मौके पर पुलिस को मिले खून के धब्बे व हत्या में प्रयुक्त मिली रस्सी

ALLAHABAD: सुबेदारगंज स्थित रेलवे कॉलोनी स्टेशन के निकट शुक्रवार को एक रेलकर्मी की हत्या कातिलों ने उसकी लाश झाड़ी में फेंक दी। सुबह शव पर स्थानीय लोगों की नजर पड़ी तो क्षेत्र में सनसनी फैल गई। कत्ल की जानकारी होते ही धूमनगंज पुलिस घटना स्थल पर पहुंच गई। पुलिस ने शव के पास से हत्या में प्रयुक्त खून में सनी रस्सी बरामद की। पड़ताल में मृतक का मोबाइल पुलिस को नहीं मिला। परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पुत्र ने की शव की पहचान

उत्तराखंड स्थित पौड़ी गढ़वाल जिले के उसटकुलीसीरौ गांव के निवासी उम्मेद सिंह धूमनगंज थाना क्षेत्र के कालिंदीपुरम निवासी मकान बनवाकर पत्‍‌नी भामा देवी, छोटे बेटे बृजेश व बेटी के साथ रहते थे। उम्मेद उत्तर मध्य रेलवे के सूबेदारगंज स्थित रेलवे के वर्कशॉप में बतौर टेक्नीशियन तैनात थे। गुरूवार रात बीवी को यह बताकर घर से निकले थे कि वह एक शादी समारोह में जा रहें हैं। कई घंटे बीतने के बाद जब वह नहीं लौटे तो परिवार वाले परेशान हो गए। बीवी ने फोन किया तो मोबाइल बंद मिला। इस पर परिजनों ने उनकी खोजबीन शुरू कर दी। सुबह जब बेटा बृजेश थाने में पिता की गुमशूदगी दर्ज कराने पहुंचा। थाने में पुलिस ने बृजेश को झाड़ी में मिली लाश के बारे में बताया। मौके पर पहुंचे बेटे ने शव की पहचान अपने पिता उम्मेद के रूप में की। शाम को पोस्टमार्टम हुआ तो मौत का कारण रस्सी से गला कसने व सिर में गंभीर पाया गया। पुलिस को शक है कि हत्यारों ने घटना के पहले उसे फोन किया होगा। मृतक के गायब मोबाइल को सर्विलांस पर लगा कर पुलिस कॉल डिटेल तलाश रही है। परिजनों से पूछताछ में रेलवे के एक कर्मी से पैसों को लेकर विवाद और पड़ोस के एक शख्स झगड़े की जानकारी पुलिस को मिली है।

वर्जन

कत्ल की वजह कारण फिलहाल अभी तक स्पष्ट नहीं हो सकी है। पुलिस इस घटना की जांच कर रही है। मृतक का मोबाइल गायब है। सर्विलांस के जरिए पता लगाया जा रहा है।

डीपी तिवारी, सीओ सिविल लाइन

Posted By: Inextlive