जैश आतंकियों से फिर निकला कानपुर कनेक्शन

Updated Date: Wed, 18 Nov 2020 12:02 PM (IST)

- लखनऊ और कानपुर से संबंधित मिले कई डॉक्यूमेंट्स सिक्योरिटी एजेंसीज ने लिए कब्जे में

- लैपटॉप और मोबाइल से मिली कई जानकारियां, ईस्टर्न यूपी के कई स्लीपिंग मॉड्यूल्स रडार पर

KANPUR : देश की राजधानी दिल्ली के सराय काले खां इलाके से जैश के 2 संदिग्ध आतंकियों को पकड़ा गया। दिल्ली पुलिस के मुताबिक मंडे रात करीब 10.25 बजे मिलेनियम पार्क से इन दोनों की गिरफ्तारी हुई है। पकड़े गए दोनों आतंकी जम्मू-कश्मीर के रहने वाले हैं। पुलिस ने इनके पास से 2 सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल और 10 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं। इनके पास से संदिग्ध डॉक्यूमेंट भी मिले हैं। दिल्ली पुलिस की सूचना पर पहुंची यूपी एटीएस की टीम और सुरक्षा एजेंसियों ने इनकी पर्सनल इनक्वायरी की है। जानकारी में जो तथ्य सामने आए, वे चौंकाने वाले हैं। इसके बाद से एजेंसियों ने इनके यूपी से कनेक्शन तलाशने शुरू कर दिए हैं। सूत्रों के मुताबिक फेसबुक और इंस्टाग्राम से कुछ ऐसी जानकारियां मिली हैं। जिनसे ये बात पुख्ता होती है कि आतंकियों के कनेक्शन औद्योगिक शहर कानपुर से जुड़े हैं।

एजेंसियों के कान खड़े हो गए

पकड़े गए संदिग्धों में एक का नाम अब्दुल लतीफ है। जो बारामूला जिले के डोरू गांव का रहने वाला है। दूसरे का नाम अशरफ खटाना है जो कुपवाड़ा के हटमुल्ला गांव का रहने वाला है। पकड़े गए दोनों आतंकी जैश के हैं और इनके संबंध खुरासान मॉड्यूल से बताए गए हैं। कानपुर में पकड़े गए गौस मुहम्मद से अब्दुल लतीफ के संपर्क सामने आए हैं। जिसके बाद से एजेंसियों के कान खड़े हो गए हैं।

इसी महीने जारी हुआ था अलर्ट

नवंबर की शुरुआत में दिल्ली-एनसीआर समेत देश के बड़े महानगरों में आतंकी हमले का खतरा जाहिर किया गया था। इंटेलिजेंस एजेंसियों ने अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घटनाओं को देखते हुए अलर्ट जारी किया था। इनपुट्स में कहा गया था कि आतंकी विदेशी मूवमेंट वाले इलाके, नई दिल्ली में विदेशी दूतावास, चर्च और दूसरे धार्मिक स्थल, बड़े होटल समेत महत्वपूर्ण इमारतों या किसी ऐसे शहर पर हमला कर सकते हैं जहां ज्यादा नुकसान हो सके।

इसलिए कानपुर है निशाने पर

कानपुर में आर्डिनेंस फैक्ट्री, डीएमएसआरडीई, इंडियन आयल और पैराशूट फैक्ट्री, एचएएल, कैंट, हवाई अड्डा, एयर फोर्स स्टेशन और आईआईटी होने की वजह से आतंकियों के निशाने पर है।

सुरक्षा एजेंसियों ने कसा शिकंजा

दोनों आतंकियों के पकड़े जाने के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने शिकंजा कस दिया है। शहर में रहने वाले दूसरे देश के लोगों की जानकारी की जा रही है। विदेशों ने आने वाली मोबाइल कॉल्स को फिल्टर किया जा रहा है। स्लीपिंग मॉड्यूल्स पर निगाह रखी जा रही है। स्थानीय खुफिया इकाई को भी अलर्ट कर दिया गया है। सार्वजनिक स्थानों पर पुलिस की टीमें लगाई गई हैं। जो देश की राजधानी से आने जाने वालों पर विशेष निगाह रखे हैं।

'' दिल्ली में पकड़े गए आतंकियों के पास से जो सामान मिला है। उनमें यूपी के कानपुर और लखनऊ समेत कई शहरों से जुड़े लोग के नाम हैं। पूरे मामले की इंट्रोगेशन की जा रही है.''

-डीके ठाकुर, डीआईजी, यूपी एटीएस।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.