जानलेवा साबित हुआ आईएसबीटी कट, युवक की मौत

Updated Date: Sun, 29 Nov 2020 09:02 AM (IST)

एक दिन पहले ही दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने जताई थी आशंका

जिम्मेदारों का अभी भी नहीं ध्यान, हादसे रोकने को नहीं कोई प्लान

आगरा। आखिरकार जिम्मेदारों की अनदेखी ने एक युवक की जान ले ली। शनिवार को आईएसबीटी कट पर लोडिंग टेम्पो की टक्कर से बाइक सवार एक युवक की मौत हो गई। आईएसबीटी के पास बने नए कट को लेकर दैनिक जागरण-आईनेक्स्ट ने न्यूज पब्लिश कर जिम्मेदारों को नींद से जगाने का प्रयास किया था लेकिन इसके बावजूद हादसों को रोकने पर न तो उनका ध्यान है और न ही इसके लिए कोई ठोस प्लान।

कट बना हादसे की वजह

शनिवार को आईएसबीटी पर बनाया गया नया कट हादसे की वजह बन गया। बता दें आईएसबीटी पर फ्लाईओवर का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। इसके चलते हाईवे के कट को बंद कर दिया गया है। इसके आगे कुछ दूरी पर एनएचएआई ने एक नया कट बना दिया है। शनिवार सुबह 10.30 बजे नए कट पर हादसा हो गया। बल्केश्वर के रजवाड़ा निवासी जूता कारीगर 24 वर्षीय निक्की अपने साथी आकाश के साथ बाइक से सिकंदरा की ओर जा रहा था। नये कट पर पहुंचते ही पीछे से आए लोडर टेंपो ने बाइक में टक्कर मार दी। टक्कर के बाद लोडर टेंपो लेकर चालक मौके से भाग खड़ा हुआ। हादसे में निक्की की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि साथी आकाश घायल हो गया। राहगीरों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। निक्की के भाई विशाल ने बताया कि निक्की और आकाश एक फैक्ट्री में काम करते हैं। दोनों सुबह घर से फैक्ट्री जाने को निकले थे। निक्की की मौत के बाद घर में कोहराम मच गया है। प्रत्यक्षदर्शीयों का कहना है कि निक्की बाइक से सीधा जा रहा था। कट पर कई वाहन मुड़ रहे थे, तभी पीछे से आए लोडर टेंपो ने उन्हें चपेट में ले लिया।

ये है हादसे की वजह

- एनएचएआई द्वारा आईएसबीटी के पास फ्लाईओवर बनाया जा रहा है।

- सíवस रोड को ब्लॉक कर दिया गया है। प्रोजेक्ट मैटेरियल हाईवे पर पड़ा हुआ है।

- आईएसबीटी से बाहर आकर सवारियां लेने के लिए बसें खड़ी हो जाती हैं।

- निकलने को जगह नहीं रहती है।

- जो पुराने कट से उनको बंद कर दिया है, नए कट खोल दिए गए हैं।

- सिकंदरा फ्लाईओवर को मरम्मत के चलते बंद किया गया हुआ है।

- सिकंदरा से वन-वे ट्रैफिक है। इसके बाद एक साथ आगे ट्रैफिक का लोड बढ़ जाता है।

- आईएसबीटी पर पहले भी कई हादसे हो चुके हैं।

ये हैं कट बंद होने और खोलने का नियम

-नियमानुसार हाईवे पर सभी अनाधिकृत कट को बंद करने का प्रावधान है।

- अगर कहीं गैदरिंग या लोगों का ज्यादा आवागमन होता है, तो फ्लाईओवर, फुट ओवर ब्रिज या नजदीक के अंडरपास से निकलने की व्यवस्था का प्रावधान है।

- ऐसे में अगर हाईवे पर कहीं ये सुविधा उपलब्ध नहीं है तो स्थानीय जनप्रतिनिधि द्वारा हाईवे अथॉरिटी को वैकल्पिक रास्ते के लिए पत्र लिखना होता है। पत्र में ये भी बताना होता है, कि वैकल्पिक रास्ता क्यों जरुरी है।

-----

सड़क सुरक्षा समिति बनाती है कार्ययोजना

जिले में सड़क हादसों को रोकने के लिए सड़क सुरक्षा समिति कार्ययोजना बनाती है। दरअसल सड़क सुरक्षा समिति के जिले के डीएम अध्यक्ष होते हैं। इसमें आरटीओ, नगर निगम, एडीए, पुलिस, ट्रैफिक पुलिस, ट्रांसपोर्ट, पर्यटन विभाग, आवास विकास परिषद, पब्लिक करियर, पीडब्ल्यूडी, एनएचएआई समेत कई अन्य विभाग इसके सदस्य होते हैं। नियमानुसार सड़क सुरक्षा समिति की मीटिंग के बाद सभी की सहमति से कार्ययोजना तैयार की जाती है। इस कार्य योजना को लेकर सड़क हादसे रोकने के लिए उपाय किए जाने चाहिए। लेकिन सड़क सुरक्षा समिति सिर्फ फाइलों में है।

ये हैं जिले के ब्लैक स्पॉट

लंगड़े की चौकी, सुल्तानगंज की पुलिया

- पीपी नगर कट, सिकंदरा

- भगवान टॉकीज

- गुरु का ताल

- सब्जी मंडी के सामने सिकंदरा

- टेड़ी बगिया

- 100 फुटा रोड

- रोहता चौराहा

- प्रकाश कोल्ड स्टोर खंदौली रोड

- किरावली अछनेरा रोड

-फतेहपुरसीकरी रोड

- रोहता नगर मलपुरा

- फतेहपुरसीकरी रोड

- जगदीशपुरा बोदला

- बिचपुरी रोड तिराहा

- तेहरा चौराहा

- सैंया चौराहा

- राजापुरा इरादतनगर रोड

- इटौरा चौराहा

- बाद चौराहा

- बाद तिराहा ओवर ब्रिज के पास

- बरहन तिराहा

- कागारौल जैंगारा रोड

- जगनेर सरेंधी चौराहा

- खारी नदी का पुल इरादतनगर

- बाबा की तिवरिया फतेहाबाद

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.