ट्यूबवेल और सुलभ शौचालय कर दिया ध्वस्त

2018-11-14T06:00:20Z

-कर्नलगंज एरिया का मामला, नहीं किया गया दूसरा इंतजाम, पब्लिक परेशान

-भारद्वाज पार्क के लिए बनाई जाएगी पार्किंग

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: कुंभ मेला 2019 के लिए हो रहे काम की प्लानिंग लगातार सवालों के घेरे में है। इन दिनों भारद्वाज पार्क के लिए काम चल रहा है। यहां पार्क की पार्किंग के लिए काफी पुराने ट्यूबवेल और उसके बगल में स्थित सुलभ शौचालय को ही ध्वस्त कर दिया गया है। इस वजह से एक तरफ भारद्वाज आश्रम में स्थित अंडरग्राउंड टैंक को भरने पर सवाल खड़ा हो गया है। वहीं दूसरी तरफ आस-पास की बस्तियों में रहने वालों को अब लोटा उठाने को मजबूर कर दिया गया है।

400 फीट गहरा बोर हुआ बंद

भारद्वाज आश्रम के पीछे 20 लाख लीटर की क्षमता वाला अंडरग्राउंड टैंक बना हुआ है। इसमें फतेहपुर बिछुआ, बालसन तिकोनिया, कर्नलगंज थाना और भारद्वाज आश्रम विकलांग कल्याण केंद्र के पास लगे ट्यूबवेल से पानी की आपूर्ति की जाती है और सीडब्ल्यूआर टैंक को भरा जाता है। तीन ट्यूबवेल तो अभी भी काम कर रहे हैं, लेकिन भारद्वाज पार्क के बाहर विकलांग कल्याण केंद्र के पास स्थित ट्यूबवेल को ध्वस्त कर दिया गया है। करीब 400 फीट गहरे बोर को ही ईट-पत्थर डालकर बंद कर दिया गया है। वहीं ट्यूबवेल को हटा दिया गया है।

सुलभ शौचालय था कई का सहारा

ट्यूबवेल के बगल में ही एक सुलभ शौचालय भी स्थित था। यह भारद्वाज आश्रम के पीछे स्थित बस्ती में रहने वाले बाशिंदों के साथ ही भारद्वाज आश्रम और आनंद भवन आने वाली पब्लिक के लिए भी बड़ा सहारा था। लेकिन भारद्वाज पार्क के रिमॉडलिंग वर्क के तहत ट्यूबवेल ध्वस्त करने के साथ ही बगल में स्थित सुलभ शौचालय को भी ध्वस्त कर दिया गया है। इससे आस-पास की बस्तियों में रहने वाले उन परिवारों के सामने दिक्कत खड़ी हो गई है, जिनके पास अपना टॉयलेट नहीं है।

नहीं हुआ इंतजाम

भारद्वाज पार्क में आने वाले लोगों के वाहनों के लिए पार्किंग लॉट बनाने के लिए ट्यूबवेल और सुलभ शौचालय ध्वस्त करने से पहले पब्लिक के बारे में नहीं सोचा गया। कहीं और ट्यूबवेल स्थापित कराए जाने और सुलभ शौचालय बनवाए जाने का इंतजाम नहीं किया गया।

नहीं भर पाएगा सीडब्ल्यूआर टैंक

भारद्वाज आश्रम में स्थित सीडब्ल्यूआर अंडरग्राउंड टैंक से कर्नलगंज, बाबाजी का बाग, दरभंगा, जार्ज टाउन और टैगोर टाउन एरिया में पानी की आपूर्ति होती है। चार ट्यूबवेल से टैंक भरा जाता है, जिसमें से एक ट्यूबवेल ध्वस्त किए जाने से टैंक नहीं भर पाएगा। जिस ट्यूबवेल को ध्वस्त किया गया है, उसकी क्षमता 2000 लीटर पर मिनट पेयजल आपूर्ति करने की थी।

हमारे पास न पैसा है और न जमीन कि हम अपना टॉयलेट बनवा सकें। सुलभ शौचालय ही एक मात्र सहारा था, जिसे ध्वस्त कर दिया गया। आस-पास अब कहीं भी सुलभ शौचालय नहीं है, हम गरीब अब कहां जाएंगे।

-मिथलेश कुमारी

एक तरफ सरकार ओडीएफ की बात कर रही है, वहीं दूसरी तरफ जो लोग सुलभ शौचालय जाते थे, उन्हें अब लोटा उठाने को मजबूर कर दिया गया है।

-रिंकू गोस्वामी

कुंभ मेला के लिए भारद्वाज पार्क को सजाया जाना ठीक है, लेकिन पहले से निर्मित ट्यूबवेल और सुलभ शौचालय को ध्वस्त करना पूरी तरह से गलत है। अगर ध्वस्त करना इतना ही जरूरी था तो ट्यूबवेल और सुलभ शौचालय का आस-पास कहीं और इंतजाम करते। बस्तियों में रह रही पब्लिक कहां जाएगी। वहीं सीडब्ल्यूआर टैंक को भरने में अब परेशानी होगी।

-आनंद घिल्डियाल

पार्षद कर्नलगंज

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.