आग की बाढ़, फायर ब्रिगेड 'सूखा'

Updated Date: Mon, 05 Apr 2021 06:58 AM (IST)

- गर्मी के तेज होते ही शहर में आग की घटनाओं में बेतहासा वृद्धि, बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड के पास नहीं है पानी

- 189 हाईडे्रंट प्वाइंट में ज्यादातर सड़क निर्माण और एनक्रोचमेंट में दफन, मॉल्स और कामर्शियल संस्थानों के भरोसे फायर बिग्रेड

KANPUR : गर्मी के तेज होती है शहर में आग कहर बरपा रही है। शहर में रोजाना आग की दर्जनों घटनाएं रिपोर्ट हो रही हैं और करोड़ों का सामान खाक हो रहा है। लेकिन आग बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड के पास पानी की व्यवस्था नहीं है। जिले में फायर ब्रिगेड को पानी मुहैया कराने के लिए लगभग 189 हाईडेंट प्वाइंट बनाए गए थे। लेकिन इनमें से ज्यादातर सड़क निर्माण और एनक्रोचमेंट में दफन हो गए। ऐसे आग बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड कॉमर्शियल संस्थानों, शॉपिंग मॉल्स के वॉटर प्वाइंट्स पर निर्भर है।

कैसे बुझेगी आग

अगर शहर के मुख्य फायर स्टेशन फजलगंज की ही बात की जाए तो यहां कुल 36 हाईटेंड स्पॉट बने हैं। जिसमें से नौ सिर्फ मॉल और कॉमर्शियल संस्थानों को अगर छोड़ दिया जाए तो 27 हाईडेंट नॉन एक्टिव हैं। इसके बाद सबसे ज्यादा घटनाएं जाजमऊ फायर स्टेशन क्षेत्र में होती हैं। यहां वॉटर प्वाइंट के करीब 20 स्पॉट है, लेकिन एक्टिव में सिर्फ चार हरिहर धाम व तीन हास्पिटल में हैं। चीफ फायर अफसर एमपी सिंह का कहना है कि सभी फायर स्टेशनों को अलर्ट मोड पर रखा गया है। वॉटर प्वाइंट्स से संबंधित मोबाइल नंबरों की सूची अपडेट कराई गई है। पुराने हाईडेंट में अधिकतर में प्रेशर की समस्या रहती है। इन हाईडेंट के भरोसे रहे तो आग बुझानी मुश्किल हो जाएगी। हाईडेंट दुरुस्त कराने के लिए जलनिगम से बात चल रही है।

197 घटनाएं, 39 करोड़ का नुकसान

1 जनवरी 2021 से लेकर 2 अप्रैल तक आग की घटनाओं का आंकड़ा 197 पहुंच गया है। इन घटनाओं में 39 करोड़ रुपए के सामान के नुकसान का आंकलन किया गया है। 9 पशुओं की मौत हुई है, जबकि दो लोगों को जान से भी हाथ धोना पड़ा है। तीन महीनों में आठ फायरकर्मी झुलसे हैं जबकि 14 लोगों की जान बचाई गई है। दमकल विभाग के रिकार्ड की माने तो करीब 42 करोड़ रुपये का सामान बचाया गया है। अगर 2020 की बात की जाए तो 1 जनवरी से लेकर 31 मार्च 2020 तक कुल 106 घटनाएं हुई थीं।

शार्ट सर्किट से अधिकतर घटनाएं

फायर ब्रिगेड अधिकारियों की माने तो अधिकतर घटनाएं बिजली के शार्ट सर्किट से हुई हैं। तीन महीने में हुई 197 घटनाओं में बिजली से 100 से अधिक घटनाएं हुई हैं।

इस साल बढ़ रही आग

एफएसओ सुरेंद्र चौबे ने बताया कि इस साल बीते साल की अपेक्षा आग की घटनाएं ज्यादा हो रही हैं। सभी फायर स्टेशन को 24 घंटे अलर्ट मोड पर रहने के आदेश दिए गए हैं। साथ ही शहर के बंद हाइडेंट खुलवाने की कोशिश की जा रही है।

समझदारी से हो सकता बचाव

एफएसओ का कहना है कि समझदारी से बचाव हो सकता है। रसोई में काम करते समय सावधानी रखें। काम के बाद सिलेंडर को ऑफ कर दें। संभव हो तो घर और प्रतिष्ठानों में फायर एक्सटिंगयूसर रखें। बहुमंजिली इमारतों, अस्पताल और कॉमर्शियल बिल्डिंग्स में आग बुझाने का सिस्टम जरूर लगवाएं।

ये हैं नॉन एक्टिव हाईडेंट

नौबस्ता हंसपुरम नलकूप संख्या, 1,3,4,5,7,8,11,13, पनकी ई-ब्लाक, एफ ब्लाक, गोविंद नगर बी-ब्लाक पार्क, गोविंद नगर पीली कालोनी, चरन सिंह कालोनी, रतनलाल नगर जेडपीएस-2, रतनलाल नगर पदमेश पार्क, गुजैनी नंबर दो ओवरहेड टैंक परिसर, बर्रा-3 नलकूप पार्क, बर्रा-5 नंबर-1, विश्वबैंक डी-सेक्टर, बर्रा-8 नंबर दो ओवरहेड टैंक परिसर, गुजैनी जी-ब्लाक, डीपीएस नलकूप, आजाद पार्क नलकूप, जे-टू पार्क नलकूप विजय नगर, इंद्रा नगर पार्क नलकूप-2, इंद्रा नगर नलकूप लोहिया पार्क, इंद्रा नगर नलकूप रामलीला पार्क।

फायर स्टेशन वर्किंग

- कर्नलगंज, लाटूश रोड, फजलगंज

- मीरपुर, घाटमपुर, बिल्हौर व जाजमऊ

निर्माणाधीन

किदवई नगर, नर्वल, पनकी

प्रस्तावित

बिठूर

फायर ब्रिगेड की ताकत

लाटूश रोड फायर स्टेशन

एमएफई (मोटर फायर इंजन) - 25 सौ लीटर की क्षमता की 2 गाडि़यां

हाईप्रेशर - 4 सौ लीटर की क्षमता की 1 गाड़ी

पंप - 2

रेस्क्यू वैन- 1

कनर्लगंज फायर स्टेशन

एमएफई - 25 सौ लीटर क्षमता की 2 गाडि़यां

वाटर बाउजर - 8 हजार लीटर की क्षमता का 1 फायर टेंडर

हाईप्रेशर - 4 सौ लीटर की क्षमता की 1 गाड़ी

जेट इंजन- 2

पंप- 2

रेस्क्यू वैन-1

फजलगंज फायर स्टेशन

एमएफई - 2 हजार लीटर की 1 गाड़ी, 45 सौ लीटर की 1 गाड़ी

फोम टेंडर - 2, 1 खराब

वाटर बाउजर - 8 हजार व 12 हजार लीटर की क्षमता वाले

पंप - 3

हाइड्रोलिक प्लेटफार्म - 42 मीटर ऊंचाई की क्षमता वाली 1 गाड़ी (निष्क्रिय)

एंबुलेंस - 2

बोलेरो - 2

ट्राली - 1

मीरपुर फायर स्टेशन

एमएफई - 45 सौ लीटर की क्षमता की 2 गाडि़यां

वाटर बाउजर - 8 हजार लीटर की क्षमता की 1 गाड़ी

हाई प्रेशर - 4 सौ लीटर की क्षमता की 1 गाड़ी

पंप - 3

एंबुलेंस - 2

घाटमपुर फायर स्टेशन

एमएफई - 25 सौ लीटर क्षमता की 2 गाडि़यां, एक खराब

एमएफई- 45 सौ लीटर की क्षमता की

जेट इंजन - 1

ट्राली - 1

पंप - 1

रेस्क्यू वैन - 1

बिल्हौर फायर स्टेशन

एमएफई - 25 सौ लीटर क्षमता की 2 गाडि़यां, 1 खराब

एमएफई- 45 सौ लीटर की क्षमता वाली

हाई प्रेशर - 4 सौ लीटर क्षमता की 1 गाड़ी

जेट इंजन -1

पंप - 2

रेस्क्यू वैन - 1

ट्राली - 1

जाजमऊ फायर स्टेशन

एमएफई - 45 सौ लीटर क्षमता की 2 गाडि़यां

फोम टेंडर - 45 सौ लीटर क्षमता की 1 गाड़ी

हाई प्रेशर - 4 सौ लीटर क्षमता की 1 गाड़ी

पंप - 1

रेस्क्यू वैन

तीन महीने में यहां लगी बड़ी आग

- फजलगंज में चप्पल फैक्ट्री में लगी आग

- चकेरी में स्क्रैप गोदाम में लगी आग

- कॉर्डियोलॉजी में शार्ट सर्किट ले लगी आग।

- चौबेपुर में बाजार में लगी आग

- श्याम नगर में दो मकानों में लगी आग

- गोविंद नगर में मकान में लगी आग

- जाममऊ टेनरी में दो बार लगी बड़ी आग

- 3 महीने में 6 बार खेतों में हाईटेंशन लाइन से आग

- किसान नगर मंडी में लगी आग।

- गड़रिया मोहाल में बारदाना गोदाम में लगी आग

आग लगने पर इन नंबरों पर दें सूचना

कंट्रोल रूम : 101

9454418396

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.