व्यापारियों में इतना डर क्यों?

Updated Date: Thu, 02 Jul 2020 04:36 PM (IST)

-होटल मालिक और कर्मचारियों ने कराया कोरोना टेस्ट

-दवा व्यापारियों ने भी लगाई लाइन, एक दिन में लिए गए तीन सौ से अधिक सैंपल

PRAYAGRAJ: बिजनेस को कोरोना संक्रमण से बचाने की कवायद व्यापारियों ने शुरू कर दी है। यही वजह है कि दवा सहित होटल व्यापारियों ने भी बुधवार को अपना कोरोना टेस्ट कराया। व्यापारियों की पहल पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बड़ी संख्या में लोगों का सैंपल लेकर उसे जांच के लिए भेज दिया है। व्यापारियों का कहना है कि खुद की सुरक्षा और बिजनेस को बेहतर चलाने के लिए संक्रमण का पता लगाना जरूरी है। जिससे दूसरों को बचाया जा सके।

160 का लिया गया सैंपल

सिविल लाइंस में बुधवार को हेस्टी टेस्टी के सामने होटल में व्यापारियों का कोरोना सैंपल लिया गया। इस दौरान 160 होटल व्यापारियों और कर्मचारियों का सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। होटल मालिकों का कहना था कि हमारे यहां रोजाना बाहर से लोग आते हैं। हमें उनके बारे में पता नहीं होता है। ऐसे में कर्मचारी और हम उनके कांटैक्ट में आते रहते हैं। टेस्ट होने से पता चल जाएगा कि हममें से कौन-कौन संक्रमित हुआ है। इससे रोग को फैलने से रोका जा सकेगा।

दूसरे दिन भी लगी लंबी लाइन

इसी तरह लीडर रोड की थोक दवा मार्केट में भी बुधवार को जबरदस्त भीड़ रही। 175 दवा व्यापारियों और कर्मचारियों ने अपना कोविड टेस्ट कराया। जबकि मंगलवार को 157 व्यापारियों का सैंपल लिया गया था। अभी 71 व्यापारियों का नाम सूची में सैंपलिंग से छूट गया है। अब इनका सैंपल गुरुवार को लिया जाएगा। हालांकि मार्केट में पूरी तरह से बंद थी। अब गुरुवार से मार्केट भी खोल दी जाएगी। दवा व्यापारियों का कहना है कि इससे क्लीयर हो जाएगा कि कौन संक्रमित है और कौन नहीं है।

चार फीसदी अधिक है रिकवरी रेट

हालांकि कोरोना रिकवरी रेट में प्रयागराज की स्थिति कहीं बेहतर है। अगर यूपी के रिकवरी रेट की बात करें तो अब तक 72 फीसदी मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं। जबकि यूपी में रिकवरी रेट का आंकड़ा 68 फीसदी है। प्रयागराज में बुधवार तक कुल 286 संक्रमित सामने आए थे और इनमें से 206 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। वहीं यूपी में कुल कोरोना मरीजों की संख्या 23492 है और इनमें से 16084 ठीक हो चुके हैं।

थोड़ा सा अधिक है डेथ रेट

यह भी बता दें कि प्रयागराज में कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या 9 हो चुकी है। यह कुल मरीजों की 3.1 फीसदी है। जबकि यूपी में अब तक 697 मरीजों की मौत हुई है। लेकिन यह अब तक पाए गए मरीजों का महज 2.9 फीसदी है। ऐसे में प्रयागराज का डेथ रेट यूपी के मुकाबले 0.2 अधिक है।

यह कैंप हमारे एसोसिएशन की ओर से लगाया गया था। हम चाहते हैं कि जो भी कर्मचारी या मालिक सीधे कस्टमर्स के टच में आते हैं वह अपना सैंपल दे दें। जिससे इस बीमारी को फैलने से रोका जा सके। इस कैंप में बड़ी संख्या में लोगों ने पार्टिसिपेट किया है।

-सरदार जोगिंदर सिंह, अध्यक्ष, प्रयागराज होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन

हमारी कोशिश है कि होटल इंडस्ट्री को संक्रमण से बचाकर रखा जाए। इसीलिए इस कैंप का आयोजन किया गया। प्रशासन भी चाहता था कि रैंडम जांच कर संक्रमण का पता लगाया जा सके। जिसके चलते लोग एकत्र हुए।

-विद्रुप अग्रहरि, ओनर, होटल कान्हा श्याम

सबसे पहले उन कर्मचारियों का टेस्ट कराया गया है जो सीधे कस्टमर के टच में आते हैं। इसके बाद होटल मालिकों ने अपनी जांच कराई है। दो से तीन दिन में सभी की रिपोर्ट आ जाएंगी।

-गौरेश आहूजा, मालिक, होटल रॉयल

यह देखकर अच्छा लगा कि इतनी बड़ी संख्या में होटल व्यापारी और कर्मचारी अपनी जांच कराने पहुंचे थे। लगभग साठ होटल के लोग इस कैंप में संलग्न रहे। उम्मीद है कि सब ठीक-ठाक ही रहेगा।

-वरुण चावला, ओनर, होटल टाउनहाल

कैंप में तमाम लोगों का सहयोग मिला। असल में होटल में बाहर से लोग आकर ठहरते हैं। इसलिए समय समय ऐसी रैंडम जांच होने से रोग के फैलाव को आसानी से रोका जा सकेगा।

-सुमित केसरवानी, ओनर, होटल ट्विंस

पूरे दिन दवा मार्केट बंद रखी गई है। 175 लोगों ने अपनी जांच कराई है। जो लोग बच गए हैं उनको गुरुवार को बुलाया गया है। हालांकि मार्केट भी खोल दी जाएगी। सभी से एहतियात बरतने को कहा गया है।

-परमजीत सिंह, महासचिव, प्रयागराज केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.