UP Lok Sabha Election Result 2019 माया को 'मुस्कान' अखिलेश को करारा नुकसान

2019-05-24T09:55:22Z

लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों से समाजवादी पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। लगातार दूसरी बार अखिलेश को गठबंधन से नुकसान उठाना पड़ा।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन होने के बाद नारा दिया गया था कि 'एक वोट घटने न पाए, एक वोट बंटने न पाए', चुनाव नतीजे आने के बाद यह अनुमान लगाना आसान है कि तमाम समझौते कर बसपा से गठबंधन करने वाली समाजवादी पार्टी को उम्मीद के मुताबिक बसपा कैडर के वोट हासिल नहीं हो सके। इसके विपरीत बसपा को सपा के वोट बैंक का भरपूर फायदा मिला और वह पिछले चुनाव में मिली जीरो सीट की जगह इस बार 10 सीटों पर अपनी जीत का परचम लहराने में कामयाब रही। निश्चित रूप से यह सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के राजनीतिक कौशल की कमी ही माना जाएगा जो सूबे की बड़ी पार्टियों में शुमार इस दल को चुनाव में हाशिए पर ढकेलने की वजह बन गया।
नहीं बचा पाए तीनों सीट
सपा की हार का आलम यह रहा कि उपचुनाव में जीती अपनी तीनों सीटों पर भी वह अपना कब्जा बरकरार नहीं रख सकी। पिछले लोकसभा चुनाव में परिवार के सदस्यों की पांच सीटों पर ही जीत हासिल करने वाली सपा ने उपचुनाव में सीएम योगी के गढ़ गोरखपुर, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के प्रभाव वाली सीट फूलपुर और भाजपा सांसद हुकुम सिंह के निधन से रिक्त हुई कैराना सीट पर जीत हासिल की थी। ये तीनों सीटें अब भाजपा के कब्जे में दोबारा आ चुकी है। सपा केवल आजमगढ़, मैनपुरी, रामपुर को मजबूती से जीत पाई है। इसमें से आजमगढ़ और मैनपुरी में पिछली बार मुलायम सिंह यादव चुनाव जीते थे। बाद में मैनपुरी सीट पर उपचुनाव में मुलायम के पौत्र तेजप्रताप ने जीत दर्ज करायी थी। इस बार सपा को तीन सीटों रामपुर, संभल और मुरादाबाद में खाता खोलने का मौका मिला है जो थोड़ी राहत की बात जरूर है पर अपने तीन सांसदों कन्नौज सीट पर डिंपल यादव, फिरोजाबाद सीट पर अक्षय यादव और बदायूं सीट पर धर्मेंद्र यादव की हार से उसे गहरा झटका भी लगा है।

बसपा के दोनों हाथों में लड्डू

गठबंधन का नेतृत्व कर रहीं बसपा सुप्रीमो मायावती को इस चुनाव में नौ सीटों पर कामयाबी मिली है जो उसके लिए सुखद संकेत है हालांकि मायावती का प्रधानमंत्री बनने का सपना इस बार भी पूरा नहीं हो सका। पिछले चुनाव में बसपा का खाता भी नहीं खुल सका था जबकि विधानसभा चुनाव में भी उसे महज 19 सीटों से संतोष करना पड़ा था। इसके बाद यह अनुमान लगाया जाने लगा था कि बसपा का बुरा दौर शुरू हो गया है और पार्टी को यूपी में अब पुनर्जीवित करने की उम्मीदें खत्म हो गयी है। हालांकि सपा से गठबंधन कर उसे नौ सीटों पर जीत हासिल हुई है। बसपा की ओर से सबसे शानदार प्रदर्शन गाजीपुर में अफजाल अहमद अंसारी ने केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा को हराकर किया। पूर्वांचल में अंसारी बंधुओं और मनोज सिन्हा के बीच रार भी सबकी जुबां पर रहती है लिहाजा इस जीत के तमाम मायने भी निकाले जा सकते हैं। गाजीपुर के अलावा बसपा को अंबेडकरनगर, अमरोहा, घोसी, जौनपुर, लालगंज, नगीना, सहारनपुर, बिजनौर और श्रावस्ती में भी जीत हासिल हुई है। इन सारी सीटों पर बसपा ने भाजपा को शिकस्त दी है।
कांग्रेस ने बिगाड़ा खेल
विधानसभा चुनाव में सपा के साथ गठबंधन करने वाली कांग्रेस ने सपा-बसपा-रालोद गठबंधन को लोकसभा चुनाव में गहरी चोट दी है। गठबंधन में शामिल न होकर और यूपी की तमाम सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारकर कांग्रेस ने गठबंधन को बड़ी जीत की ओर बढऩे से रोक लिया जिससे उम्मीद के मुताबिक सीटों पर जीत हासिल नहीं हो सकी। इसका सीधा नुकसान कांग्रेस को भी हुआ है और वह अमेठी को छोड़कर किसी भी जगह दूसरे स्थान पर भी नहीं आ सकी।
बसपा को इन सीटों पर मिली जीत

सीटबसपा प्रत्याशी जीताभाजपा प्रत्याशी हारा अंबेडकरनगररितेश पांडेयमुकुट बिहारी वर्मा अमरोहाकुंवर दानिश अलीकंवर सिंह तंवर घोसीअतुल रायहरिनारायण राजभरगाजीपुरअफजाल अंसारीमनोज सिन्हाजौनपुरश्याम सिंह यादवकेपी सिंहलालगंजसंगीता आजादनीलम सोनकरनगीनागिरीश चंद्रडॉ. यशवंत सिंहसहारनपुरहाजी फजलुर्ररहमानराघव लखनपालश्रावस्तीराम शिरोमणिदद्दन मिश्राबिजनौरमलूक नागरराजा भारतेंद्र सिंह


सपा को इन सीटों पर मिली जीत

सीटसपा प्रत्याशी जीताभाजपा प्रत्याशी हाराआजमगढ़अखिलेश यादवदिनेश कुमार यादव निरहुआमैनपुरीमुलायम सिंह यादवप्रेम सिंह शाक्यरामपुरमोहम्मद आजम खांजया प्रदामुरादाबादटीके हसनकुंवर सर्वेश कुमारसंभलशफीकुर्ररहमान बर्कपरमेश्वर लाल सैनी


UP Lok Sabha Election Result 2019 : यूपी में आपके इलाके का नया सांसद कौन, देखें 80 विजेताओं की पूरी लिस्ट


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.