हॉस्पिटलों में कितनी ऑक्सीजन खपतए अब रखी जाएगी नजर

Updated Date: Sun, 09 May 2021 11:52 AM (IST)

- तीन सदस्यीय टीम रखेगी नजर, हर हॉस्पिटल का निर्धारित होगा कोटा

- प्रभारी अधिकारी को मिली थी खामियां, नए स्तर से होगी मॉनीटरिंग

LUCKNOW: हॉस्पिटलों में अब किसी भी रूप में ऑक्सीजन की बर्बादी नहीं हो सकेगी। इसकी वजह यह है कि हॉस्पिटलों में ऑक्सीजन की बर्बादी रोकने के लिए एक्शन प्लान तैयार किया गया है। एक तरफ जहां ऑक्सीजन खपत का ऑडिट कराया जाएगा। वहीं दूसरी तरफ तीन सदस्यीय टीम जहां सभी हॉस्पिटलों में ऑक्सीजन की खपत पर नजर रखेगी। वहीं इसके साथ ही यह भी व्यवस्था बनाई जा रही है कि सभी हॉस्पिटलों के लिए ऑक्सीजन की मांग का कोटा निर्धारित किया जाएगा, जिससे जरूरत के हिसाब से ही ऑक्सीजन मिल सकेगी।

ये रहेगी टीम

प्रभारी अधिकारी कोविड 19 डॉ। रोशन जैकब की ओर से स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि तीन सदस्यीय टीम में डॉक्टरए औषधि निरीक्षक व एक एनेस्थेटिक रहेंगे, जो ऑक्सीजन की खपत पर नजर रखेंगे। समय समय पर टीम की ओर से हॉस्पिटल्स का औचक निरीक्षण भी किया जाएगा, जिससे सारी तस्वीर साफ हो जाएगी। वहीं शहर के सात ऑक्सीजन प्लांटों को क्षेत्रवार हॉस्पिटल आवंटित किए जाएंगे, जिससे ऑक्सीजन सप्लाई संबंधी एक्युरेट डेटा सामने आ सकेगा।

मिली थी खामियां

हाल में ही प्रभारी अधिकारी ने कई हॉस्पिटल्स का निरीक्षण किया था, जिसमें उन्होंने पाया था कि पेशेंट्स के मुकाबले ऑक्सीजन की खपत अधिक हो रही है। मतलब एडमिट पेशेंट्स की संख्या कम है और ऑक्सीजन की खपत अधिक हो रही है। इस मामले को उन्होंने बेहद गंभीरता से लिया था और तत्काल इस पर रोक लगाने के लिए कदम उठाए हैं।

ऑक्सीजन प्लांट पर भी नजर

शहर में स्थित ऑक्सीजन प्लांट पर भी नजर रखने की तैयारी की गई है। इसके तहत सभी ऑक्सीजन प्लांट की प्रतिदिन के हिसाब से रिपोर्ट बनवाई जाएगी, जिससे साफ हो जाएगा कि किस ऑक्सीजन प्लांट से प्रतिदिन कितनी ऑक्सीजन की सप्लाई हो रही है। वहीं यह भी स्पष्ट हो जाएगा कि कौन कौन से हॉस्पिटल्स कितनी ऑक्सीजन ले रहे हैं। जब इसके आधार पर ऑडिट होगा तो ऑक्सीजन खपत संबंधी डेटा खुद ब खुद साफ हो जाएगा।

ऑक्सीजन फ्लो पर भी नजर

प्रभारी अधिकारी ने यह भी निर्देश दिए हैं कि ऑक्सीजन फ्लो पर भी नजर रखी जाए। पेशेंट की जरूरत के हिसाब से फ्लो रखा जाए। बेवजह हाई फ्लो ऑक्सीजन यूज करके उसे बर्बाद न किया जाए। जब प्रभारी अधिकारी ने कई हॉस्पिटल्स का निरीक्षण किया था तो उन्होंने पाया था कि कई जगह हाई फ्लो ऑक्सीजन का यूज हो रहा है तो कहीं लो फ्लो, इसको लेकर उन्होंने इस समस्या को समाप्त करने के निर्देश दिए हैं।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.