गिरफ्त में 'नशे' के सौदागर

Updated Date: Sun, 27 Sep 2020 04:48 PM (IST)

- नौबस्ता पुलिस का बड़ा खुलासा, मेडिकल स्टोर्स से नशे के लिए यूज होने वाली दवाइयां बेचने वाले बड़े नेक्सेस का भंडाफोड़

- दो मेडिकल स्टोर संचालक समेत 4 लोग किए गए अरेस्ट, लाखों रुपए कीमत के नशीले इंजेक्शन और टैबलेट बरामद, दो की तलाश

KANPUR: सिटी में नशाखोरी के खिलाफ दैनिक जागरण आईनेक्स्ट के कैंपेन का बड़ा असर पड़ा है। पुलिस और ड्रग डिपार्टमेंट की टीम ने शहर में नशाखोरी में इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं को बेचने वाले एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ किया है। नौबस्ता पुलिस ने दो मेडिकल स्टोर संचालकों समेत 4 लोगों को अरेस्ट करते हुए लाखों रुपए कीमत के नशीले इंजेक्शन और टैबलेट बरामद की है। पूछताछ में पता चला है कि इन दवाओं को नशाखोरों को एक पैकेट बना कर तीन से चार गुना दामों पर बेचा जाता था। इस मामले में पुलिस ने बिरहाना रोड के दो दवा व्यापारियों को भी आरोपी बनाया है जो अभी फरार हैं।

-----------------------

सीधे काउंटर से बेच रहे थे नशा

नौबस्ता थाने में हुई प्रेस कांफ्रेंस में एसपी साउथ दीपक भूकर ने बताया कि केशवनगर में मेडिकल स्टोर चलाने वाले किदवई नगर निवासी हिमांशु सिंह और जूही गौशाला में मेडिकल स्टोर संचालक कमल किशोर को अरेस्ट किया गया है। इनके साथ नशीले इंजेक्शन की सप्लाई करने के आरोप में खाड़ेपुर निवासी शैलेश पांडेय और उन्नाव निवासी गिरीश कुमार भी दबोचे गए हैं। जबकि बिरहाना रोड के दो दवा व्यापारी सुनील कश्यप और गुड्डू को भी आरोपी बनाया गया है। इनके गोदामों में छापेमारी के दौरान बड़ी मात्रा में नशीले इंजेक्शन और टैबलेट बरामद हुई थी।

-------------------------------

बिना डॉक्टर्स के प्रििस्क्रप्शन

पुलिस को इन लोगों से पूछताछ में पता चला है कि दोनों मेडिकल स्टोरों से इन नशीले इंजेक्शन और दवाओं को सीधे नशाखोरों को चार गुना दाम पर पैकेट बना कर बेचा जाता था। चूंकि यह ड्रग शेडयूल एच में आती है ऐसे में इन्हें बिना डॉक्टर्स के प्रिस्क्रिप्शन के नहीं बेचा जा सकता। इन दवाओं को डॉक्टर्स एलर्जी, नींद न आना व पेन किलर के रूप में प्रिस्क्राइब करते हैं, लेकिन ये लोग रिकार्ड में गड़बड़ी कर इन्हें सीधे नशाखोरों को बेच रहे थे। वहीं ड्रग इंस्पेक्टर संदेश मौर्या ने बताया कि छापे के दौरान मिली नशीली दवाओं की सैंपलिंग भी की गई है। साथ ही इनके शेडयूल एच दवाओं को बेचने से संबंधित लाइसेंस की भी जांच की जा रही है।

ये मिला नशे का सामान

1,003,180 - नशे की टैबलेट और कैप्सूल

8043 - अलग अलग सॉल्ट के नशे के इंजेक्शन

300 - सिरिंज

88,120 रुपए - नशीले सामान की बिक्री के

------

अलग बॉक्स लगाएं

25 लाख की चरस के साथ तीन महिलाएं गिरफ्तार

एसटीएफ की कानपुर यूनिट ने नेपाल से चरस की बड़ी खेप लेकर कानपुर पहुंची तीन महिला पेडलर्स को गंगा बैराज से गिरफ्तार किया गया। इनके पास से पुलिस ने 25 लाख रुपए कीमत की 15 किलो से ज्यादा चरस बरामद की है। एसटीएफ के सीओ तेज बहादुर सिंह के मुताबिक काफी दिनों से नेपाल के रास्ते कानपुर और उसके आसपास के एरियाज में नशीले पदार्थो की तस्करी की इंफार्मेशन मिल रही थी। जिसे पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया। जिसके बाद बिहार की तीन महिलाओं मोतिहारी निवासी रेखा देवी, पूर्वी चंपारण निवासी नजमा खातून और पश्चिमी चंपारण निवासी मैना देवी को अरेस्ट किया है। आरोपी महिलाओं से पूछताछ में पता चला कि उन्हें नेपाल के वीरगंज बार्डर के पास से इस चरस को असलम नाम के शख्स ने कानपुर लाने के लिए दिया था। मोतिहारी के रास्ते बस पर सवार होकर तीनों लखनऊ पहुंची। उसके बाद उन्नाव के रास्ते गंगा बैराज पर पहुंची। जहां उन्हें चौबेपुर निवासी शैलेंद्र उर्फ मामा उर्फ शेखन को इस चरस को डिलीवर करना था.जो इसकी फुटकर बिक्री करता। महिलाओं ने यह भी बताया कि इससे पहले भी कई बार नशीले सामान की सप्लाई के लिए कानपुर आ चुकी हैं।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.