मडि़यांव में बच्चों को बंधक बनाकर लाखों की लूट

2020-05-23T21:46:10Z

-अजीजनगर निवासी स्वास्थ्यकर्मी के घर में दिनदहाड़े हुई वारदात

-काम पर गए थे दंपती, बच्चों को झांसा देकर घर में घुसे बदमाश

रुष्टयहृह्रङ्ख : मडि़यांव की शंकरपुरी कॉलोनी निवासी स्वास्थ्यकर्मी आशीष के दो बच्चों को बंधक बनाकर बदमाशों ने दिनदहाड़े लाखों के जेवर और नकदी लूट ली। लुटेरों ने विरोध पर बच्चों के हाथ-पैर बांध दिए और उनकी पिटाई कर दी। इसके बाद भाग निकले। डीसीपी उत्तरी शालिनी यादव के मुताबिक प्रारंभिक जांच में आशीष के किसी परिचित की भूमिका सामने आई है। एक संदिग्ध को हिरासत में लिया गया है।

आशीष के मुताबिक गुरुवार को वह ड्यूटी पर गए थे, जबकि उनकी पत्नी निशा अपने ब्यूटी पार्लर की दुकान पर थीं। घर पर आठ वर्षीय अविका और पांच साल का बेटा अर्थव मौजूद थे। दोपहर में दो व्यक्ति उनके घर पहुंचे और दरवाजे पर आवाज दी। यह सुनकर अविका ने खिड़की से पूछा तो दोनों ने कहा कि उन्हें आशीष ने भेजा है। बदमाशों ने अविका को फोन पर उसके पापा से बात कराने का झांसा दिया। अविका के दरवाजा खोलते ही दोनों बदमाश भीतर दाखिल हो गए। दोनों बच्चों के हाथ-पैर बांधकर बदमाशों ने उन्हें बंधक बना लिया और फिर अलमारी तोड़कर उसमें रखें लाखों रुपये के जेवर और नकदी लूट ली। इसके बाद वहां से भाग निकले। बच्चे सहमे हुए थे। काफी देर बाद अविका ने किसी तरह खुद को मुक्त किया और पड़ोस में जाकर मामले की जानकारी दी। इसके बाद आशीष और निशा को मामले की सूचना दी गई। पूछताछ में सामने आया कि एक बदमाश मास्क और हेलमेट लगाया था, जबकि दूूूसरे ने गमछे से अपना मुंह ढंक लिया था। पुलिस का कहना है कि अशाीष ने एक व्यक्ति पर शक जताया है। संदिग्ध को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। तहरीर के आधार पर एफआइआर दर्ज कर छानबीन की जाएगी।

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.