840 घरों की सूनी रहेगी दिवाली

Updated Date: Sat, 14 Nov 2020 11:02 AM (IST)

कहीं हादसे, कहीं अपनों से बिछड़ने के गम ने दीपावली की रौनक पर फेरा पानी

कोरोना महामारी ने भी बुझा दिए कई घरों के चिराग

prakashmani.tripathi@inext.co.in

PRAYAGRAJ: शनिवार को दिवाली के मौके पर घरों में रौशनी बिखरेगी। लोग उत्साह के साथ घर को सजायेंगे, पूजन करेंगे और फिट पटाखे बजायेंगे। लेकिन, करीब एक सैकड़ा परिवार ऐसे भी होंगे, जिनके घरों में मातम मनेगा। इन लोगों ने दुर्घटना, कोरोना जैसे कारणों के चलते अपनो को खो दिया है।

हादसों में गवां दी बेशकीमती जान

तेज रफ्तार हमेशा ही खतरनाक होती है। ये जानते हुए भी अपने रफ्तार के जुनुन को कम नहीं करते है। आखिर मे उनकी इस गलती का खामियाजा उनके परिवार को उठाना पड़ता है। ट्रैफिक डिपार्टमेंट के आंकड़ों पर नजर डालें तो सिटी में जनवरी से लेकर सितंबर तक कुल 791 सड़क हादसे हुए। इसमें 367 लोगों ने दम तोड़ा। घायल होने वालों के आंकड़ों पर नजर डाले तो उनकी संख्या 505 रही।

मंथ एक्सीडेंट मौत घायल

जनवरी 127 52 85

फरवरी 110 47 82

मार्च 104 47 64

अप्रैल 26 07 21

मई 81 41 47

जून 96 45 85

जुलाई 74 37 50

अगस्त 78 39 45

सितंबर 91 52 46

कुल 791 367 505

148 फैमली को अपनों के लौटने का इंतजार

पुलिस डिपार्टमेंट के डाटा पर नजर डाले तो जनवरी से अब तक कुल 148 परिवारों ने अपने फैमली मेंबर की गुमशुदगी दर्ज करायी है। कई ऐसे परिवार भी है, जिनमें अपने कहीं चले गए है। उन परिवारों के लिए भी इस बार की दीपावली खुशियां खत्म हो गई है। क्योकि उनको अपनों के घर लौटने का इंतजार है।

जनवरी से अब तक गायब नाबालिग

जेंडर गायब मिले अभी तक इंतजार

लड़के 18 4 14

लड़कियां 38 6 32

जनवरी से अब तक गायब

जेंडर गायब मिले

मेल 61 13

फीमेल 61 07

कोरोना ने छीन ली 325 की जिंदगी

परिवारों से त्योहार की खुशियां छीनने में कोरोना का भी बड़ा रोल है। कुल 325 लोग जान गंवा चुके थे। इसके चलते किसी का परिवार ईद नहीं मना सका तो ज्यादातर दिवाली की खुशियां नहीं मना सकेंगे। बचे लोगों के सामने यही इसी तरह की स्थिति क्रिसमस पर होगी।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.