रोटी के साथ 'रोजी' जाएगी

Updated Date: Sun, 10 Jul 2016 07:41 AM (IST)

i exclusive

नशे में वाहन चलाने वालों का निरस्त होगा डीएल सब हेड

ट्रैफिक विभाग ने जिले के सभी थानों से दुर्घटनाग्रस्त वाहनों और उनके चालकों की मांगी डिटेल

दोषी पाए जाने वालों के लाइसेंस निरस्तीकरण के लिए आरटीओ कार्यालय को भेजी जाएगी रिपोर्ट

ALLAHABAD: ट्रैफिक विभाग ने जिले में बढ़ते रोड एक्सीडेंट को देखते हुए सख्त रुख अख्तियार कर लिया है। अब नशे में वाहन चलाते पकड़े जाने पर चालान के साथ डीएल निरस्तीकरण की कार्रवाई भी की जाएगी। इसके लिए जिले में पहले हुए रोड एक्सीडेंट के मामलों का डाटा तैयार किया जा रहा है। विभाग की ओर से जिले के सभी थानों से पिछले तीन साल में हुए रोड एक्सीडेंट की डिटेल मांगी गई है। इसमें एक्सीडेंट के कारण के साथ वाहन नंबर और चालक की पूरी जानकारी देनी है।

तैयार हो रही लिस्ट

विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विभाग पिछले तीन साल में जिले में हुए रोड एक्सीडेंट की लिस्ट तैयार कर रहा है। इसमें वाहन नंबर, चालक की डिटेल के साथ एक्सीडेंट का कारण दर्ज किया जाएगा। इसके लिए थानों से तीन साल का डाटा मांगा गया है। डाटा आने के बाद उसकी समीक्षा की जाएगी और जो दोषी नजर आएंगे उनका लाइसेंस निरस्त करने के लिए आरटीओ कार्यालय को पत्र भेजा जाएगा।

हर साल सौ से अधिक मौत

बता दें कि जिले में हर साल सौ से अधिक लोगों की जान रोड एक्सीडेंट में जाती है। इसमें से अधिकांश एक्सीडेंट नशे में धुत चालकों की लापरवाही से होते हैं। एक्सीडेंट के बाद चालक जल्द ही छूट जाते हैं। फिर रोड पर उसी लापरवाही से गाड़ी चलाते हैं और फिर एक्सीडेंट का कारण बनते हैं। अब ट्रैफिक विभाग ने इस पर रोक लगाने की कवायद शुरू की है।

पेनाल्टी से नहीं पड़ता फर्क

शराब पीकर गाड़ी चलाने का दोषी पाए जाने पर ट्रैफिक विभाग की ओर से 2000 से 3000 रुपए तक पेनाल्टी वसूली जाती है। इसमें छह माह से लेकर दो साल तक कैद का भी प्राविधान है। लेकिन यह प्रक्रिया काफी लंबी है। लोग जुर्माना भरने के बाद फिर पहले की तरह वाहन चलाने लगते हैं और एक्सीडेंट का कारण बनते हैं।

हम नहीं पहनेंगे हेलमेट

जिले में रोड एक्सीडेंट में मरने वालों में सबसे अधिक संख्या बाइक सवारों की है। इसका एक मुख्य कारण है बिना हेलमेट के वाहन चलाना। लेकिन पुलिस और ट्रैफिक के लाख प्रयास के बाद भी लोग हेलमेट से परहेज कर रहे हैं। इसमें सबसे अधिक संख्या युवाओं की है। इसकी चेकिंग के लिए शनिवार को आई नेक्स्ट की टीम ने शहर के तीन मुख्य चौराहों पर नजर दौड़ाई। इस दौरान सुभाष चौराहा, हाईकोर्ट चौराहा और म्योहाल चौराहा से मिले आंकड़ें चौंकाने वाले थे। इसके अनुसार यहां से गुजरने वाले 100 बाइकों में से मात्र 17 ही हेलमेट पहने नजर आए। इसके अलाव ट्रिपलिंग भी सिटी में एक्सीडेंट का मुख्य कारण है।

बाक्स में

अब तक खतरनाक ड्राइविंग करने वाले छह का लाइसेंस हुआ है निरस्त

रोड एक्सीडेंट में शामिल कुल 46 चालकों के लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्रवाई

कोट

ऐसे चालकों की लिस्ट तैयार की जा रही है जिनके कारण रोड एक्सीडेंट हुए हैं। शराब पीकर वाहन चलाने वालों के भी लाइसेंस निरस्त किए जाएंगे। कुछ लोगों की लिस्ट डीएल निरस्तीकरण के लिए आरटीओ कार्यालय को भेजी भी गई है।

निहारिका शर्मा, एसपी ट्रैफिक

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.