दो लाख देकर करवाया था बैंक मैनेजर का मर्डर

2016-01-15T02:10:19Z

RANCHI: ख्ब् दिसंबर को बोकारो के बैंक मैनेजर निशांत पनसारी हत्याकांड में रांची से गिरफ्तार आरोपी विकास जायसवाल ने जुर्म कबूल कर लिया है। उसने गुरुवार को बोकारो पुलिस के समक्ष अपने स्वीकारोक्ति बयान में कहा कि हां, दो लाख रुपए देकर बैंक मैनेजर निशांत का मर्डर करवाया था। विकास ने यह भी बताया कि कई बार उसने निशांत को छात्रा से अलग रहने की चेतावनी दी थी, लेकिन वह हंस कर टाल देता था। विकास ने शूटर रांची से हायर किए थे या बोकारो से। पुलिस इस मामले में पूछताछ कर रही है। गौरतलब हो कि मामले में बोकारो सेक्टर सिक्स की पुलिस विकास जायसवाल को रांची के लोअर बाजार इलाके के काली मंदिर के पास से गिरफ्तार कर ले गई थी। मालूम हो कि आई नेक्स्ट में सुपारी देकर कराया बैंक मैनेजर की मर्डर शीर्षक से खबर गुरुवार के अंक में ही छापी जा चुकी है।

ख्009 में छात्रा से हु‌र्इ्र थी मुलाकात

विकास ने बताया कि वर्ष ख्009 में उसकी मुलाकात जेवियर कॉलेज में कॉमर्स की पढ़ाई कर रही छात्रा से हुई थी। वह छात्रा को कॉलेज से लॉज तक छोड़ने जाता था। उसने छात्रा के पीछे काफी पैसे खर्च किए। वर्ष ख्0क्ख् में वह महिंद्रा कोचिंग में क्लास करने जाने लगी। यहां निशांत पनसारी गेस्ट फैकल्टी के रूप में पढ़ाता था। वहीं पर छात्रा की मुलाकात निशांत से हुई। चूंकि छात्रा बोकारो बीटीपीएस की रहनेवाली थी और निशांत पनसारी गोमिया का। इससे दोनों एकजुट हो गए। इसी दौरान दोनों कई बार बोकारो आए-गए और उनमें नजदीकियां बढ़ गई। मुझे इसकी जानकारी मिल गई और मैंने रास्ते से कांटा हटाने का निर्णय कर लिया।

छात्रा के लिए पत्नी को दी तलाक

विकास ने यह भी बताया उसने चतरा की एक लड़की से शादी रचाई थी। बाद में छात्रा को पाने के लिए उसने अपनी पत्‍‌नी को तलाक दे दिया था। समझौते के तौर पर उसने अपनी पत्‍‌नी को सात लाख रुपए भी दिए। इधर, जब छात्रा ने विकास को वैल्यू देना छोड़ दिया तो उसे गुस्सा आता। वह कई बार बोकारो भी गया और छात्रा से मिलता था। पर, छात्रा उससे मिलना नहीं चाहती थी।

निशांत को चेताया था

विकास ने बोकारो पुलिस को बताया कि जब वह जान गया कि निशांत से छात्रा की अच्छी बन रही है, तो उसने निशांत को धमकी भी दी थी। इस बात की पुष्टि उसके बैंक के कर्मी भी कर रहे हैं। बैंककर्मियों का कहना है कि धमकी की बात पर निशांत कहता था कि बर्तन बेचनेवाला क्या कर लेगा।

ऐसे हुई थी हत्या

ख्ब् दिसंबर की रात बैंक ऑफ इंडिया के रिजनल मैनेजर निशांत पनसारी सहकर्मी रूपेश कुमार के साथ चीराचास स्थित अपने घर की ओर जा रहे थे। इसी क्रम में बोकारो के सेक्टर पांच स्थित आशालता विकलांग विकास केंद्र के पास उनकी कार में पीछे से एक बाइक सवार ने टक्कर मार दी। दोनों वाहन रुक गए। थोड़ी देर बाद कार आगे बढ़ गई। बाइक सवार ने थोड़ा आगे जाकर ब्रेकर के पास कार को रुकवाया। उनका कहना था कि बाइक का नुकसान हुआ है, इसका हर्जाना देना होगा। इसी क्रम में नोकझोंक हुई और बाइक सवार ने गोली मार दी। रूपेश ने निशांत को संभाला और तत्काल बैंक से जुड़े अधिकारियों को फोन किया। उसके बाद वह निशांत को बीजीएच लेकर गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.