Union Budget 2019 प्रधानमंत्री ने कहा गरीबों को सशक्त करने और युवाओं को बेहतर कल देने वाला बजट

2019-07-05T16:49:31Z

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को Union Budget 2019 को नागरिक के हित में विकास के अनुकूल और फ्यूचरिस्टिक बताते हुए कहा कि यह गरीबों को सशक्त करेगा और युवाओं को बेहतर भविष्य प्रदान करेगा।

नई दिल्ली (पीटीआई)। बजट को "आशा" बढ़ाने वाला और "आत्मविश्वास" बढ़ाने वाला करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार की नीतियां दलितों को सशक्त बनाएंगी और उन्हें देश के विकास के "पावर हाउस" में बदलेंगी। केंद्रीय बजट को संसद में पेश किए जाने के बाद एक टेलीविजन कार्यक्रम में, मोदी ने कहा कि यह एक "ग्रीन बजट" है जो पर्यावरण पर फोकस कर रहा है और इसमें इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और सोलर सेक्टर पर विशेष बल दिया गया है। मोदी ने कहा कि बजट कृषि क्षेत्र में संरचनात्मक सुधारों को रेखांकित करता है और इसमें कृषि क्षेत्र को बदलने और किसानों की आय दोगुनी करने का रोडमैप है।
गरीबों, युवाओं और मध्यम वर्ग को लाभ देने वाला बजट
"न्यू इंडिया" के निर्माण के लिए एक दस्तावेज के रूप में बजट की सराहना करते हुए, उन्होंने कहा कि यह गरीबों को मजबूत करेगा और देश के युवाओं के लिए बेहतर भविष्य का निर्माण करेगा। बजट के संभावित लाभों पर प्रकाश डालते हुए, पीएम ने कहा कि इससे देश में विकास की गति तेज होगी और मध्यम वर्ग को बहुत लाभ होगा। मोदी ने कहा, "बजट से कर प्रक्रिया सरल होगी और देश में बुनियादी ढांचे को आधुनिक बनाने में मदद मिलेगी।"

आशा से भरा बजट
प्रधानमंत्री ने कहा कि बजट उद्यमों के साथ-साथ उद्यमियों को भी मजबूत करेगा। उन्होंने कहा कि बजट देश के विकास में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाएगा। बजट को "आशा से भरा हुआ बताते हुए उन्होंने कहा कि यह 21 वीं सदी में भारत के विकास को बढ़ावा देगा। पीएम मोदी का ये भी मानना है कि केंद्र सरकार ने गरीबों, किसानों, दलितों, शोषितों और समाज के वंचितों के सशक्तीकरण के लिए चौतरफा कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा कि इससे देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के सपने को पूरा करने के लिए ऊर्जा मिलेगी।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.