कामर्शियल वाहनों में हाई सिक्योरिटी नम्बर प्लेट अनिवार्य

Updated Date: Thu, 27 Aug 2020 01:28 PM (IST)

-परिवहन विभाग की तरफ से वाहन स्वामियों को दिया गया निर्देश

-तीन में एचएसआरपी नहीं लगवाने वाले वाहन स्वामियों के खिलाफ होगा एक्शन

बरेली: अगर आपके पास व्यवसायिक माल वाहन है और आपने एचएसआरपी यानि हाई सिक्योरिटी नम्बर प्लेट नहीं लगवाई है तो यह खबर आपके लिए जरूरी हो सकती है। परिवहन विभाग के एआरटीओ प्रशासन आरपी सिंह ने वेडनसडे ऐसे समस्त वाहन स्वामियों को एक निर्देश जारी किया है। जिसमें बताया गया है कि जिन वाहन स्वामियों ने अपना वाहन 1 अप्रैल 2019 से पहले रजिस्टर्ड कराया है और उसकी क्षमता 7500 किग्रा सकल भार से अधिक है तो वह अपने वाहन पर तीन माह के अंदर एचएसआरपी लगवाना सुनिश्चित कर ले। अन्यथा पकड़े जाने पर विभाग की तरफ से कार्रवाई की जाएगी।

डीलर के यहां देना होगा आर्डर

अगर आप भी अपने वाहन की एचएसआरपी यानि हाई सिक्योरिटी नम्बर प्लेट बनवाना चाहते हैं तो आपके लिए किसी भी शहर के संबंधित वाहन डीलर के पास जाना होगा। जहां पर आपको अपने वाहन के लिए आरसी आदि दिखाकर फार्मलिटीज पूरी कर वाहन के लिए एचएसआरपी बनने के लिए देनी होगी। संबंधित डीलर आपको एचएसआरपी के लिए कुछ समय देगा उसके बाद आपके लिए एचएसआरपी आपके वाहन पर लगा देगा।

तीन माह का दिया समय

-परिवहन विभाग के एआरटीओ प्रशासन आरपी सिंह की तरफ से वेडनसडे को निर्देश जारी कर सभी वाहन स्वामियों को एचएसआरपी लगवाने के लिए तीन माह का समय निर्धारित किया गया है। तीन माह के अंदर एचआरपी नहीं लगवाने वाले अगर रोड पर संचालित मिलते हैं तो परिवहन विभाग ने उनके खिलाफ कार्रवाई कर एक्शन लेगा। हालांकि फ‌र्स्ट फेज में ऐसे व्यवसायिक माल वाहनों को रखा गया है जिनकी क्षमता 7500 किग्रा सकल भार से अधिक है उन सभी वाहनों स्वामियों को अपने वाहन पर तत्काल प्रभाव से एचएसआरपी लगवाना अनिवार्य किया है।

31 दिसम्बर तक का समय

केंद्र सरकार ने विगत वर्ष 2019 में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना अनिवार्य कर दिया था, जिसके बाद सभी विक्रेता गाडि़यों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगा रहे हैं। परिवहन विभाग ने पहले ही सभी तरह के परमिट के लिए 31 दिसंबर तक छूट दे दी है। ऐसे में फिटनेस कराने वाले सभी कमर्शीयल गाडि़यों को 31 दिसंबर से पहले अपने वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगानी होगी।

तो नहीं मिलेगा परिमिट

एआरटीओ के मुताबिक इसे दो श्रेणियों में बांटा गया है। प्रथम श्रेणी में 7.5 टन से ज्यादा भार (डीसीएम से ऊपर) वाले कमर्शीयल गाडि़यों को 15 अक्तूबर से पहले हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगानी अनिवार्य होगी। इसके बाद ऐसे वाहनों पर कार्रवाई होगी। दूसरी श्रेणी में ऑटो-टेम्पो व अन्य कमर्शीयल गाडि़यों को फिटनेस कराने के लिए फिटनेस ग्राउंड जाने से पहले अपने वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना होगा अन्यथा उनको फिटनेस नहीं मिलेगी। जिन वाहनों ने फिटनेस करा ली है ऐसे वाहन दोबारा फिटनेस ग्राउंड जाने से पहले हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाकर ही जा सकेंगे। एटीसी के मुताबिक सड़कों अब चालान व्यवस्था ऑनलाइन हो रही है, जबकि अभी सड़कों पर दौड़ने वाले कमशिर्यल गाडि़यों की नंबर प्लेट टूटी होने और नंबर गायब मिलने से उन पर चालान की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.