शिकागो की फर्म से अनुबंध, अब रफ्तार पकड़ेगा गीडा का डेवलपमेंट

Updated Date: Fri, 16 Oct 2020 07:08 AM (IST)

- सेक्टर 11 को चमकाने के लिए गीडा और शिकागो की फर्म जेएलएल के बीच हुआ करार

- अब लोगों की सुविधाओं के लिए किया जाएगा सर्वे

- 200 एकड़ जमीन का किया जाना है डेवलपमेंट

GORAKHPUR: गोरखपुर में गीडा के विकास को अब तेज रफ्तार मिलेगी। बरसों से गीडा के डेवलपमेंट की राह देख रहे गोरखपुराइट्स का इंतजार खत्म हो गया। शिकागो की फर्म जेएलएल ने गोरखपुर इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी (गीडा) के बीच सेक्टर 11 को चमकाने के लिए फर्म व गीडा के बीच अनुबंध हो गया। करार होने के साथ ही फर्म ने अपना काम भी शुरू कर दिया है। शुरूआत में इस एरिया में लोगों की डिमांड क्या है, इसका आकलन किया जा रहा है। सर्वे कर यह जानने की कोशिश की जाएगी कि लोग यहां किस तरह की सुविधाएं चाहते हैं। इसके हिसाब से एरिया का डेवलपमेंट किया जाएगा।

70 एकड़ में कॉमर्शियल डेवलपमेंट

गीडा के सेक्टर 11 में 200 एकड़ जमीन का विकास किया जाना है। पहले फेज में 70 एकड़ क्षेत्रफल में कॉमर्शियल डेवलपमेंट किया जाएगा। इसके लिए प्रतिठति फर्मो से आवेदन आमंत्रित किए गए थे। टेक्निकल और फायनेंशियल बिड के आधार पर शिकागो की फर्म जेएलएल को यह जिम्मेदारी दी गई है। अनुबंध होने के साथ ही फर्म की ओर से एक टीम गीडा में तैनात कर दी गई है। यह टीम आने वाले 15 से 20 सालों के बदलाव के अनुसार विकास की रूपरेखा तैयार करेगी। सेक्टर वाइज डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) गीडा को सौंपा जाएगा। उसी रिपोर्ट के आधार पर विकास किया जाएगा।

इन फर्मो ने किया था आवेदन

सेक्टर 11 के विकास के लिए शिकागो की मल्टीनेशनल फर्म जेएलएल ने आवेदन किया था। इंडिया में इसका मुख्यालय मुंबई में है। रियल एस्टेट के क्षेत्र की यह दिग्गज कंपनी है। एक और मल्टीनेशनल कंपनी कुशमैन एंड वेकफील्ड ने भी इस सेक्टर के विकास के लिए रुचि दिखाई थी शिकागो की इस कंपनी का भारत मे मुख्यालय गुड़गांव में है। इसके अलावा मुम्बई की दरशा कंपनी ने भी अपना प्रस्ताव दिया था, मगर जेएलएल को यह जिम्मेदारी दे दी गई है।

सेक्टर 11 के विकास के लिए जेएलएल के साथ अनुबंध कर लिया गया है। फर्म की ओर से तैनात की गई टीम ने काम भी शुरू कर दिया है। फर्म की ओर से मिलने वाले डीपीआर के आधार पर विकास कार्य शुरू करा दिए जाएंगे।

संजीव रंजन, सीईओ, गीडा

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.