पुलिस और पशु तस्करों के बीच रविवार की रात मुठभेड़ हो गई. इस दौरान बोलेरो सवार पशु तस्करों को राजघाट पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो वह उनपर फायरिंग करने के साथ उनकी सरकारी जीप में ठोकर मारकर भागने लगे. बाद में पुलिस ने घेराबंदी कर मुबारक खान शहीद मोड़ के पास से दो तस्करों को अरेस्ट किया. इस बीच उनके दो साथी गाड़ी लेकर भागने में सफल रहे.


गोरखपुर (ब्यूरो)। राजघाट थानेदार संजय कुमार मिश्र, ट्रांसपोर्ट नगर चौकी प्रभारी अनूप कुमार मिश्र, दरोगा सुशील चौरसिया, राजेन्द्र सिंह अन्य पुलिस कर्मियों के साथ रविवार की रात में गश्त पर थे। इस दौरान उनको सड़क से पशुओं के उठाने वाले तस्करों की सूचना मिली। शहीद मुबाकर खान मोड़ पर वह पहुंचे ही थे कि पुलिस को देख कर तस्करों ने उनपर फायरिंग शुरू कर दी। सरकारी गाड़ी में ठोकर मारकर बोलेरो से भागने लगे। पुलिस ने घेराबंदी कर दो तस्करों को गिरफ्तार कर लिया। तलाशी में उनके पास से दो मोबाइल, 315 बोर का तमंचा, दो जिंदा कारतूस और एक खोखा बरामद हुआ। तस्करों की पहचान चौरीचौरा क्षेत्र के दुधई गांव निवासी हरेन्द्र भारती और लालबाबू भारती के रूप में हुई। एसपी सिटी कृष्ण कुमार विश्नोई ने बताया कि उनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया है। साथियों की तलाश जारी है।
गिरोह का सरगना है विक्की


पशु तस्करों के गिरोह का सरकार चौरीचौरा क्षेत्र का रहने वाला विक्की है। पुलिस की पूछताछ में गिरफ्तार तस्करों ने बताया कि बोलेरो उसी का है। उसके साथ एक अन्य तस्कर संजय भी था। वह अब तक तीन बार शहर में पशुओं को उठाने आ चुके है। एक बार में वह तीन से चार गाय को लादकर बिहार ले जाकर बेच देते है।

Posted By: Inextlive