10 दिन बाद निकलनी थी बारात, निकली अर्थी

2020-02-16T05:46:16Z

फुलवारीशरीफ के बिस्कुट फैक्ट्री के समीप स्कूटी सवार अभिषेक को ट्रक ने रौंदा, पिता घायल

- 25 फरवरी को होनी थी की शादी

- 11 फरवरी को छुट्टी लेकर आया था फुलवारीशरीफ

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन् :

जिस घर में शादी की तैयारी की चहल-पहल थी। 25 फरवरी को घर से बारात निकलने वाली थी। रिश्तेदारों के आने का सिलसिला चल रहा था सभी जश्न के माहौल में डूबे थे कि अचानक घर पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा। शादी की तैयारी का जश्न मातम में बदल गया। एक पल में सारी खुशियां छीन गई। जिस बेटे के लिए माता-पिता शादी की तैयारी में दिन-रात जुटे थे, जिस लड़के की 10 दिन बाद बारात निकलने वाली थी उसे एक ट्रक वाले ने कुचल कर उसके घर की खुशियों को कुचल डाला।

जानकारी के अनुसार शनिवार को बिस्कुट फैक्ट्री के नजदीक स्कूटी सवार पिता-पुत्र को अनियंत्रित ट्रक ने कुचल दिया जिसमें बेटे अभिषेक की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि पिता का बेली रोड स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। युवक की पहचान विकासपुरम कॉलोनी निवासी अभिषेक कुमार उर्फ मुकेश के रूप में हुई।

- पूजन सामग्री लेकर लौट रहे घर

प्रत्यक्षदशियों ने बताया कि अभिषेक कुमार अपने पिता रमेश यादव को स्कूटी के पीछे बैठाकर पूजन सामग्री लेकर फुलवारीशरीफ से लौट रहा था। बिस्कुट फैक्ट्री के समीप अभिषेक जैसे ही बीच डिवाइडर से अपने घर जाने के लिए पार कर रहा था तभी विपरीत दिशा से खगौल की ओर से आ रहे एक ट्रक ने पिता-पुत्र को रौंद दिया। अभिषेक का सिर ट्रक के चक्का के नीचे आ गया और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि पीछे बैठे पिता स्कूटी से दूर जा गिरे।

- मदुरई में इंजीनियर था अभिषेक

नीतू, मीनू दो बहन व सन्नी, आशीष तीन भाइयों में सबसे बड़ा अभिषेक कुमार मदुरई में एक निजी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर कार्यरत था।

घर से 50 मीटर दूर हुआ हादसा

25 फरवरी को अभिषेक की बरात गाजियाबाद जाने वाली थी। घर में सारी तैयारी पूरी कर ली गई थी। मोहल्ले में शादी कार्ड भी बांटे जा चुके थे। 29 फरवरी को रिसेप्शन के लिए मौर्य विहार कॉलोनी में मैरेज हॉल की बुकिंग भी हो चुकी थी। कई रिश्तेदार पहुंच भी गए थे। घर की छत पर पंडाल भी लग गया था। शनिवार को घर में देव स्थापना की पूजा थी। इसके लिए सुबह अभिषेक अपने पिता रमेश यादव के साथ स्कूटी से पूजन सामग्री खरीदने के लिए घर से निकला था। लेकिन घर के 50 मीटर की दूरी पर ही बाजार से लौट रहे अभिषेक और उसके पिता रमेश यादव को ट्रक ने कुचल दिया। सड़क हादसा के बाद शोर सुनकर अभिषेक के घर वाले भी सड़क की ओर दौड़े लेकिन जब सड़क पर खुद एक सप्ताह बाद दुल्हा बनने वाले बेटे को देखकर मां बेहोश हो गई। हर तरफ चीख-पुकार मच गई। अभिषेक की मां द्रौपदी देवी बदहवाश अपने बेटे के शव को देख चीत्कार मार रही थी, जिससे वहां मौजूद लोगों के आंखों में भी आंसू आ गए। बहन मीनू और नीतू लगातार बेहोश हो रही थी। भाई सन्नी और आशीष का भी रो-रोकर बुरा हाल था।

- पिता के सामने ही बेटे ने तोड़ा दम

जिस समय ट्रक की चपेट में अभिषेक आया उस समय पिता भी उसी स्कूटी पर पीछे बैठे थे, लेकिन ट्रक की ठोकर से रमेश कुछ दूर जा गिरे। पिता लड़खड़ाते हुए जबतक अपने बेटे के पास पहुंचते। बेटा अभिषेक दम तोड़ चु़का था।

सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच की। घटना के बाद चालक ट्रक लेकर फरार हो गया।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.