जाम ने कराया लम्बा झाम

Updated Date: Tue, 18 Nov 2014 07:00 AM (IST)

-साथी अधिवक्ता पर हमला करने वाले सपा नेताओं की गिरफ्तारी को मांग को लेकर लगाया था जाम

-जाम में फंसी युवती गश खाकर गिरी, बच्चे बिलबिलाए तो आक्रामक हुई पब्लिक

-वकीलों की गाडि़यों को नाले में ढकेला, तोड़फोड़, पथराव, महिला की मौत के बाद जागी पुलिस

ALLAHABAD: मामला वकीलों के प्रोटेस्ट से शुरू हुआ। निशाने पर थे सपा नेता जिनकी गिरफ्तारी नामजद होने के बाद भी पुलिस नहीं कर रही है। लेकिन, परिस्थितियां बदल गई जब जाम में फंसे लोगों को निकलने का मौका नहीं मिला। एक युवती बेहोश होकर गिर गई और बच्चे बिलबिला उठे। इसके बाद जाम में फंसे लोग अराजक हो उठे। कानून को हाथ में ले लिया और कानून के रखवालों को दौड़ा लिया। इसी दौरान एक महिला की मौत हो गई तो स्थिति और बिगड़ गई।

घटना की जड़ में थे सपा नेता

कुछ दिन पहले की बात है। एडवोकेट बीएन तिवारी और सपा नेता चन्द्रबली के बीच कहासुनी हुई थी। आरोप है कि सपाइयों ने श्री तिवारी को जमकर पीटा। एफआईआर दर्ज हुई लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। मंडे को कोर्ट खुलने पर श्री तिवारी के साथियों ने दोपहर साढ़े बारह बजे पानी टंकी के पास रोड जाम कर दिया। हाइकोर्ट की तरफ से धूमनगंज की ओर और उधर से आने वाली गाडि़यां जहां की तहां खड़ी हो गई। बमरौली और सिविल लाइंस की तरफ से आने-जाने वाले वाहन भी ब्लाक हो गए। दोपहर में एक बजे स्कूलों में छुट्टी हुई तो स्थिति और दयनीय बन गई। बस, आटो, रिक्शा में बैठे बच्चे जाम में फंसे और बेहाल हो उठे।

लड़की की मदद में आई पब्लिक

जाम के दौरान बाइक वालों को भी आने-जाने की इजाजत नहीं थी। जबरदस्ती करने वाले के साथ जाम लगाने वाले मिसविहैब करने से नहीं चूके। इसमें स्कूटी सवार एक अधेड़ भी था जो बेटी को लेकर जा रहा था। निकलने को लेकर उनकी जाम लगाने वालों से बहस हो गई। पीछे ढकेलने के चक्कर में युवती स्कूटी से गिरकर बेहोश हो गई। इसके बाद यह सीन देखने वाले भड़क गए। पब्लिक ने अपना वाहन छोड़ दिया और जाम लगाने वालों पर हमला बोल दिया। प्रोटेस्ट कर रहे लोगों की संख्या ज्यादा नहीं थी और न ही उन्हें इस तरह के रिएक्शन की कल्पना थी। पब्लिक ने दौड़ाया तो जाम में फंसे छात्र भी उत्तेजित हो उठे। नतीजा जाम करने वालों को भागना पड़ गया। यह देखकर लोग ठंडे नहीं हुए बल्कि पथराव करते हुए पीछा शुरू कर दिया।

गाडि़यां बनी टारगेट

अभी तक एक रोडवेज बस चालक जीतेन्द्र सिंह और एडवोकेट सैफउल्ला खान ने गाडि़यों में तोड़फोड़ की तहरीर दी है। अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की जा रही है। जो भी तहरीर मिलेगी उसके आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच की जाएगी।

कैंट पुलिस

---------------

टाइम लाइन

क्ख्:ख्भ्बजे -हाईकोर्ट पानी टंकी के पास एडवोकेट ने विरोध जताया

क्ख्:फ्भ् बजे-एडवोकेट ने गाडि़यों को रोका और लगा दिया जाम

क्:00 बजे-एडवोकेट के प्रोटेस्ट के कारण हर तरफ रोड जाम

क्:फ्0 बजे-स्कूल से छूटी स्कूली बस भी रोड जाम में फंसी

ख्:00 बजे-पब्लिक और एडवोकेट की नोकझोंक नो एंट्री को लेकर

ख्:ख्भ् बजे-पानी टंकी के बाद एक लड़की के साथ एडवोकेट ने किया मिसविहैव

ख्:फ्0 बजे-यह देख पब्लिक का भड़का गुस्सा

ख्:फ्भ् बजे-पब्लिक ने एडवोकेट को दौड़ाया

ख्:ब्0 बजे-पब्लिक और छात्रों ने मिलकर वकील की गाडि़यों पर उतारा गुस्सा

ख्:ब्भ् बजे-रोड पर हर तरफ से पथराव, अराजकता की स्थिति

ख्:भ्0 बजे-रोड पर फल वाली महिला गिरि मौत

फ्:00 बजे-वकील की गाड़ी में तोड़फोड़, नाले में फेंकी गाडि़यां

फ्:क्भ् बजे-एडवोकेट ने पब्लिक को दौड़ाया

फ्:ख्0 बजे-एडवोकेट ने रेलवे कालोनी में घुस कर किया हंगामा

फ्:फ्0 बजे-एसपी सिटी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे

फ्:ब्भ् बजे-महिला मृत घोषित

फ्:भ्0 बजे-फायर ब्रिगेड की गाड़ी नालियों से बाइक निकलने में जुटी

ब्:00 बजे-एडवोकेट ने छात्र नेता राहुल की गाड़ी पलटी, तोड़फोड़

ब्:ख्0 बजे-एसएसपी भी मौके पर पहुंचे

पब्लिक का तेवर देखकर हटे वकीलों ने खुद को सेफ तो कर लिया लेकिन हाइकोर्ट के सामने नाले के किनारे खड़ी अपने साथियों की गाडि़यों को टारगेट बनने से नहीं बचा सके। पब्लिक और छात्रों का गुस्सा इन्हीं पर उतरा। पथराव करके गाडि़यों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। गाडि़यों को नाले में ढकेल दिया गया। कई कारों को पलट दिया गया। यह देखकर वकीलों का पारा चढ़ गया। उन्होंने भी पथराव शुरू कर दिया। कई गाडि़यों को पथराव करके क्षतिग्रस्त कर दिया। सरकारी बसों के साथ प्राइवेट गाडि़यां भी निशाना बनीं। इस दौरान सिविल लाइंस पुलिस वहां पहुंची लेकिन, उसने माहौल कंट्रोल करने में कोई रुचि नहीं दिखाई।

अराजकता ने महिला को मार डाला

घटनाक्रम के दौरान पानी टंकी के आगे रोड के किराने फल बेचने वाली महिला हादसे का शिकार हो गई। नीवां की रहने वाली शांति देवी हर तरफ से वहां चल रहे पत्थर की शिकार हो गई। अचानक वह गिरीं और फिर उठ न सकीं। काफी देर तक वह रोड के किनारे पड़ी रहीं। यह देख पब्लिक का गुस्सा और भड़क उठा। उन्होंने फिर प्रोटेस्ट किया। लेकिन, इस बार एडवोकेट्स की संख्या ज्यादा थी। एडवोकेट पथराव करते हुए पब्लिक को दौड़ाने लगे और रेलवे कालोनी तक घुस गए। इस बार एडवोकेट्स ने रोड पर खड़ी छात्र नेता राहुल यादव की गाड़ी तोड़फोड़ के बाद पलट दी। घटना के काफी देर बाद मौके पर पहुंची पुलिस महिला को लेकर स्वरूपरानी हॉस्पिटल पहुंची। जहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया।

माहौल कूल बनाने की कोशिश

सब कुछ हो जाने के बाद अब माहौल को कूल बनाने की कोशिश में पुलिस जुट गई। फायर ब्रिगेड की गाडि़यां बुला ली गई। एसपी सिटी मौके पर पहुंच गए। नालियों से गाडि़यों को निकाला जाने लगा। कुछ लोगों ने उस वक्त चैन की सांस ली जब फायर ब्रिगेड ने गाडि़यों को नाले से बाहर निकाल कर उसकी धुलाई कर दी। इसके बाद एसएसपी दीपक कुमार वहां फोर्स के साथ पहुंचे और कुछ सीनियर एडवोकेट से बातचीत करने में जुटे रहे। इस अराजकता की स्थिति में माहौल इतना खराब हो चुका था कि उसका बयान करना कठिन है। दोनों पक्षों से हुई तोड़फोड़ में 8 बसें, क्9 कारें, दर्जनों बाइक, मालवाहक और एक क्08 नंबर की एम्बुलेंस में तोड़फोड़ की गई। पूजा, प्रमिला, रानी, राजेश, राजमणि, किशोर, आकाश, रमेश, फूलचन्द्र, राकेश आदि लोग जख्मी हो गए। कई लोगों के सिर पर चोट लगने से खून टपकने लगा।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.