ऑक्सीजन सपोर्ट पर कोरोना मरीज, एंबुलेंस में रही तड़पती, मौत

Updated Date: Thu, 02 Jul 2020 08:36 AM (IST)

- मरीज की मौत पर परिवारजनों ने केजीएमयू की लापरवाही की शिकायत की

- चिकित्सा शिक्षा मंत्री के निर्देश पर मामले की जांच के आदेश

रुष्टयहृह्रङ्ख (1 छ्वह्वद्य4) :

जिस दर पर इलाज की उम्मीद थी, वहीं पर सिस्टम की संवेदनहीनता से कोरोना पीडि़त बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। बरेली की 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला को बुखार और सांस लेने में तकलीफ हुई। निजी लैब की जांच में कोरोना की पुष्टि हुई। ऐसे में ऑक्सीजन सपोर्ट पर उसे बरेली से केजीएमयू भेजा गया। आरोप है कि यहां पौन घंटे महिला वार्ड के बाहर एंबुलेंस में ही तड़पती रही। परिवारजनों की काफी जद्दोजेहद के बाद उसे भर्ती किया गया। लेकिन, तब तक मरीज की हालत बिगड़ चुकी थी। वार्ड में कुछ ही देर बाद मौत हो गई। परिवारजन ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर शिकायत की। मामले के जांच के आदेश दिए गए हैं।

बरेली के बहेड़ी निवासी महरुनिशां को बुखार-सांस लेने में तकलीफ हुई थी। 20 जून को उन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। सुधार न होने पर बेटे नसीम अहमद ने 21 जून को लखनऊ के महानगर स्थित निजी अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया। यहां भी सांस लेना दुश्वार हो गया। 22 जून को महिला की निजी लैब से कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। ऐसे में शाम को शाम को मरीज को केजीएमयू शिफ्ट करने का आदेश आ गया। सीएमओ कार्यालय से फोन आने पर तीमारदारों ने मरीज को बाई-पैप मशीन पर शिफ्ट होने का हवाला दिया। ऐसे में एंबुलेंस से ऑक्सीजन सपोर्ट पर बुजुर्ग को केजीएमयू पहुंचाया गया।

भर्ती में आनाकानी, बिगड़ती गई हालत

नसीम के मुताबिक केजीएमयू में गार्ड व स्टाफ से गंभीर मरीज को जल्द शिफ्ट करने का अनुरोध किया। मगर, कोई सुनवाई नहीं हुई। करीब 45 मिनट तक मां एंबुलेंस में ही तड़पती रहीं। हालत बिगड़ती गई। विरोध करने पर वार्ड से आए स्टाफ उन्हें वार्ड में ले गए। समय पर इलाज न मिल सका और कुछ देर बाद ही मां की मौत की सूचना दे दी गई। उन्होंने इस लापरवाही की मुख्यमंत्री, चिकित्सा शिक्षा मंत्री से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है।

केजीएमयू प्रशासन से तीन दिन में रिपोर्ट तलब

चिकित्सा शिक्षा मंत्री के ओएसडी अनिल बाजपेयी ने कहा कि कोरोना मरीज के इलाज में लापरवाही की शिकायत मिली है। संस्थान प्रशासन से मामले की जांच कर तीन दिन में रिपोर्ट तलब की गई है। इसके बाद कार्रवाई तय होगी। वहीं संस्थान के प्रवक्ता डॉ। सुधीर सिंह ने कहा कि परिजन के आरोपों की जांच की जाएगी।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.