पचास हजार का ईनामी सुरेंद्र कालिया नाटकीय ढ़ग से कोलकाता में अरेस्ट

Updated Date: Sun, 13 Sep 2020 01:48 PM (IST)

- अवैध असलहा रखने के मामले में कोलकाता पुलिस ने किया अरेस्ट

- वारंट बी के तहत लखनऊ पुलिस सुरेंद्र कालिया को लेगी रिमांड पर

- क्राइम ब्रांच की टीम कई दिनों से तलाश रही थी, एसपी से हुआ था फरार

LUCKNOW: हिस्ट्रीशीटर व पचास हजार का इनामी सुरेंद्र कालिया नाटकीय तरीके से सलाखों के पीछे पहुंच गया। उसे अवैध असलहा रखने के मामले में कोलकाता पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस को उसकी कई दिनों से तलाश थी और उस पर पचास हजार का इनाम घोषित किया गया था। हाल ही में पुलिस की टीम ने सतना में उसकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी, लेकिन वह मौके से फरार हो गया जबकि सतना के एक होटल से पुलिस ने उसकी गर्भवती पत्‍‌नी व दो गुर्गे को पकड़ा था। अब पुलिस सुरेंद्र कालिया को वारंट बी के तहत लखनऊ लाने के लिए तैयारी कर रही है।

फंसाने की रची थी साजिश

हिस्ट्रीशीटर व रेलवे ठेकेदार ने पूर्व सांसद धनंजय सिंह को फंसाने व सरकारी गनर हासिल करने के लिए पूरी साजिश रची थी। 13 जुलाई को सुरेन्द्र कालिया ने आलमबाग कोतवाली में एफआईआर लिखायी थी कि अजंता अस्पताल से बाहर निकलते समय उस पर फायरिंग करायी गई थी। बुलेटपूफ्र गाड़ी की वजह से वह बच गया था। इसमें उसका निजी गनर रूप कुमार घायल हुआ था। सीसी फुटेज और फॉरेंसिक विशेषज्ञों से मिले साक्ष्यों से यह घटना फर्जी निकली थी।

पुलिस ने फर्जी हमले का किया था खुलासा

10 अगस्त को पुलिस ने खुलासा किया था कि सुरेन्द्र ने विरोधी को फंसाने व सरकारी गनर लेने के लिये अपने ऊपर हमला कराया था। इस साजिश में शामिल उसके चार साथी आलमबाग निवासी यशवेन्द्र सिंह उर्फ यशु, छोटा बरहा निवासी सचिन शुक्ला उर्फ विक्की, रायबरेली निवासी आशीष कुमार द्विवेदी और जेल रोड निवासी सुल्तान अली उर्फ मिर्जा गिरफ्तार किये गए थे। इसके बाद से पुलिस सुरेंद्र कालिया की तलाश कर रही थी। उसके खिलाफ पचास हजार इनाम भी घोषित किया गया था।

होटल से हो गया था फरार

लखनऊ पुलिस व क्राइम ब्रांच सुरेंद्र कालिया की तलाश कर रही थी। कुछ दिन पहले उसकी लोकेशन सतना के एक होटल में मिली थी। वह सतना अपने रिश्तेदार के घर पत्‍‌नी के साथ शरण लेकर छिपा था। हालांकि पुलिस के मौके पर पहुंचने से पहले ही वह मौके से फरार हो गया। पुलिस को मौके से उसकी गर्भवती पत्‍‌नी व दो गुर्गे मिले थे, पुलिस को आशंका था कि वह एमपी के रास्ते महाराष्ट्र में जाकर छिप गया।

नाटकीय तरीके से कोलकाता में गिरफ्तार

डीसीपी मध्य सोनेम वर्मा ने कहा कि सुरेन्द्र को वारंट बी के तहत लखनऊ लाया जाएगा। यह भी माना जा रहा है कि सुरेंद्र कालिया की कोलकाता में गिरफ्तारी नाटकीय तरीके से हुई है। उसे कोलकाता पुलिस ने शनिवार को अवैध असलहे के साथ गिरफ्तार किया है। माना जा रहा कि सिर पर पचास हजार रुपये इनाम व एनकाउंट के डर से सुरेंद्र कालिया ने खुद को दूसरे प्रदेश में गिरफ्तार कराया ताकि वह लखनऊ पुलिस से बच सके। हालांकि लखनऊ पुलिस उसे जल्द ही वारंट बी के तहत कोलकाता से लखनऊ लाने की तैयारी कर रही है।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.