-परिजनों को लेकर कार्यालय पहुंची विकास प्राधिकरण पीडि़ता

-हंगामा देख एडीए अधिकारियों ने मामले को कराया शांत

आगरा। आगरा विकास प्राधिकरण कार्यालय में मंगलवार दोपहर उस समय हंगामा हो गया, जब एक महिला कर्मचारी ने कार्यालय के एक अधिकारी पर शोषण करने का आरोप लगा दिया। अधिकारी के कमरे में तीस मिनट तक हंगामा रहा। इस पर एडीए सचिव व विशेष कार्यधिकारी गरिमा सिंह सहित कई अधिकारी मौके पर पहुंच गए। महिला कर्मचारी ने इस संबंध में अधिकारी के खिलाफ एडीए उपाध्यक्ष डॉ। राजेंद्र से शिकायत की है।

हाथ पकड़ कर खींचने का लगाया आरोप

शास्त्रीपुरम में रहने वाली एक युवती को 5 साल पहले एडीएम में मृतक आश्रित पद पर नौकरी मिली थी। युवती लंबे समय तक प्रधान कार्यलय में तैनात रही। दो महीने पहले ही उसका लेखा विभाग में ट्रांसफर हुआ है। महिला कर्मचारी के आफिस के सामने ही वित्त विभाग के एक बड़े अधिकारी का कार्यालय है।

महिला ने लगाए आरोप

मंगलवार दोपहर को युवती किसी काम से अफसर के चेंबर में पहुंची। आरोप है कि यहां पहुंचते ही अफसर ने उसका हाथ पकड़ लिया और अपनी तरफ खींचने का प्रयास किया। आरोप है कि अधिकारी ने गलत हरकत करने की कोशिश की। यह देखकर युवती बुरी तरह से डर गई। उसने इसकी जानकारी अपनी मां व बहन को दी।

परिजनों ने अधिकारी को लिया आड़े हाथ

दोपहर करीब दो बजे युवती के मां व भाई एडीए पहुंच गए। यहां उन्होंने अधिकारी के कार्यालय में जमकर हंगामा कर आरोपी अधिकारी को आड़े हाथ लेते हुए खरी खोटी सुनाई। युवती के भाई और मां दोषी अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।

जानकारी पर पहुंचे अधिकारी

सूचना पर एडीए सचिव राजेंद्र प्रसाद व विशेष कार्याधिकारी गरिमा सिंह सहित अन्य अफसर व कर्मचारी भी वहां पहुंच गए। वे युवती के परिजनों को अपने कार्यालय में ले गए, लेकिन कोई निर्णय नहीं हो सका। आरोपी अधिकारी की शिकायत एडीए उपाध्यक्ष से की गई है। परिजनों द्वारा मुकदमा दर्ज कराने की भी बात कही गई है।

शिकायत मिली है, जांच के लिए आठ सदस्यों की टीम का गठन किया गया है, आरोप स्पष्ट होने पर कार्यवाई की जाएगी।

राजेंद्र प्रसाद, एडीए सचिव

Posted By: Inextlive