शोहदों पर मेहरबानी पड़ेगी भारी

Updated Date: Thu, 27 Feb 2020 05:30 AM (IST)

- शहर में छेड़छाड़, बदसलूकी रोकने के लिए हुई सख्ती

- तिवारीपुर पुलिस ने 36 घंटे में फाइल कर दी चार्जशीट

GORAKHPUR: शहर की महिलाओं की सुरक्षा का दायरा बढ़ाते हुए पुलिस अधिकारियों ने सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। महिलाओं, छात्राओं और युवतियों संग किसी तरह की बदसलूकी की शिकायत पर लापरवाही मिली तो एक्शन तय है। कोचिंग से लौट रही छात्रा संग छेड़छाड़ करने वाले शोहदों के खिलाफ कार्रवाई कर तिवारीपुर पुलिस ने मिसाल कायम की है। एसओ तिवारीपुर के काम की सराहना करते हुए सीनियर अफसरों ने सभी थानेदोरों को गाइड लाइन जारी की है। उन्होंने कहा है कि इस तरह के मामलों में त्वरित कार्रवाई करें जिससे सोसायटी में पॉजीटिव मैसेज जाए।

मैनेजमेंट में जुट जाते थानेदार, हलकान होते पीडि़त

पीडि़त संग छेड़छाड़, बदसलूकी सहित अन्य मामलों की शिकायत मिलने पर पुलिस कार्रवाई के बजाय टालमटोल करने लग जाती है। कई बार ऐसा हुआ है कि आरोपियों के खिलाफ एक्शन लेने की जगह किसी के जरिए लेनदेन शुरू हो जाता है। ऐसे में पीडि़त को न्याय नहीं मिल पाता। दूसरी और एक गलत मैसेज जाता है कि पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। लालच में आकर पुलिस कर्मचारी चाहते हैं कि मुकदमा न दर्ज करना पड़े। इसका यह असर होता है कि कार्रवाई के अभाव में मनबढ़ों का दुस्साहस बढ़ता चला जाता है। मामला मैनेज करने के चक्कर में कई बार आरोपित थाने से छूट जाते हैं।

हर थाने पर एंटी रोमियो स्कवॉयड फिर भी होती लापरवाही

महिलाओं के साथ छेड़छाड़ सहित अन्य घटनाओं को रोकने के लिए एसएसपी ने हर थाना पर एंटी रोमियो स्कवॉयड की तैनाती की है। एक दरोगा, दो महिला और दो पुरुष कांस्टेबल की ड्यूटी लगाई गई है। इनकी जिम्मेदारी है कि स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर और ब्लैक स्पॉट पर जाकर शोहदों पर नजर रखें। लेकिन टीम की सुस्ती से कई बार शोहदे बदसलूकी करके फरार हो जाते हैं। ऐसे में महिलाओं के साथ होने वाली छेड़छाड़ की घटनाएं थम नहीं पा रही हैं।

वर्ष 2019 में दर्ज हुए मामले

रेप के कुल मामले- 75

मुकदमों की पेंडिंग विवेचना- 32

छेड़खानी, शीलभंग की कुल शिकायतें- 258

महिलाओं पर फब्ती कसने के मुकदमे- 13

महिलाओं के अपहरण की कुल घटनाएं- 300

छेड़खानी और शीलभंग के पेंडिंग मामले- 120

नजीर बनी तिवारीपुर पुलिस, लापरवाही पड़ेगी भारी

महिलाओं के साथ होने वाली घटनाओं में किसी तरह की लापरवाही थानेदारों पर भारी पड़ेगी। तिवारीपुर पुलिस ने एक मामले में 36 घंटे के भीतर कार्रवाई पूरी करते हुए चार्जशीट दायर कर दिया है। इसे नजीर मानते हुए पुलिस अधिकारियों ने सभी थानेदारों के गाइड लाइन जारी कर दी है। शनिवार को एसपी सिटी डॉ। कौस्तुभ, सीओ कोतवाली वीपी सिंह ने एसओ सत्य प्रकाश सिंह को प्रशस्ति पत्र दिया। एसपी सिटी ने कहा कि महिला अपराधों में पुलिस की तत्परता से पीडि़त को न्याय दिलाया जा सकता है। एसओ ने 36 घंटे के भीतर कार्रवाई पूरी की। इस तरह से सभी विवेचकों को काम करना चाहिए। 15 फरवरी को तिवारीपुर एरिया में रहने वाली एक छात्रा कोचिंग से घर लौट रही थी। तभी शोहदों ने उसके साथ बदसलूकी की। पुलिस ने आरोपित शमीउल्लाह, छोटू, आफताब, मेहरुनिशा और साहिल को अरेस्ट कर लिया।

हाल में हुईं घटनाएं

19 फरवरी 2020: खोराबार एरिया में घर में घुसकर नहा रही युवती का वीडियो बनाने की शिकायत पर पुलिस ने शोहदे को छोड़ा। बाद में अफसरों की सख्ती पर उसे अरेस्ट किया गया।

15 फरवरी 2020: रेलवे स्टेशन रोड पर स्कूटी सवार दो युवतियों से शोहदों ने बदसलूकी की। उनके अपहरण का प्रयास किया।

3 फरवरी 2020: पीपीगंज में सोनौली हाइवे पर शहर आ रही तीन युवतियों संग कार सवारों ने बदसलूकी की। शुरूआत में पुलिस मैनेज करने लगी। बाद में शोहदों को अरेस्ट करके जेल भेजा गया।

वर्जन

महिलाओं के साथ होने वाले क्राइम पर नजर रखी जा रही है। किसी तरह की लापरवाही सामने आने पर संबंधित थानेदार और विवेचकों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी। तिवारीपुर में हुई घटना में एसओ ने तत्परता दिखाते हुए 36 घंटे के भीतर चार्जशीट फाइल कर दी। इससे सभी को सबक लेना चाहिए।

डॉ। कौस्तुभ, एसपी सिटी

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.