो करोड़ की लागत का हॉस्पिटल

प्री-फैब्रिकेटेड हॉस्पिटल की लागत फिलहाल डेढ़ से दो करोड़ के बीच बताई जा रही है। इसकी खासियत है कि बाहर के मुकाबले हॉस्पिटल के अंदर का तापमान एडजस्टेबल होगा। रिसेप्शन पर मरीजों उनकी ओपीडी के बारे में बता दिया जाएगा जिससे उन्हें भटकना नहीं होगा। यह पूरी तरह पफ पैनल से बना होगा। अभी तक हॉस्पिटल्स का निर्माण टेंट के जरिए होता था लेकिन इस बार यह प्री फैब्रिकेटेड होगा।

सम्मानित किए गए स्वच्छता मित्र

स्वास्थ्य मंत्री ने कुंभ के 17 स्वच्छता मित्रों को सम्मानित किया। इसके पहल उन्होंने 100 बेड के परेड ग्राउंड बाघम्बरी रोड स्थित सेंट्रल हॉस्पिटल का वैदिक मंत्रोच्चार के बीच भूमिपूजन किया। उन्होंने स्वास्थ्य सलाहकार सलोनी गोयल के प्रयासों की भी तारीफ की। कहा कि नवरात्रि पर महानवमी के अवसर पर हॉस्पिटल का भूमिपूजन किया जाना सुखद होगा। इस मौके पर कमिश्नर डॉ। आशीष गोयल, मेलाधिकारी विजय किरन आनंद, डीआईजी कुंभ केपी सिंह, एडी हेल्थ डॉ। पालीवाल, सीएमओ डॉ। गिरिजाशंकर बाजपेई, डॉ। मुरारी वर्मा, स्वास्थ्य विभाग की सलाहकार सलोनी गोयल आदि उपस्थित रहे।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.