केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 2020 में यात्रियों की सुरक्षा के लिए सार्वजनिक यात्री वाहनों में व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम लगाने की मंजूरी दी थी। दो साल बाद प्रदेश सरकार ने बजट मंजूर किया है।


लखनऊ (ब्यूरो)। ट्रेन की तर्ज पर यात्री वाहनों की लोकेशन पर भी नजर रखी जाएगी, इसके लिए सार्वजनिक यात्री वाहनों में वीटीएस और पैनिक बटन लगाए जाएंगे। इसके लिए प्रदेश सरकार ने छह करोड़ रुपये की मंजूरी बजट में दी है। परिवहन विभाग मुख्यालय पर एक साल के अंदर कमांड सेंटर तैयार किया जाएगा। यहां से यात्री वाहनों पर नजर रखी जाएगी। दरअसल प्रदेश सरकार ने अपने बजट में परिवहन विभाग को 546 करोड़ रुपये दिए हैं। इनमें परिवहन निगम को 120 करोड़ रुपये मिले हैं।इन वाहनों में लगेंगे वीटीएस- रोडवेज बस -नगर बस- थ्री व्हीलर- सीएनजी टेंपो- टैक्सी कैबदो साल बाद मिली मंजूरी


केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 2020 में यात्रियों की सुरक्षा के लिए सार्वजनिक यात्री वाहनों में व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम लगाने की मंजूरी दी थी। दो साल बाद प्रदेश सरकार ने बजट मंजूर किया है। सार्वजनिक यात्री वाहनों में वीटीएस के साथ पैनिक बटन भी लगेगा। यह पैनिक बटन कमांड सेंटर के साथ डायल 100 से लिंक होगा।किस मद में कितना पैसा होगा खर्च- 100 करोड़ यूपी परिवहन और उत्तराखंड के बीच संपत्ति बंटवारे में- 20 करोड़ से जर्जर बस अड्डे का निर्माण और नए बस अड््डे बनेंगे

- 49 करोड़ सड़क हादसे कम करने के लिए- पांच करोड़ वर्ड बैंक की परियोजनाओं से जुड़े कार्यो पर- आठ करोड़ आरटीओ कार्यालय के भवन निर्माण पर खर्चसार्वजनिक वाहनों की लोकेशन पर नजर रखने के लिए वीटीएस लगाना अनिवार्य होगा। इसके लिए जल्द ही गाइडलाइन जारी की जाएगी।-धीरज साहू, परिवहन आयुक्त मुख्यालय, लखनऊ*************************************************चारबाग में एफओबी, लिफ्ट और एस्केलेटर सुविधा जल्द

चारबाग रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों के लिए राहत की खबर है। यात्रियों को एक प्लेटफार्म से दूसरे तक जाने के लिए अब परेशान नहीं होना पड़ेगा। चारबाग में यात्रियों की सुविधा के लिए दो नए फुट ओवर ब्रिज पर लिफ्ट और दो से सात नंबर तक प्लेटफार्म पर स्वचलित सीढिय़ां यानी एस्केलेटर लगेगा। उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल ने लिफ्ट, एस्केलेटर की डिजाइन को मंजूरी दे दी है। अब स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर छह और सात पर इसका निर्माण भी शुरू हो गया है। यात्रियों को अगस्त में इसकी सुविधाएं मिलना शुरू हो जाएंगी। उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के डीआरएम सुरेश सपरा ने बताया कि नए फुट ओवर ब्रिज पर आवागमन करने वाले यात्रियों को अब परेशानी नहीं होगी। नए फुट ओवर ब्रिज के सभी प्लेटफॉर्म पर लिफ्ट और एस्केलेटर की सुविधा होगी। खास बात यह है कि प्लेटफार्म पर आवागमन करने वाले बुजुर्ग व महिला यात्री के अलावा दिव्यांगजनों की परेशानी दूर होगी। सबसे पहले प्लेटफार्म नंबर छह और सात पर लिफ्ट और एस्केलेटर लगाया जाएगा। इसके लिए नक्शा पास हो गया है। जुलाई अंत तक काम पूरा होगा और अगस्त में यात्रियों को लिफ्ट और एस्केलेटर सुविधा मिलने लगेगी।

Posted By: Inextlive