ठसाठस होगा बनारस

2019-03-03T06:00:03Z

-सोमवार को महाशिवरात्रि पर शहर में होंगे बाबा के लाखों भक्त

-कुंभ का पलट प्रवाह करेगा भीड़ में इजाफा, पांच लाख से श्रद्धालुओं के काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन का अनुमान

महाशिवरात्रि पर बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में भक्तों की भारी भीड़ होगी। इस बार संयोग ऐसा है कि महाशिवरात्रि सोमवार के दिन है। ऐसे में हर शिव भक्त बाबा के दरबार में पहुंचकर कल्याण की कामना करेगा।

इसी दिन कुंभ के अंतिम स्नान का पलट प्रवाह भी बनारस पहुंचेगा। शहर में भक्तों की ठसाठस भीड़ होगी।

यूपी के कई जिलों के साथ ही बिहार, एमपी, छत्तीसगढ़, राजस्थान महाराष्ट्र और दक्षिण भारत के भक्तों की भारी भीड़ पहले ही बनारस आ चुकी है। महाशिवरात्रि को इसमें और इजाफा हो जाएगा। ऐसे में शांति और सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखना पुलिस और प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है।

चल रही तैयारी

गंगा स्नान करके बाबा विश्वनाथ का अभिषेक करने को आतुर भक्तों का अधिक जुटान रविवार की शाम से ही शुरू हो जाएगा। तब से लेकर सोमवार की रात तक काशी में तिल रखने की जगह मिलना मुश्किल है। आंकलन है कि पांच लाख से अधिक भक्त इस बार बाबा के दर्शन करेंगे। इन्हें सावधानी पूर्वक दर्शन पूजन कराने से लेकर गंगा घाट तक पहुंचने के लिए जिला प्रशासन व पुलिस ने कमर कस ली है। ट्रैफिक डिपार्टमेंट ने रविवार की रात दस बजे से ही डायवर्जन लागू कर दिया है। सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए एसएसपी व एसपी सिटी ने समस्त सीओ और थाना प्रभारियों को निर्देशित कर दिया है।

सादे वर्दी में रखेंगे नजर

महाशिवरात्रि पर उमड़ने वाली भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस प्रशासन ने खास इंतजाम किया है। सुरक्षा को पुख्ता बनाए रखने के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। यही नहीं, दर्शनार्थियों की भेष में अवांछनीय तत्वों पर नजर रखने के लिए सादे वर्दी में पुलिसकर्मियों को लगाया जाएगा। महिला पुलिस भी सिविल ड्रेस में महिला श्रद्धालुओं के बीच मुस्तैद रहेगी। गंगा घाट से लेकर शिवालय तक पुलिसकर्मियों को एलर्ट मोड पर कर दिया गया है।

देखें रूट मैप

बाबा भक्तों के लिए ट्रैफिक डिपार्टमेंट ने रूट मैप जारी किया है। सात रास्तों से शहर में श्रद्धालु इंट्री करेंगे। इसके अलावा हर मार्ग पर पार्किग की भी व्यवस्था की गई है।

रूट-1

चार मार्च को प्रयागराज से आने वाले श्रद्धालु कछवां रोड, राजातालाब, मोहनसराय, रोहनिया, मढ़ौली तिराहा, मंडुआडीह चौराहा, रेलवे क्रासिंग गेट नंबर-3, महमूरगंज चौकी, आकाशवाणी तिराहा, रथयात्रा, गुरुबाग, लक्सा, रामापुरा चौराहा, गोदौलिया होते हुए बाबा विश्वनाथ के दर्शन को पहुंचेंगे। इस रुट की गाडि़यों की पार्किग व्यवस्था मजदा सिनेमा हाल पार्किंग, भारत माता मंदिर, कैंसर अस्पताल के पास स्थित स्टेडियम और रोहनिया के समीप की गई है।

रूट-2

गाजीपुर से आने वाले श्रद्धालु आशापुर, कज्ज़ाकपुरा, भदऊ चुंगी, मच्छोदरी, कोतवाली, मैदागिन, बुलानाला से विश्वनाथ दरबार पहुंचेंगे। इस रूट से आने वाले श्रद्धालुओं के वाहनों की पार्किग व्यवस्था बेनियाबाग मैदान, क्वींस कालेज, नेशनल इंटर कालेज, मच्छोदरी पार्क मैदान, टाउनहाल मैदान और सनातनधर्म इंटर कालेज में की गई है।

रूट-3

जौनपुर से आने वाले श्रद्धालु बाबतपुर, तरना, गिलट बाज़ार, भोजूबीर, दैत्राबीर, वरुणा ब्रिज, अंधरापुल, तेलियाबाग, लहुराबीर, कबीरचौरा, मैदागिन चौराहे होते हुए बुलानाला होकर बाबा विश्वनाथ के दरबार पहुंचेंगे। इस रूट के वाहनों की पार्किग व्यवस्था संस्कृत विश्वविद्यालय स्पोर्ट्स ग्राउंड, इंडिया होटल के पास और कैंटोनमेंट में सेंट मेरी स्कूल में की गई है।

रूट-4

आजमगढ़ से आने श्रद्धालुओं को चोलापुर, लालपुर, पांडेयपुर चौराहा, ताड़ीखाना, चौकाघाट, तेलियाबाग, जगतगंज, लहुराबीर, कबीरचौरा होते हुए मैदागिन चौराहे से बाबा विश्वनाथ के दरबार जाने की व्यवस्था की गयी है। इस रूट के वाहनों की पार्किग की व्यवस्था इंडिया होटल के पास और कैंटोनमेंट स्थित में सेंट मेरी स्कूल में की गई है।

रूट-5

चंदौली से आने वाले श्रद्धालु राजघाट पुल, भदऊ चुंगी, कालभैरव तिराहा, कोतवाली, मैदागिन चौराहा होते हुए बाबा विश्वनाथ के दरबार पहुंचेंगे। इस रूट के वाहनों के लिए पार्किग की व्यवस्था भदऊ चुंगी से दाएं तरफ रेलवे मैदान में की गई है।

रूट-6

मिजऱ्ापुर और सोनभद्र की और से आने वाले श्रद्धालु सुसवाही, करौंदी, नारिया, बीएचयू गेट, अस्सी, सोनारपुरा, गोदौलिया होते हुए बाबा दरबार पहुंचेंगे। इन श्रद्धालुओं के लिए वाहन पार्किग की व्यवस्था रविन्द्रपुरी स्थित बाबा कीनाराम मंदिर के सामने सड़क की दोनों पटरी पर की गई है।

रूट-7

भदोही से आने वाले श्रद्धालु कपसेठी, जंसा, लोहता, चांदपुर चौराहा, मंडुवाडीह चौराहा, रेलवे क्रासिंग गेट नंबर-3, महमूरगंज चौकी, आकाशवाणी तिराहा, रथयात्रा, गुरुबाग, लक्सा, रामापुरा चौराहे से होते हुए गोदौलिया होकर काशी विश्वनाथ के दरबार में मत्था टेकेंगे।

श्रद्धालुओं को कोई असुविधा नहीं हो इसके लिए रविवार की रात दस बजे से भारी वाहनों का शहर में प्रवेश बंद कर दिया जाएगा। सात जगहों पर रूट डायवर्जन किया गया है। पब्लिक से अपील है कि शिवरात्रि पर जरूरत होने पर ही वाहनों का उपयोग करें।

शैलेंद्र कुमार सिंह, एसपी ट्रैफिक

सिक्योरिटी को लेकर खास इंतजाम किया गया है। समस्त सर्किल आफिसर व थाना प्रभारियों को अपने-अपने क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए निर्देशित किया गया है। किसी भी तरह की कोई बात होती है तो श्रद्धालु अपनी शिकायत थाना में दर्ज करा सकते है।

आनंद कुलकर्णी, एसएसपी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.