थाने से चंद कदमों की दूरी पर डकैती, लाखों उड़ाए

Updated Date: Tue, 18 May 2021 12:52 PM (IST)

- हाफिजगंज में संडे देर रात बदमाशों ने जरी कारोबारी के घर बोला धावा

- परिवार को गन प्वाइंट पर लेकर लूटे लाखों के जेवर और नकदी

बरेली। लॉकडाउन के दौरान जिले में लगातार हो रही मर्डर, डकैती और लूट जैसी गंभीर घटनाएं पुलिस की सख्ती और व्यवस्थाओं पर सवालिया निशान खड़े कर रही हैं। अब हाफिजगंज में संडे देर रात आठ नकाबपोश हथियारबंद बदमाशों ने एक जरी कारोबारी के परिवार को बंधक बनाकर लाखों के जेवर व नकदी लूट ली। करीब एक घंटे लूटपाट करने के बाद बदमाश भाग निकले। घटना के बाद पीडि़त परिवार ने मामले की सूचना यूपी 112 पर दी। देर रात पीआरवी के पूछताछ करने के बाद मंडे सुबह एसपी आरए राजकुमार अग्रवाल और फील्ड यूनिट ने भी पीडि़त परिवार से पूछताछ करने के साथ ही मौका मुआयना भी किया। जरी कारोबारी की शिकायत पर हाफिजगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज कर ली है। अब थाना पुलिस समेत क्राइम ब्रांच भी मामले की जांच में जुटी हुई है। वहीं घटना की सूचना फैलने के बाद से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है।

रात दो बजे कच्छा बनियान में घुसे बदमाश

हाफिजगंज कस्बे के रहने वाले गुड्डू अंसारी जरी कारोबारी हैं। उन्होंने बताया कि संडे रात वह अपने पिता नन्हें के साथ सो रहे थे। पत्नी व मां अंदर कमरे में थीं। देर रात करीब दो बजे कुछ अज्ञात लोग घर में घुसे और उनके मुंह पर टॉर्च मारकर उन्हें जगाया। इसके बाद गन प्वाइंट पर लेकर पिता को भी जगाने को कहा। धमकाने के बाद बदमाश उनसे अलमारी व अन्य बक्सों की चाबी मांगने लगे। बताया कि घर में आठ बदमाश घुसे थे। जिन्होंने काले रंग का कच्छा बनियान पहना हुआ था, साथ ही काले रंग के अंगोछे से मुंह भी ढका हुआ था। उन्होंने और पिता ने चाबी ना होने की बात कही तो बदमाश उन्हें जान से मारने की धमकी देने लगे।

सब्बल से तोड़े ताले

गुड्डू अंसारी ने बताया कि उन्होंने चाबी देने से इंकार किया तो एक बदमाश कमरे में घुस गया। वहीं अन्य बदमाशों ने उन्हें व पिता नन्हें के हाथ पैर बांधकर उन्हें कमरे में पड़े बेड पर पटक दिया। इसी बीच एक बदमाश ने अलमारी का ताला सब्बल मारकर तोड़ दिया। वहीं दूसरे बदमाश ने बक्से को रगड़कर खोला। वहीं विरोध करने पर बदमाश लगातार पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी देते रहे।

बदमाश बोले-दोबारा वापस आएंगे

पीडि़त गुड्डू अंसारी ने पूछताछ के दौरान बताया कि बदमाशों ने पौने चार लाख रुपये नकद, करीब बीस तोले सोना और कुछ चांदी के जेवर लूट लिए। उनके मुताबिक नकदी में डेढ़ लाख रुपए डॉक्टर बहनोई के और डेढ़ सूफी असलम मियां के थे। वहीं 75 हजार उनका था। उन्होंने यह रुपए जमीन की रजिस्ट्री कराने के लिए इकट्ठा किया था। गुड्डू के मुताबिक करीब एक घंटे लूटपाट करने के बाद बदमाश पुलिस से शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी देकर भाग निकले। साथ ही ये भी बोले कि वह दोबारा लौटकर आएंगे। इससे उनका पूरा परिवार अब दहशत में है।

एक बदमाश बोला मार दो, दूसरा बोला छोड़ दो

गुड्डू अंसारी ने बताया कि चाबी देने से इंकार करने पर एक बदमाश लगातार पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी देता रहा। एक बदमाश लगातार कहता रहा कि सभी को मार दो। वहीं एक दूसरा बदमाश लगातार उसे यह कहकर रोकता रहा कि पहले माल मिल जाने दो फिर मार देंगे। बदमाशों के पास चाकू और तमंचे थे। गुड्डू में मुताबिक जब बदमाशों जाते वक्त उनकी तरफ हमला करने को बढ़े तो पिता नन्हें ने कहा कि सारा सामान तो ले लिया अब हमे क्यों मारोगे। इस पर बदमाश परिवार के सभी सदस्यों को बंधक बना छोड़ गए। बदमाशों के जाने के बाद पत्नी ने उन्हें व पिता को बंधक मुक्त किया।

डकैती दर्ज, लेकिन पुलिस मान रही संदिग्ध

पुलिस ने डकैती की धाराओं में मामले की रिपोर्ट दर्ज कर ली है हालांकि कुछ हद तक पुलिस घटना को संदिग्ध भी मान रही है। पुलिस के मुताबिक बदमाशों मकान के मेन दरवाजे का कुंडा तोड़ने की जगह ताला तोड़कर घुसे, जिसे तोड़ने में समय लगता है। वहीं अलमारी में सब्बल की चोट के निशान नहीं मिले और ना ही बक्से को जमीन पर रगड़कर खोलने जैसा कुछ सामने नहीं आया। वहीं वादी के बयान भी पिता के बयानों से अलग हैं। पहले घर के चारों सदस्यों को बंधक बनाने की बात कही, फिर सिर्फ खुद को और पिता को बंधक बनाया जाना बताया। इसके बाद घर में रखी रकम को लेकर भी संशय है। वहीं जिस रजिस्ट्री की बात कही जा रही है, उसका एग्रीमेंट का समय भी बीतने वाला है। एक महत्वपूर्ण बात यह भी कि पीडि़त के बहनोई भी उसी मकान में रहते हैं, लेकिन बदमाशों ने उनके घर में धावा नहीं बोला और ना ही उन्हें जगाया.इन्हीं सब तथ्यों के चलते घटना कुछ हद तक संदिग्ध प्रतीत हो रही है।

एक हफ्ते में दो डकैतियां, पुलिस के हाथ खाली

पिछले एक हफ्ते में डकैती का दूसरा मामला सामने आया है। वहीं पुलिस अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। सीबीगंज में भी दो सगे भाईयों के घर पड़ी डकैती को लेकर एक हफ्ते बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। वहीं बीते महीने प्रेमनगर क्षेत्र में एक जरी कारोबारी के घर पड़ी डकैती में शामिल चार बदमाशों को भी पुलिस अब तक पकड़ने में नाकाम रही है। ये घटनाएं लॉकडाउन के दौरान पुलिस की व्यवस्थाओं पर सवालिया निशान खड़े कर रही हैं।

एक परिवार ने आठ बदमाशों द्वारा संडे रात घर में घुसकर डकैती डालने की शिकायत की थी। मामले में मौका मुआयना करने के बाद गंभीर धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। मामले की जांच की जा रही है। जल्द ही खुलासा किया जाएगा।

- राजकुमार अग्रवाल, एसपी आरए

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.