दफन हो रहे कत्ल के राज

Updated Date: Fri, 13 Mar 2020 05:31 AM (IST)

- राजघाट एरिया में मर्डर कर बच निकलते कातिल

- क्राइम ब्रांच और थानों की पुलिस कर रही तलाश

GORAKHPUR: राजघाट एरिया में पुराने रईस के मर्डर की जांच में दो थाने और क्राइम ब्रांच की टीम हांफ रही है। 22 फरवरी देर रात हुए मर्डर में पुलिस को अब तक सुराग नहीं मिल सका है। अब दबी जुबान चर्चा है कि पुलिस जल्द फाइल क्लोज कर देगी। वहीं, एक शादीशुदा महिला की हत्या की गुत्थी सुलझाने के दावे को खुद पुलिस ने झूठला दिया। दो साल बाद उसके हत्यारे नहीं पकड़े जा सके। एसपी सिटी ने कहा कि मामले की छानबीन में पुलिस लगी है। नुसरुतुल्लाह मर्डर कांड में जल्द कातिलों को अरेस्ट कर लिया जाएगा।

रईस मर्डर के सवालों की गुत्थी में उलझी पुलिस

राजघाट के बनकटी चक में पुराने रईस नुसरुतुल्लाह उर्फ दादा का मकान है। मोहल्ले में लोग उनको नवाब साहब के नाम से जानते हैं। पहली पत्नी के गुजर जाने के बाद नवाब साहब ने दूसरी शादी कर ली। 22 फरवरी देर रात वह भोजन के बाद टहलने निकले। घर के पास एक कमरे में कुल लोग कैरम खेलते हैं। टहलते हुए उन लोगों के पास गए। फिर लौटकर अपने घर के गेट से भीतर जा रहे थे। तभी पहले से खड़ा संदिग्ध युवक दौड़कर उनके पास गया। कुछ देर में युवक बाहर आ गया। घर के मोड़ पर कोने में खड़ी बाइक स्टार्ट करके अलहदादपुर की ओर चला गया। घर से बाहर निकले एक अन्य सदस्य ने झांककर बाहर देखा। फिर पुलिस को उनके मर्डर की सूचना दी गई। इस मामले में उनकी बेटी अनमतस ने मुकदमा दर्ज कराया। उन्होंने अपनी तहरीर में कहा कि बेनीगंज, रुद्रपुर मोहल्ले के अनिल सोनकर और गोरखनाथ, रसूलपुर निवासी इमामुद्दीन सिद्दीकी से रुपए के लेनदेन का विवाद था। बेटी ने आशंका जताई कि दोनों उनके पिता से दुश्मनी रखते थे। इसलिए साजिश करके हत्या करा दी। वहीं, पुलिस मान रही है कि इनका कोई कोई कसूर नहीं है।

इस हाल में नुसरुतुल्लाह मर्डर की जांच

- नामजद आरोपियों को पु़लिस गिरफ्तार नहीं कर पाई है। दोनों घर छोड़कर फरार हैं।

- किसी करीबी के शामिल होने की आशंका में पुलिस की पड़ताल पर कोई सुराग नहीं मिला।

- सर्विलांस और सीसीटीवी फुटेज के जरिए पुलिस को कोई ठोस क्लू नहीं जुटा पा रही।

- भूमि विवादों की फेरहिस्त काफी लंबी है। इसलिए पुलिस टीम हर विवाद में खुद फंस जा रही।

- क्राइम ब्रांच की तेज तर्रार टीम भी लगी है। 50 से अधिक लोगों से पूछताछ में मामला बेनतीजा निकला है।

दो साल गुजर गए, नहीं खुला राज

राजघाट एरिया में पांडेयहाता के भीड़भाड़ वाले इलाके में गलियों से होकर एक रास्ता मकान में जाता है। इसी मकान में दो नवंबर 2018 की देर शाम एक घटना हुई। पति से अलग होने के बाद पिता और भाई संग मकान में रहने वाली रश्मि की हत्या कर दी गई। सब्जी काटने वाले चाकू से गला रेता गया था। घटना के करीब डेढ़ घंटे के बाद परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। बताया कि उस समय पिता दवा लेने बाजार गए गए थे। जबकि भाई भी सब्जी खरीदने के चक्कर में पांडेयहाता की ओर गया था। उनके लौटने पर ही मामले की जानकारी हुई। घर आए तो देखा बहन फर्श पर गिरी है। फॉरेसिंक टीम और डॉग स्कवायड ने सबूत जुटाए। लेकिन नतीजा शून्य रहा। मर्डर का राजफाश करने के लिए पुलिस टीम ने कई बाद पिता और भाई से पूछताछ की। लोगों का कहना है कि इस वजह से दोनों ने घर छोड़ दिया। शहर से बाहर कहीं चले गए।

इन सवालों के जवाब नहीं दे पाई पुलिस

- रश्मि का मर्डर किसने और क्यों किया। क्या दुश्मनी थी।

- घर में जब पिता और भाई बाजार गए थे। तब कौन आया।

- तीन साल से पति से अलग रहने वाली महिला का मर्डर किन वजहों से सकता है।

- पुलिस की जांच में कोई सुराग नहीं मिला। सर्विलांस और फारेसिंक रिपोर्ट भी सामने नहीं आ सकी।

नुसरुतुल्लाह मर्डर की जांच में राजघाट पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम लगी है। विभिन्न बिंदुओं पर हमारी पड़ताल चल रही है। शूटर तक पहुंचने की कोशिश पुलिस कर रही है। जल्द ही आरोपित केा अरेस्ट कर लिया जाएगा।

डॉ। कौस्तुभ, एसपी सिटी

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.