बेली में अतीक के करीबी के घर चला बुलडोजर

Updated Date: Sun, 27 Sep 2020 12:48 PM (IST)

हाई वोल्टेज ड्रामा के बीच चला प्रॉपर्टी डीलर राशिद व उसके भाई के घर पर जेसीबी

PRAYAGRAJ: माफिया अतीक के करीबी राशिद और उसके भाई अरशद के घर पर शनिवार को बुलडोजर गरजा। यहां कार्रवाई से पहले से शुरू हाई वोल्टेज ड्रामा घंटों कार्रवाई की राह में रोड़ा बना रहा। पहले से एकत्र की गई महिलाएं यहां मुख्य द्वार पर अफसरों से उलझ गई। जिद थी कि वह मकान को तोड़ने नहीं देंगी। वह पोर्च के नीचे धरना और नारेबाजी करने लगीं। यह तो सभी को मालूम था कि कार्रवाई तो सुनिश्चित है। लिहाजा लड़ाई किसी तरह वक्त बिताकर शाम करने की थी। देर से ही सही यह बात जब अफसरों को समझ आई तो वे अपने पर आ गए। सभी को हिरासत में लेकर पुलिस लाइंस भेजा गया और कार्रवाई शुरू हुई। शनिवार को नाम मात्र ही मकान तोड़ा जा सका।

दो घंटे हाई वोल्टेज ड्रामा

पूर्व सांसद बाहुबली अतीक अहमद और उनके करीबियों के खिलाफ प्रशासन एक्शन मोड में है। खुद अतीक सहित एक-एक कर कई लोगों के मकान जमींदोज किए जा चुके हैं। शनिवार को प्रॉपर्टी डीलर राशिद और उसके भाई अरशद के मकान का नंबर था। दोपहर एक बजे के करीब जेसीबी व फोर्स लेकर अफसर बेली चौकी पहुंचे। चौकी से बाएं गली से थोड़ा अंदर दाहिनी ओर गली के अंदर दोनों का मकान है। दरवाजे पर अफसरों के पहुंचते ही दर्जनों महिलाएं घर से बाहर आ गई। यह देख अफसर अफसर समझ गए कि महिलाओं को विरोध के लिए पहले से इकट्ठा किया जा चुका है। महिलाओं के कंधे पर बंदूक रखकर रिचा सिंह के नेतृत्व में कुछ महिलाएं सियासी रोटी सेंकने लगीं। कुल मिलाकर महिलाओं व अफसरों के बीच जमकर बहस हुई। जबरदस्त हाई वोल्टेज ड्रामा शुरू हो गया।

तीन बजे तक चलता रहा धरना

पोर्च के नीचे महिलाओं संग राशिद समर्थक धरना व प्रदर्शन शुरू कर दिए। इस तरह साढ़े तीन बज गए और अधिकारी उन्हें घर खाली करने व उनके सवालों का जवाब देते रहे। वक्त निकलते देख अधिकारी पूरी व्यवस्था के पीछे का मर्म भांप गए। देर से ही सही, जब समझ आया तो महिला समेत करीब दर्जन भर हंगामा कर रहे लोगों को पुलिस हिरासत में लेकर पुलिस लाइंस भेज दिया गया। इसके बाद जेसीबी से घर तोड़ने का काम शुरू हुआ। तब तक साढ़े चार बज चुके थे। ऐसे में मकान के पोर्च का कुछ हिस्सा ही प्रशासन गिरा सका।

सपा नेता बने कार्रवाई के रास्ते की दीवार

महिलाओं के साथ विरोध कर रही सपा से जुड़ी ऋचा सिंह कार्रवाई को गलत बताती रहीं

एडीए व पुलिस अफसर इसे जायज और कानूनी प्रक्रिया के तहत बताते रहे

सपाइयों का कहना था कोई नोटिस व मकान से सामान निकालने का मौका नहीं दिया गया

अफसरों का तर्क था दी गई नोटिस रिसीव नहीं की गई। सामान निकालने के लिए दिया गया मौका हंगामे में वेस्ट कर रहे हैं

विरोध करने वालों का तर्क था कि मकान वर्षो पुराना व पैतृक जमीन पर है

अधिकारियों का कहना था कि मकान नया बन रहा है जिसका नक्शा पास नहीं है

जिस जमीन पर मकान बनाया जा रहा है उसे भी अधिकारी स्टेट गवर्नमेंट का बताते रहे

यह घर पूरी तरह से अवैध बनाया गया है। अभी निर्माण चल भी रहा था। जमीन भी इनके नाम नहीं है। पूरी कार्रवाई नियम व कानून के दायरे में है। शेष मकान भी तोड़ा जाएगा।

सत शुक्ला,

जोनल अफसर एडीए

मकान और लॉज को खाली करने के लिए लोगों को दो दिन का मौका दिया गया है। दो दिन के बाद फिर ध्वस्तीकरण की कार्रवाई करने के लिए कहा गया है।

अर¨वद मिश्रा, तहसीलदार

अतीक का बयान लेने अहमदाबाद गयी टीम

गुजरात के अहमदाबाद जेल में बंद पूर्व सांसद बहुबली माफिया अतीक अहमद का बयान लेने के लिए प्रयागराज की पुलिस टीम शनिवार को रवाना हो गई। इंस्पेक्टर धूमनगंज अरुण कुमार चतुर्वेदी के नेतृत्व में टीम वहां पहुंचकर अतीक का बयान दर्ज करेगी। बता दें कि माफिया अतीक अहमद के कई मुकदमो की विवेचनाएं उनके बयान के अभाव में पेंडिंग हैं। विवेचना पूरा करने का विवेचकों पर प्रेशर है। अतीक के दूसरे स्टेट की जेल में होने के चलते यह काम मुश्किल था। अफसरों से अनुमति मिलने पर विवेचकों की टीम सक्रिय हो उठी। बता दें कि अतीक के जेल जाने के बाद ज्यादातर मुकदमे धूमनगंज थाना में दर्ज हुए हैं।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.