एक हजार स्टार्टअप का सेंटर बनेगी गोरखपुर यूनिवर्सिटी

Updated Date: Wed, 06 Jan 2021 10:42 AM (IST)

-पहले स्टेप में लांच होंगे 100 स्टार्ट अप

-यूनिवर्सिटी में वीसी ने पीएचडी और पीजी स्टूडेंट्स से की सीधी बातचीत

GORAKHPUR: पूवरंचल में एंटरप्रेन्योरशिप कल्चर और स्टार्ट अप्स को बढ़ावा देने की दिशा में यूनिवर्सिटी काम कर रहा है। इसके अंतर्गत 1000 स्टार्टअप का केंद्र गोरखपुर यूनिवर्सिटी बनेगी। इनमें सौ स्टार्टअप पहले स्टेप में लांच होंगे। इनमें 50 स्टूडेंट की ओर से लगाए जाएंगे। तीन साल तक यूनिवर्सिटी स्टार्टअप लगाने वाले स्टूडेंट्स को गाइड करेगा। ये बातें दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर यूनिवर्सिटी के वीसी प्रो। राजेश सिंह ने मंगलवार को नववर्ष के उपलक्ष्य में पीएचडी और पीजी के स्टूडेंट्स से दीक्षा भवन में संवाद करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की सात हजार सीटों पर प्रत्येक वर्ष 65 हजार से अधिक आवेदन आते हैं। हमें बदलते समय के साथ पढ़ाई की गुणवत्ता को बढ़ाने के साथ साथ रोजगार परक कोर्सेज को बढ़ावा देने की दिशा में काम करना होगा।

35 सौ स्टूडेंट को अलग-अलग वित्तीय मदद

वीसी प्रो। सिंह ने कहा कि हमारी कोशिश है की यूनिवर्सिटी में नामांकन हासिल करने वाले कम से कम 3500 स्टूडेंट को छात्रवृत्ति का लाभ दिलाएं। इसके लिए अर्न एंड लर्न योजना की शुरुआत की जा रही है। इसके अंतर्गत 500 स्टूडेंट को जोड़ा जाएगा। साथ ही पीएचडी के 450 शोधकर्ताओं को न्यूनतम 10-15 हजार रुपए स्कालरशिप, सौ खिलाडि़यों को स्कॉलरशिप तथा 100 स्टूडेंट्स को इंटरनेशनल फैलोशिप देने की तरफ बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि परिसर के प्लेसमेंट एंड टेनिंग सेंटर में भी 1000 स्टूडेंट को ट्रेनिंग देकर रोजगार के काबिल बनाने की कार्ययोजना तैयार की जा रही है।

कौशल विकास से संवारेंगे हुनर

वीसी प्रो। सिंह ने कहा कि कौशल विकास के माध्यम से स्टूडेंट्स के हुनर को संवारा जाएगा। इसे लेकर यूनिवर्सिटी में कौशल विकास प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना होगी। 1000 स्टूडेंट को मार्केट की डिमांड के मुताबिक ट्रेनिंग दी जाएगी।

महीने के आखिरी सप्ताह में 6 स्टूडेंट से बात

वीसी प्रो। सिंह ने कहा कि वो हर महीने के आखिरी सप्ताह में तीन यूनिवर्सिटी और तीन संबद्ध महाविद्यालयों के एक-एक पीएचडी, यूजी और पीजी स्टूडेंट से संवाद करेंगे। डीएसडब्लू की ओर से इसकी व्यवस्था की जाएगी।

स्टूडेंट ने रखे विचार

एमएससी जुलोजी की स्टूडेंट अर्पिता सिंह, पीएचडी स्कालर अमरेंद्र कुमार तिवारी, एमए भूगोल के छात्र सुनील कुमार गुप्ता, दर्शनशास्त्र की स्कालर प्रियंका पांडेय, एलएलएम के सर्वेश पांडेय ने डीडीयू को प्रगति के पथ पर आगे ले जाने में वीसी को हर संभव मदद देने का भरोसा दिया। संचालन अधिष्ठाता छात्र कल्याण ने किया।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.