पीसीएस में गरीब सवर्णो को भी आरक्षण

2019-10-17T05:46:16Z

उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग ने सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा यानी पीसीएस 2019 की भर्ती का विज्ञापन जारी कर दिया है। पीसीएस परीक्षा में पहली बार गरीब सवर्णो को भी दस फीसदी आरक्षण का लाभ मिलेगा। आयोग को पीसीएस भर्ती के लिए अब तक 300 से अधिक पदों का अधियाचन मिला है। यह संख्या आगे और बढ़ सकती है। ऑनलाइन आवेदन का सिलसिला बुधवार से शुरू हो गया है, जो 13 नवंबर तक चलेगा, जबकि अभ्यर्थी 11 नवंबर तक परीक्षा शुल्क जमा कर सकते हैं।

यूपीपीएससी पिछले वर्ष की तरह इस बार भी पीसीएस 2019 की प्रारंभिक परीक्षा के साथ सहायक वन संरक्षक/क्षेत्रीय वन अधिकारी सेवा यानी एसीएफ/आरएफओ की प्रारंभिक परीक्षा 2019 साथ कराएगा, जबकि दोनों की मुख्य परीक्षा अलग-अलग होगी। आयोग का दावा है कि पीसीएस सामान्य चयन के लिए 300 व विशेष चयन के लिए नौ पद हैं। वहीं, सहायक वन संरक्षक के दो और क्षेत्रीय वन अधिकारी के 53 पद हैं। यह संख्या ऑनलाइन आवेदन लेने व परीक्षा परिणाम जारी होने तक बढ़ सकती है। आयोग के परीक्षा कैलेंडर में इसकी पीसीएस प्रारंभिक परीक्षा 15 दिसंबर को होना प्रस्तावित है।

---------------

33 विषय घटकर रह गए 29

पीसीएस 2019 की मुख्य परीक्षा में पहले 33 विषय होते थे, जबकि अब मुख्य परीक्षा 29 विषयों की कराई जाएगी। सबसे ज्यादा मुख्य परीक्षा में लिया जाने वाला विषय रक्षा अध्ययन, समाज कार्य जैसे विषय इसमें शामिल नहीं किए गए हैं। इसके अलावा अरबी, फारसी, कृषि अभियांत्रिकी जैसे विषय भी इस परीक्षा से बाहर कर दिए गए हैं। पहली बार विज्ञापन में ही महिला आरक्षण से संबंधित विवाद का उल्लेख है। आरक्षण सिर्फ उत्तर प्रदेश की महिलाओं अभ्यर्थियों को ही मिलेगा, लेकिन अंतिम परिणाम न्यायालय के निर्णय के अधीन है।

------

साक्षात्कार में दो गुना बुलाए जाएंगे अभ्यर्थी

पीसीएस 2019 के इंटरव्यू में दो गुना अभ्यर्थी ही बुलाए जाएंगे। पहले तीन गुना अभ्यर्थी बुलाए जाते थे लेकिन, इस बार अभ्यर्थियों की संख्या कम कर दी गई है।

----------

हजारों अभ्यर्थियों को तगड़ा झटका

पीसीएस परीक्षा में रक्षा अध्ययन व समाजकार्य जैसे विषय हटने से कम से कम 10 हजार अभ्यर्थियों को झटका लगा है। वह मुख्य परीक्षा देने की तैयारी कर रहे थे। जबकि अरबी, फारसी के अभ्यर्थियों को भी निराशा हाथ लगी है। आयोग के निर्णय के खिलाफ अभ्यर्थी विरोध प्रदर्शन करने की तैयारी कर रहे हैं।

----

कम अभ्यर्थी बुलाने का विरोध

पीसीएस 2019 की मुख्य परीक्षा में 18 के बजाय अब 13 गुना अभ्यर्थियों को बुलाने का विरोध शुरू हो गया है। अभी तक जारी 300 पद के अनुसार 13 गुना अभ्यर्थी बुलाने पर 3900 ही मुख्य परीक्षा दे पाएंगे, जबकि पूर्व में यह संख्या 18 गुना होती थी।

------

सिर्फ अंग्रेजी में आया विज्ञापन

यह पहला मौका है जब पीसीएस परीक्षा का विज्ञापन अभी सिर्फ अंग्रेजी में जारी किया गया है। इसके पहले ¨हदी व अंग्रेजी भाषा में विज्ञापन जारी किया जाता था।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.