अब प्रयागराज से लखनऊ का सफर सिर्फ 3 घंटे में

2019-06-24T10:17:34Z

15 जुलाई तक पूरा हो जाएगा प्रयाग से इलाहाबाद जंक्शन तक डबलिंग का कार्य। अक्टूबर लास्ट तक लखनऊ रूट का हो जाएगा दोहरीकरण नवंबर में पटरी पर आ जाएगी प्रयागराजलखनऊ शताब्दी

balaji.kesharwani@inext.co.in
PRAYAGRAJ:
सब कुछ ठीक रहा, कोई अड़चन नहीं आई तो 2019 नवंबर के अंत तक लखनऊ रूट पर शताब्दी एक्सप्रेस दौड़ने लगेगी. इससे लखनऊ की दूरी तो कम नहीं होगी लेकिन वहां तक आना-जाना सिर्फ तीन घंटे में संभव हो जाएगा. यह सेवा फ्लाइट की कमी पूरी कर सकती है जो जेट एयरवेज का डिब्बा बंद होने के बाद बंद हो चुकी है.

एनसीआर लक्ष्य हासिल करने के करीब
यह कल्पना इसलिए संभव होगी क्योंकि 15 जुलाई तक प्रयाग स्टेशन से इलाहाबाद जंक्शन तक रेलवे लाइन डबलिंग का काम पूरा हो जाएगा. उत्तर रेलवे ने भी अक्टूबर तक रेलवे लाइन डबलिंग का कार्य पूरा करने का टार्गेट निर्धारित किया है. दोनों अपने टारगेट पूरा करने को लेकर सीरियस हैं. काम फुल स्ट्रीम में चल रहा है. इसी से यह संभावना मजबूत हुई है कि नवंबर से इस रूट पर भी हाईस्पीड में ट्रेन का संचालन संभव होगा.

चल रही शताब्दी चलाने की मांग
- पिछले कई वर्षो से प्रयागराज से लखनऊ के लिए शताब्दी एक्सप्रेस चलाए जाने की मांग यहां के लोगों द्वारा की जा रही है.

- रेलवे के अधिकारी भी ये मानते हैं कि शताब्दी एक्सप्रेस प्रयागराज के लिए जरूरी है.

- अभी तक लखनऊ रूट पर सिंगल लाइन होने के कारण शताब्दी एक्सप्रेस चलाना संभव नहीं है.

- कुंभ मेला के दौरान ही लखनऊ शताब्दी एक्सप्रेस चलाए जाने की संभावना थी

- रेलवे लाइन दोहरीकरण न हो पाने के कारण ही शताब्दी एक्सप्रेस नहीं चल सकी.

- अभी कोई हाईस्पीड ट्रेन नहीं

- अभी तक लखनऊ के लिए इलाहाबाद से कोई हाईस्पीड ट्रेन अवेलेबल नहीं है.

- नवंबर में लखनऊ रूट के डबलिंग का कार्य पूरा होने और हाई-स्पीड ट्रेन शताब्दी एक्सप्रेस के चलने से लखनऊ की करीब 200 किलोमीटर की दूरी तीन घंटे में तय होगी.

- इलाहाबाद से लखनऊ के बीच आधा दर्जन से अधिक ट्रेनें संचालित होती हैं.

- सिंगल लाइन होने के कारण ट्रेनों को यात्रा पूरी करने में चार घंटे से अधिक का समय लगता है.

- इसलिए लोग बस से या फिर निजी कार से लखनऊ जाना ज्यादा पसंद करते हैं.

फ्लाइट भी हो चुकी है बंद
14 जून 2018 को जेट एयरवेज ने लखनऊ से इलाहाबाद और इलाहाबाद से लखनऊ के लिए हवाई उड़ान शुरू की थी, जो जेट पर आए आर्थिक संकट के बाद बंद हो चुका है. अब हवाई उड़ान भी अवेलेबल नहीं है. वर्तमान में लखनऊ के लिए प्रयाग से केवल एक ट्रेन है, जो सुबह 11 बजे लखनऊ पहुंचाती है.

पैसेंजर्स की डिमांड को देखते हुए रेलवे भी ये मानता है कि प्रयाग से लखनऊ के लिए शताब्दी एक्सप्रेस का संचालन जरूरी है. इसीलिए एनसीआर ने प्रयाग से इलाहाबाद जंक्शन तक डबलिंग का कार्य तेज कर दिया है, जो 15 जुलाई तक पूरा हो जाएगा. नवंबर तक शताब्दी एक्सप्रेस चलाए जाने की उम्मीद है.
अमित मालवीय, पीआरओ, एनसीआर

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.