निरीक्षण के दौरान मंडलायुक्त ने सबसे पहले ओपीडी रजिस्ट्रेशन काउंटर पर लाइन में लगे लोगों से संवाद किया और पूछा कि रजिस्ट्रेशन काउंटर पर पर्ची कटाने में किसी प्रकार की समस्या तो नहीं हो रही है। उपस्थित लोगों द्वारा बताया गया कि पर्ची कटाने में कोई असुविधा नहीं हो रही है।


लखनऊ (ब्यूरो)। मंडलायुक्त डॉ। रोशन जैकब ने शुक्रवार को क्वीन मैरी अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। यहां पर मरीजों ने उन्हें बताया कि कुछ दवाइयां बाहर से मंगाई जा रही हैैं, जिसे सुनकर वह नाराज हुईं और निर्देश दिए कि जिन्होंने बाहर से दवाइयां मंगाई हैैं, उनसे जवाब मांगा जाए। इसके साथ ही उन्होंने वार्डों में सफाई व्यवस्था को और बेहतर बनाने के निर्देश दिए।मरीजों से किया संवाद


निरीक्षण के दौरान मंडलायुक्त ने सबसे पहले ओपीडी रजिस्ट्रेशन काउंटर पर लाइन में लगे लोगों से संवाद किया और पूछा कि रजिस्ट्रेशन काउंटर पर पर्ची कटाने में किसी प्रकार की समस्या तो नहीं हो रही है। उपस्थित लोगों द्वारा बताया गया कि पर्ची कटाने में कोई असुविधा नहीं हो रही है। इसके बाद मंडलायुक्त ने लेबर वार्ड का निरीक्षण किया। यहां उन्होंने गर्भवती महिलाओं से उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली और उनको उपलब्ध कराए जा रहे उपचार का जायजा भी लिया। सभी दवाइयां मिल रहीं या नहीं

मंडलायुक्त द्वारा लेबर वार्ड में भर्ती महिलाओं से पूछा गया कि सभी दवाइयां समय से अस्पताल उपलब्ध कराई जा रही हैं या बाहर से मंगाई जा रही हैं। मरीजों ने बताया कि कुछ दवाइयां बाहर से खरीदनी पड़ रही हैं। मंडलायुक्त ने इस पर नाराजगी जताते हुए संबंधित अधिकारी को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि मरीजों के लिए दवाइयों की उपलब्धता में कोई कमी न हो। उन्होंने कहा कि दवाइयों की उपलब्धता अस्पताल में शतप्रतिशत सुनिश्चित हो। मंडलायुक्त ने वार्डों के निरीक्षण के दौरान साफ-सफाई को लेकर नाराजगी जताई। उन्होंने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिए कि सफाई कर्मचारी की ड्यूटी शिफ्टवार लगाई जाए।***************************************सस्ती दवा के लिए एक हुए सभी मेडिकल कॉलेजराजधानी के सभी बड़े मेडिकल संस्थानों में जल्द ही मरीजों को सस्ती दरों पर जरूरी दवाएं आसानी से उपलब्ध हो सकेंगी, जिससे उनको महंगी दवा बाहर से नहीं खरीदने पड़ेगी। इसके लिए केजीएमयू, पीजीआई, लोहिया और कैंसर संस्थान मिलकर सभी जरूरी दवाओं की लिस्ट को तैयार करेंगे। इसके लिए रेट कांट्रेक्ट यानि आरसी तैयार की जा रही है ताकि कोई भी संस्थान सीधे दवा कंपनी से सस्ती दरों पर दवा खरीद सके। ऐसे में मरीजों को बड़ी राहत मिलेगी।मिलकर कर रहे काम

केजीएमयू वीसी डॉ। बिपिन पुरी ने बताया कि संस्थान में हॉस्पिटल रिवॉल्विंग फंड के तहत मरीजों को सस्ती दरों पर दवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। अभी पीजीआई की आरसी के अनुसार दवा खरीदी जा रही है, लेकिन सभी संस्थानों में दवाओं की जरूरत अलग-अलग होती है, इसलिए चारों संस्थान मिलकर आरसी तैयार करने का प्रयास कर रहे हैं। इस संबंध में मुख्य सचिव से बात हो चुकी है। जल्द ही आरसी तैयार होने के बाद खरीदारी शुरू हो जायेगी। वीसी ने आगे बताया कि जल्द ही आर्थोपेडिक विभाग में भी एचआरएफ काउंटर खोला जायेगा ताकि वहां भी मरीजों को सस्ती दरों पर दवाएं मिल सकें। इससे पहले प्लास्टिक सर्जरी और क्वीन मेरी में काउंटर खोले जा चुके हैं।

Posted By: Inextlive