UP Budget 2019 धर्म और पर्यटन पर योगी सरकार ने किया फोकस

2019-02-08T12:04:42Z

कई धार्मिक स्थलों में होगा विकास कार्य। पर्यटन स्थलों का विकास करेगी सरकार।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : योगी सरकार ने अपने तीसरे बजट में धार्मिक और पर्यटन स्थलों के विकास पर भी फोकस किया है। इसके तहत वाराणसी स्थित श्री काशी विश्वनाथ मंदिर विस्तारीकरण योजना के क्रियान्वयन के लिए श्री काशी विश्वनाथ विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद का गठन किया गया है। गंगा तट से विश्वनाथ मंदिर तक मार्ग के विस्तारीकरण एवं सौन्दर्यीकरण के लिए 207 करोड़ रुपये की बजट में व्यवस्था की गयी है। इसी तरह वाराणसी के काशी हिंदू विश्वविद्यालय में वैदिक विज्ञान केंद्र की स्थापना के लिए 16 करोड़ रुपये दिए गये हैं। साथ ही मथुरा-वृंदावन के मध्य ऑडिटोरियम के निर्माण के लिए 8.38 करोड़ रुपये, सार्वजनिक रामलीला स्थलों में चहारदीवारी निर्माण के लिए पांच करोड़ रुपये, वृंदावन शोध संस्थान के सुदृढ़ीकरण के लिए एक करोड़ रुपये की व्यवस्था की गयी है।

कई पर्यटन स्थलों की बदलेगी सूरत

राज्य सरकार ने कई पर्यटन स्थलों के विकास के लिए बजट में धनराशि का इंतजाम किया है। बृज तीर्थ में अवस्थापना सुविधाओं के लिए 125 करोड़ रुपये, अयोध्या के प्रमुख पर्यटन स्थलों के समेकित विकास के लिए 101 करोड़ रुपये, गढ़ मुक्तेश्वर के पर्यटन स्थलों के विकास के लिए 27 करोड़ रुपये, पर्यटन नीति 2018 के क्रियान्वयन के लिए 70 करोड़ रुपये तथा प्रो-पुअर टूरिज्म के लिए 50 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा प्रयागराज में ऋषि भारद्वाज आश्रम एवं श्रृंगवेरपुर धाम, विंध्याचल एवं नैमिषारण्य का विकास, बौद्ध परिपथ में सारनाथ, श्रावस्ती, कुशीनगर, कपिलवस्तु, कौशाम्बी एवं संकिसा का विकास, शाकुम्भरी देवी एवं शुक्रताल का विकास, राजापुर चित्रकूट में तुलसी पीठ का विकास, बहराइच में महाराजा सुहेलदेव स्थल एवं चित्तौरा झील का विकास तथा लखनऊ में बिजली पासी किले का विकास किया जाना प्रस्तावित है।

UP Budget 2019 : प्रयागराज, वाराणसी, मेरठ, गोरखपुर आैर झांसी में भी मेट्रो रेल


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.